मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद

12 ज्योतिर्लिंगों में मल्लिकार्जुन ही एकमात्र ऐसा ज्योतिर्लिंग है जहां भगवान शिव और शक्ति यानी माता पार्वती दोनों ही एक साथ विराजमान हैं। इसलिए इस ज्योतिर्लिंग की मान्यता और बढ़ जाती है। इसे दक्षिण का कैलाश भी कहा जाता है।
मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद

सावन में 12 ज्योतिर्लिंगों में से किसी भी एक के दर्शन मात्र से सभी कष्ट मिट जाते हैं और संपूर्ण मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
नागेश्वर ज्योतिर्लिंग: जानिये आखिर क्यों पार्वती ने शिव से मांगा था राक्षसों के लिए वरदान, ऐसा क्या है मंदिर का रहस्य

12 ज्योतिर्लिंगों में मल्लिकार्जुन ही एकमात्र ऐसा ज्योतिर्लिंग है जहां भगवान शिव और शक्ति यानी माता पार्वती दोनों ही एक साथ विराजमान हैं। इसलिए इस ज्योतिर्लिंग की मान्यता और बढ़ जाती है। इसे दक्षिण का कैलाश भी कहा जाता है।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग: आस्था की ऐसी कहानी जहां दो भागों में विभक्त है ज्योतिर्लिंग, रात्रि विश्राम करते हैं शिव-पार्वती

महाभारत के अनुसार मान्यता है कि श्रीशैल पर्वत पर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से अश्वमेध यज्ञ करने जितना फल प्राप्त होता है। मंदिर के निकट ही 51 शक्तिपीठों में से एक माता जगदम्बा का मंदिर है। माता पार्वती यहां ब्रह्मराम्बा या ब्रह्मराम्बिका कहलाती है। मान्यता ये भी है कि यहां बहने वाली कृष्णा नदी को पाताल गंगा भी कहा जाता है।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग: उज्जैन स्थित मंदिर में हर रोज क्यूँ की जाती है भस्म आरती, जाने कथा महाकाल की

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग की कथाएं व मान्यताएं :-

कथाओं के अनुसार भगवान शंकर के दोनों पुत्रों भगवान गणेश और भगवान कार्तिकेय के बीच पहले शादी करने को लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। कि मेरा विवाह पहले होगा। हमने कई बार अपने घरों में बड़े बुजुर्गों से ये कहानी सुनी होगी कि नारद जी द्वारा बतलाये गये सुझाव की जो सबसे पहले पृथ्वी के तीन चक्कर लगाकर आएगा वही विजेता घोषित होगा और उसकी पहले शादी करा दी जाएगी।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग: गौतम ऋषि और गंगा नदी से जुड़ी है इसकी कथा, यहां पूजा करने से मिलती है काल सर्प दोष से मुक्ति

इस बात को लेकर दोनों भाइयों के बीच श्रेष्ठता को लेकर स्पर्धा शुरू हो गई। ओर कार्तिकेय अपने वाहन मयूर पर बैठ कर परिक्रमा करने निकल पड़े। और इधर भगवान गणेश रास्ते में अपने वाहन मूसक की वजह से चिंतित लग रहे थे। तभी भगवान नारद ने गणेश जी को बतलाया कि आपके माता-पिता के शरीर में ही सब तीर्थ रहते हैं।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग: ऐसा ज्योतिर्लिंग जिसकी महिमा से नि:संतान को भी होते हैं संतान, जानें इसके पीछे का इतिहास

आप उन्हीं के दर्शन व पूजन कर उनकी परिक्रमा करें। तब वो रास्ते से ही वापस लौट कर आ गये। ओर एक ऊंचे स्थान पर आसान बिछा कर भगवान शंकर माता पार्वती को आसान पर बिठा कर उनके चरणों में पुष्प अर्पित कर। उनकी 7 बार परिक्रमा पूरी कर आशीर्वाद प्राप्त किया। और रिद्धि-शिद्धि से विवाह किया। तभी से ऐसा माना जाता है कि जो भी अपने माता पिता के 7 बार परिक्रमा करेगा उसे पृथ्वी की 3 परिक्रमा जितना फल प्राप्त होगा।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग: अद्भुत मान्यताओं से जुड़ा है यह ज्योतिर्लिंग, जिसकी स्थापना स्वयं प्रभु श्रीराम ने की थी

जब कार्तिकेय परिक्रमा कर वापस आये तो गणेश जी को विवाहित देख कर अत्यंत क्रोधित होकर 'क्रोंच' पर्वत पर आकर रहने लगे। कई देवताओं द्वारा उनके लौट आने की गई चेष्टा की किन्तु भगवान कार्तिकेय नही माने।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
सोमनाथ ज्योतिर्लिंग: पृथ्वी के सभी ज्योतिर्लिंगों में से प्रथम है सोमनाथ, जानें इसके पीछे की पौराणिक कथा

तब भगवान शिव और माता पार्वती पुत्र वियोग में दोनों क्रोंच पर्वत की ओर चल पड़े। माता पिता के आगमन की जानकारी पा कर कार्तिकेय ओर दूर चले गए। अंत में पुत्र दर्शन की लालसा में भगवान शिव वहां ज्योति रूप में उसी पर्वत पर रहने लगे। मान्यता है कि अमावस्या को भगवान शिव और पूर्णिमा को माता पार्वती वहाँ स्वयं आती हैं।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
काशी विश्वनाथ: पार्वती जी के लिए काशी आए थे शिव शंकर, जानें कैसे हुए ज्योतिर्लिंग के रूप में स्थापित

तभी से इसका नाम ज्योतिर्लिंग बोला जाने लगा। बताया जाता है कि राजा चंद्रगुप्त की पुत्री किसी विपत्ति से बचने के लिए उसी पर्वत पर रहती थी और वही उसे ज्योतिर्लिंग मिला। तभी से वो आजीवन शिव भक्त हो गई और भव्य मलिकार्जुन मंदिर का निर्माण करया । यहां पूजा अर्चना करने से विवाह और दाम्पत्य जीवन में सुख मिलता है।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
केदारनाथ धाम: 'पंच केदार' की ऐसी अनोखी कहानी जब भूमि में समा गए थे शिव..

मल्लिकार्जुन में दर्शन का समय :-

मल्लिकार्जुन मंदिर रोजाना सुबह 4:30 बजे से रात के 10 बजे तक खुला रहता है। भक्तों के लिए दर्शन करने का समय सुबह 6:30 बजे से दोपहर 1 बजे तक रहता है। वहीं शाम को 6:30 बजे से 9 बजे तक यहां ज्योतिर्लिंग के दर्शन होते हैं।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग: रावण की गलती से हुई से इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना, कांवड़ के जल से यहाँ होता है अभिषेक
मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद
भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग: कुंभकरण के बेटे से जुड़ी है कथा, मात्र दर्शन से सभी कष्टों का होता है निवारण

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news