अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय कोरोना की चपेट में

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के 40 से अधिक सेवारत और सेवानिवृत्त संकाय सदस्यों के अलावा कई गैर-शिक्षण कर्मचारियों ने कोविड के कारण अपनी जान गंवा दी है। इतना ही नहीं, प्रत्येक दिन इसका ग्राफ ऊपर की ओर जा रहा है।
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय कोरोना की चपेट में

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के 40 से अधिक सेवारत और सेवानिवृत्त संकाय सदस्यों के अलावा कई गैर-शिक्षण कर्मचारियों ने कोविड के कारण अपनी जान गंवा दी है। इतना ही नहीं, प्रत्येक दिन इसका ग्राफ ऊपर की ओर जा रहा है। कुलपति तारिक मंसूर ने कोरोना के चलते कुछ दिन पहले अपने बड़े भाई को खो दिया। शनिवार को विधि संकाय के डीन की कोरोना से मृत्यु हो गई।

एएमयू के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में बड़ी संख्या में कर्मचारी उपचार के लिए भर्ती हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता प्रो जसीम मोहम्मद ने आईएएनएस को बताया, "विश्वविद्यालय प्रशासन विफल हो गया है, मेडिकल कॉलेज प्रणाली ध्वस्त हो गई है। वीसी ने ऑक्सीजन की मांग करने की भी जहमत नहीं उठाई है। उन्होंने किसी भी क्वार्टर से मदद नहीं मांगी है। एक सौ लोग पहले ही मर चुके हैं। एक महीने में अगर स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो 100 और मौतें हो सकती हैं।"

मौतों की संख्या बहुत अधिक हो सकती है, लेकिन विश्वविद्यालय के अधिकारी ने सटीक संख्या नहीं बताई।

कैंपस सुनसान है और यहां कोई कक्षाएं नहीं हो रही हैं। विश्वविद्यालय के एक अधिकारी जीशान ने कहा कि अधिकांश छात्रावास छोड़ चुके हैं।

कई संकाय सदस्यों ने अलीगढ़ छोड़ दिया है। तमिलनाडु में अब एक सदस्य ने आईएएनएस को बताया, "महामारी अपने पंखों को फैला रहा है। यहां लोग मनोवैज्ञानिक रूप से टूट चुके हैं।"

अलीगढ़ छोड़ने वाले कुछ सेवानिवृत्त फैकल्टी सदस्यों की उनके होमटाउन भोपाल, हैदराबाद जैसे शहरों में मृत्यु हो गई है।

जसीम ने आरटीआई के जरिए वीसी से महत्वपूर्ण जानकारी मांगी है। उन्होंने वीसी से दवाओं, ऑक्सीजन, एंबुलेंस आदि की कमी के बारे में पूछा है।

स्थानीय लोगों का आरोप है कि विश्वविद्यालय प्रशासन ने तमाम संसाधनों के बावजूद लापरवाही की।

कोई विशेष तंत्र या व्यवस्था नहीं की गई है। संक्रमण के डर के कारण लोग टीकाकरण के लिए मेडिकल कॉलेज जाने से कतरा रहे हैं।

अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि मृतकों में से कितने का टीकाकरण किया गया था, हालांकि यह व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है कि कोविड-रुग्णता और उम्र के कारण कुछ मौतें हुई हैं।

जिला प्रशासन के अनुसार, 8 मई को, 417 ताजा मामले थे, 295 को छुट्टी दे दी गई थी। स्थानीय चिकित्सकों ने पुष्टि की कि स्थिति वास्तव में चिंताजनक है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news