पूरे देश में हो रहा कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा- वैक्सीन पर अफवाहों से बचें

पूरे देश में हो रहा कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा- वैक्सीन पर अफवाहों से बचें

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक देश के कुल 116 जिलों में 259 जगहों पर आज COVID-19 वैक्सीन के लिए ड्राई किया जा रहा है। शुक्रवार को ही केंद्र सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट के वैक्सीन कोविशील्ड को अनुमति दी है।

आज देश के हर राज्य में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन किया जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक सभी राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के कुल 116 जिलों में 259 जगहों पर आज COVID-19 वैक्सीन के लिए ड्राई किया जा रहा है। शुक्रवार को ही केंद्र सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट के वैक्सीन कोविशील्ड को अनुमति दी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने खुद दिल्ली के जीटीबी अस्पताल जाकर ड्राई रन का जायजा लिया। उन्होंने यहां कहा कि देश को टीकाकरण का अनुभव है और ये वैक्सीन जनता की सुरक्षा के लिए है, इसे लेकर कोई गलतफहमी न रखें। बता दें कि दिल्ली में आज तीन जगहों पर वैक्सीन का ड्राई रन (Dry Run of Covid Vaccine) हो रहा है। बता दें कि दिल्ली में ड्राई रन के लिए साउथ वेस्ट जिले में द्वारका के वेंकटेश्वर हॉस्पिटल को चुना गया है। जबकि सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट में दरियागंज डिस्पेंसरी को चुना गया है। वहीं, शहादरा जिले में दिलशाद गार्डन के गुरु तेग बहादुर हॉस्पिटल (GTB Hospital) में ड्राई रन किया जा रहा है।

हर राज्य की राजधानी में कम से कम तीन सेंटर्स पर ड्राई रन किया जाना है। कुछ राज्य उन इलाकों को भी ड्राई रन में शामिल करेंगे, जो दुर्गम हों और जहां सामान की आवाजाही में मुश्किल हो। महाराष्ट्र और केरल समेत कई राज्य राजधानी के अलावा भी अन्य बड़े शहरों में ड्राई रन करेंगे।

कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर गुरुवार को एक अच्छी खबर आई है। चार राज्यों में कोरोना वायरस टीकाकरण का ड्राय रन करने के बाद अब केंद्र सरकार देशभर में इसी तरह के अभ्यास आयोजित करने की योजना बना रही है। 

ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि वैक्सीन को उपयोग के लिए मंजूरी मिलने के बाद मेगा ड्राइव को आसानी से किया जा सके।

सभी राज्यों की राजधानी की कम से कम तीन सेशन साइट पर इस अभ्यास को किया जाएगा। इसमें कुछ राज्यों के ऐसे जिले भी शामिल होंगे जो बेहद दूर हैं या जहां लॉजिस्टिक्स सपोर्ट खराब है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को सभी राज्यों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की है।

अधिकारी ने कहा, 'हम हर राज्य में कम से कम दो साइटें देख रहे हैं, जहां पर्याप्त लाभार्थियों को नामांकित किया जा सकता है।' इस बैठक के बाद मंत्रालय ने दो जनवरी से भारत में वैक्सीन का ड्राय रन किए जाने का फैसला लिया है। 

इससे पहले दो दिन 29 और 29 दिसंबर को देश के चार राज्यों में ड्राय रन किया जा चुका है। पंजाब, असम, गुजरात और आंध्र प्रदेश में ड्राय रन किया गया था। चारों राज्यों में इसके अच्छे परिणाम सामने आए थे जिसके बाद सरकार ने अब पूरे देश में ड्राय रन का फैसला किया है।

क्या होता है ड्राय रन

स्वास्थ्य मंत्रालय के निर्देशों के अनुसार, ड्राय रन में राज्यों को अपने किन्हीं दो शहरों को चिन्हित करना होता है।

इन शहरों में वैक्सीन के शहर में पहुंचने, अस्पताल तक जाने, लोगों को बुलाने, फिर डोज देने की पूरी प्रक्रिया का पालन इस तरह किया जाता है जैसे टीकाकरण कार्यक्रम हो रहा हो।

साथ ही सरकार ने कोरोना वैक्सीन के लिए जिस कोविन मोबाइल एप को बनाया है, उसका भी ट्रायल किया जाएगा। इस दौरान जिन लोगों को वैक्सीन दी जानी है उन्हें SMS भेजा जाता है। इसके बाद अधिकारियों से लेकर स्वास्थ्यकर्मी टीकाकरण का कार्य करेंगे।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news