कोरोना संक्रमण में कम्युनिटी ट्रांसमिशन न मानना सरकार की सबसे बड़ी भूल, 6 हफ्तों में 10 करोड़ तक पहुंच सकते हैं मामले: एक्सपर्ट्स
Corona Virus Update

कोरोना संक्रमण में कम्युनिटी ट्रांसमिशन न मानना सरकार की सबसे बड़ी भूल, 6 हफ्तों में 10 करोड़ तक पहुंच सकते हैं मामले: एक्सपर्ट्स

कोरोना को लेकर वैज्ञानिकों ने बेहद खतरनाक संकेत दिए हैं. चेतावनी दी है कि ऐसा रहा तो भारत डेली केस के मामले में ब्राजील से भी आगे निकल जाएगा. संक्रमण की रफ्तार के बावजूद सरकार के कम्युनिटी ट्रांसमिशन को न मानना एक्सपर्ट्स को मुश्किल में डाल रहा है.

Yoyocial News

Yoyocial News

देश में कोरोना ने भयावह रूप ले लिया है. दिन पर दिन स्थिती और डराने वाली होती जा रही है. कोरोना संक्रमण अपनी रफ्तार पकड़े हुए है और लोग अब भी इसे गंभीरता से लेते हुए नहीं दिखाई दे रहे हैं. इस बीच वैज्ञानिकों ने बेहद खतरनाक संकेत दिए हैं. देश के कुछ वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि ऐसा ही रहा तो भारत डेली केस के मामले में ब्राजील से भी आगे निकल जाएगा.

संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के बावजूद सरकार के कम्युनिटी ट्रांसमिशन की बात को न मानना एक्सपर्ट्स को मुश्किल में डाल रहा है. ग्लोबल हेल्थ में शोधकर्ता और पुणे में डॉक्टर अनंत भान बताते हैं "कम्युनिटी ट्रांसमिशन की बात को स्वीकार करने से पॉलिसी बनाने वाले लोग असहज हो जाते हैं. ऐसा तब नहीं होना चाहिए, जब लगातार ज्यादा लोग पॉजिटिव मिल रहे हों."

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंसेज ने अनुमान लगाया है कि भारत में 1 सितंबर तक कोरोना के 35 लाख मामले हो सकते हैं. अमेरिका के एपेडेमियोलॉजिस्ट भ्रमर मुखर्जी ने वेबसाइट द वायर से बातचीत में बताया कि यह संभावित है कि भारत में पहले से ही 3 करोड़ पॉजिटिव मामले हैं और अगले 6 हफ्तों में यह बढ़कर यह 10 करोड़ तक पहुंच सकते हैं.

उन्होंने कहा "इसमें कोई शक नहीं है कि भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है. मैं यह जानना चाहूंगा कि साइंटिस्ट इस बात को कैसे साबित करते हैं कि कोई कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं है."

वेलोर स्थित क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज में एपेडेमियोलॉजिस्ट जयप्रकाश मुलियिल के मुताबिक, 'कुछ नेताओं को इस बात की चिंता है कि कम्युनिटी ट्रांसमिशन की बात स्वीकार करने को इस तरह से समझा जाएगा कि सरकार संक्रमण रोकने में सक्षम नहीं है. इसके अलावा लॉकडाउन के दौरान वायरस रोकने के लिए किए गए सभी उपाय असफल रहे."

अब तक केवल केरल, पश्चिम बंगाल और असम सरकार ने अपने राज्यों में कम्युनिटी ट्रांसमिशन की बात स्वीकार की है. स्वास्थ्य मंत्रालय के डाटा में पाया गया है कि 86 प्रतिशत कोविड 19 संक्रमण देशभर के 29 में से 10 राज्यों से आया है.

इसके अलावा हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव भी कम्युनिटी ट्रांसमिशन की बात को नकार चुके हैं. उन्होंने कहा "भारत कम्युनिटी ट्रांसमिशन में नहीं है. एक यही टर्म है जिसका उपयोग किया जाता है. हमें टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रैकिंग और क्वारैंटाइन की रणनीति को जारी रखना होगा और कंटेनमेंट उपायों को बनाए रखना होगा, जो अब तक सफल रहे हैं."

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news