यूपी में कोरोना का रौद्र रूप, बीते 24 घंटे में 38,055 नए संक्रमित

यूपी में कोरोना का रौद्र रूप, बीते 24 घंटे में 38,055 नए संक्रमित

कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर यूपी में हर रोज ही अपना रौद्र रूप दिखा रही है। प्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना वायरस से 38,055 नए संक्रमित सामने आए हैं। इसी बीच में 223 लोगों की सांसे भी थम गई हैं।

कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर यूपी में हर रोज ही अपना रौद्र रूप दिखा रही है। प्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना वायरस से 38,055 नए संक्रमित सामने आए हैं। इसी बीच में 223 लोगों की सांसे भी थम गई हैं।

उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि बीते 24 घंटे में इलाज के बाद 23,231 लोगों को अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया है। नए मामले सामने आने के बाद इस समय प्रदेश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 2,88,144 है और अब तक 10959 लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक कोरोना संक्रमण से कुल 7,52,211 लोग ठीक भी हो चुके हैं। कल प्रदेश में 2,25,960 सैंपल्स की जांच की गई। अब तक प्रदेश में 3,95,40,989 सैंपल्स की जांच की गई है।

लखनऊ में बीते 24 घंटे में 42 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 5461 नए संक्रमित मिले हैं। लखनऊ में फिलहाल 53143 एक्टिव केस हैं और कुल मिलाकर 1648 लोगों की मौत हो चुकी है। वाराणसी में 2786 नए संक्रमित मिले हैं जबकि दस लोगों ने 24 घंटे में दम तोड़ा है। कानपुर में 13 लोगों की मौत हुई है और 2040 संक्रमित मिले हैं।

प्रयागराज में लखनऊ के बाद सर्वाधिक 15 मौत हुई हैं। यहां पर 1468 नए संक्रमित मिले हैं। आगरा में 11 लोगों की मौत हो गई है जबकि 24 घंटे में 409 नए संक्रमित केस सामने आए हैं। मेरठ में 1745, मुरादाबाद में 1351, गोरखपुर में 1344, बरेली में 1024, गौतमबुद्धनगर में 970, झांसी में 955, गाजीपुर में 940, जौनपुर में 732, लखीमपुर खीरी में 644, गाजियाबाद में 585, चंदौली में 522 तथा शाहजहांपुर में 501 नए संक्रमित मिले हैं।

प्रदेश में अब तक 96,79,557 लोगों को कोरोना वायरस वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है। इसके साथ ही वैक्सीन की दूसरी डोज अब तक 19,43,675 लोग ले चुके हैं।

अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि, "प्रदेश में रेमडेसिविर के अब तक 18,000 इंजेक्शन प्राप्त हुए हैं। रेमडेसिविर के इंजेक्शन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि डॉक्टर की दवा की पर्ची दिखाने पर ऑक्सीजन सिलेंडर दिया जाए ताकि होम आइसोलेशन में लोगों को परेशानी न हो। प्रदेश में ऑक्सीजन के लिए नियंत्रण कक्ष खोला गया है। जिसके माध्यम से अस्पतालों को कब, कहां, कितनी ऑक्सीजन जा रही है, इसकी निगरानी की जा रही है। ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है।"

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news