Parenting Tips: बच्चे के संकोची स्वभाव से हैं परेशान, तो इन तरीकों से बनाएं उसे सोशली एक्टिव

वह ज्यादा लोगों को देखकर घबराने लगते (panic) हैं, उस जगह से उठकर चले जाते हैं या सिर नीचे करके बैठे रहते हैं. ऐसे में मां-बाप (parents) बच्चे के इस स्वभाव से परेशान होने लगते हैं, उन्हें चिंता होने लगती है भविष्य की.
Parenting Tips: बच्चे के संकोची स्वभाव से हैं परेशान, तो इन तरीकों से बनाएं उसे सोशली एक्टिव

सभी बच्चे एक जैसे नहीं होते हैं, हर बच्चे का स्वभाव अलग होता है, जैसे- कई बच्चे बहुत जल्दी लोगों से घुल-मिल जाते हैं बातचीत करने लगते हैं, जबकि कुछ ऐसे होते हैं, जो जल्दी किसी से बात नहीं करते हैं. क्योंकि वह संकोची और शर्मीले (introvert child) होते हैं.

वह ज्यादा लोगों को देखकर घबराने लगते (panic) हैं, उस जगह से उठकर चले जाते हैं या सिर नीचे करके बैठे रहते हैं. ऐसे में मां-बाप (parents) बच्चे के इस स्वभाव से परेशान होने लगते हैं, उन्हें चिंता होने लगती है भविष्य की. लेकिन अब आपको इस बात को लेकर परेशान होने की बजाय, यहां दिए गए कुछ सॉल्यूशंस (solutions) पर आज से अमल कर देना शुरू कर देना चाहिए. फिर देखिए कैसे आपका लाडला व लाडली सामाजिक (socially active child) रूप से सक्रिय होते हैं. 

इन तरीकों से बच्चे को बनाएं सोशल

घुलने मिलने को कहें 

जब आपका बच्चा संकोची स्वभाव का हो तो उसे लोगों से मिलने जुलने को लेकर मोटीवेट करें. उसे लोगों से बातचीत करना कितना जरूरी है के बारे में बताएं. उसे समझाएं की जब आपके जान पहचान का कोई व्यक्ति मिले तो उसे ग्रीट जरूर करें.

शेयरिंग की आदत डालो 

मां बाप को बच्चों में शेयरिंग करने की आदत बचपन से डालनी शुरू कर देनी चाहिए. उन्हें बताना चाहिए की कोई भी चीज वो अपने छोटे भाई बहन और दोस्तों से साझा करके खाएं. इससे भी बच्चा थोड़ा लोगों के सामने खुलेगा.

उसके साथ बात करें 

बच्चा आपका जब इंट्रोवर्ट स्वभाव का हो तो उससे बातचीत ज्यादा करें, ताकि वह अपनी बात रखे इससे उसका शब्दकोश भी अच्छा होगा. आप उसे कहानी और मोरल स्टोरीज सुनाएं फिर उस पर उसके विचार जानें. इसके अलावा आप उसे स्कूल में होने वाली एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज में भाग लेने के लिए भी प्रेरित कर सकती हैं.

दोस्त बनाने के लिए कहें 

इन सबके अलावा आप अपने बच्चे को दोस्त बनाने के लिए मोटिवेट करें. उसे समझाएं की दोस्ती कितनी मूल्यवान है. आप उन्हें सामाजिक रूप से जागरूक होना कितना जरूरी है बताएं.

उनकी स्ट्रेंथ को जानें 

आप चाहते हैं कि बच्चा कॉन्फीडेंट रहे तो, इसके लिए आप उसकी स्ट्रेंथ (strength) के बारे में जानने की कोशिश करें. आप जानें की उसका इंट्रेस्ट किसमें है और उसे क्या चीजें पसंद हैं, फिर उन स्किल्स पर आप काम करें. आप समय-समय पर उसकी तारीफ करें, ताकि बच्चा कुछ नया करने के लिए प्रेरित हो.

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news