THE QUIRKY NAARI: पुराने कबाड़ को आर्ट में बदलकर शुरू किया बिजनेस, शार्क टैं‍क से भी मिल चुकी है फंडिंग

शार्क टैं‍क में अपना आइडिया पिच करने के बाद उन्‍हें 35 लाख रुपए की फंडिंग भी मिली.
THE QUIRKY NAARI: पुराने कबाड़ को आर्ट में बदलकर शुरू किया बिजनेस, शार्क टैं‍क से भी मिल चुकी है फंडिंग

इंस्‍टाग्राम पर एक पेज है The Quirky Naari . स्‍क्रॉल करते हुए आंखें उस पेज पर बिलकुल ठिठक जाती हैं, जैसे किसी ने फेविकॉल से चिपका दिया हो. एक-एक तस्‍वीर पर आप देर तक रुके रहते हैं. इतने चमकीले, तीखे, चटख रंग कि आंखें चमक उठें.

एक नीले रंग के जूते पर लिखा है- “आय टेक नैप्‍स, नॉट सेल्‍फीज.” एक पर्स पर फ्रीडा काल्‍हो की तस्‍वीर बनी है और लिखा है- “In a world full of Kardishians, be Frida.” (कार्दिशियंस से भरी दुनिया में फ्रीडा बनो.)

जो मोहित करने वाली खुशी उस तस्‍वीरों को देखते हुए होती है, वह अचानक सुखद आश्‍चर्य में बदल जाती है, जब पता चलता है कि एक लड़की ने ये सारे जूते, पर्स और जैकेट अपने हाथों से पेंट किए हैं.

ये चित्र, ये कहानियां, ये तस्‍वीरें, किसी मशीन का कमाल नहीं, बल्कि 32 साल की एक लड़की की उंगलियों का जादू है.

The Quirky Naari की फाउंडर मालविका सक्‍सेना ने अपने हाथों की कला को एक बिजनेस आइडिया में बदल दिया. शार्क टैं‍क में अपना आइडिया पिच करने के बाद उन्‍हें 35 लाख रुपए की फंडिंग भी मिली. मार्केटिंग में अब तक एक रुपए भी खर्च नहीं किए, लेकिन अब दूर-दूर तक लोग मालविका का नाम जानने लगे हैं.

उनके डिजाइन किए जूते रवीना टंडन, सनी लिओन, अदा शर्मा और रुबीना दिलक तक पहन चुकी हैं. आज मालविका और द क्‍वर्की नारी एक जाना-माना नाम है, लेकिन उत्‍तर प्रदेश के एक छोटे से शहर की एक गुमनाम सी लड़की के यहां तक पहुंचने का सफर आसान नहीं रहा है.

मालविका को खुद को पाने के लिए एक लंबी यात्रा तय करनी पड़ी और अब उस यात्रा से गुजर चुकने के बाद वो बिना संकोच या डर के खुलकर इस बारे में बात भी करती हैं.

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news