चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि के आखिरी दिन करें माता सिद्धिदात्री की पूजा, इस मंत्र का करें जाप

चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि के आखिरी दिन करें माता सिद्धिदात्री की पूजा, इस मंत्र का करें जाप

मां दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं। नवरात्रि-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है।
Vivek Mishra

मां दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं। नवरात्रि-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है। इस दिन शास्त्रीय विधि-विधान और पूर्ण निष्ठा के साथ साधना करने वाले साधक को सभी सिद्धियों की प्राप्ति हो जाती है।

चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि के आखिरी दिन करें माता सिद्धिदात्री की पूजा, इस मंत्र का करें जाप
कल है रामनवमी, जानिए इसका महत्व, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

सृष्टि में कुछ भी उसके लिए अगम्य नहीं रह जाता है। ब्रह्मांड पर पूर्ण विजय प्राप्त करने की सामर्थ्य उसमें आ जाती है।नवदुर्गाओं में मां सिद्धिदात्री अंतिम हैं।

चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि के आखिरी दिन करें माता सिद्धिदात्री की पूजा, इस मंत्र का करें जाप
जानिए आखिर नवरात्रि पर ही क्यों की जाती कन्या पूजा, साथ में क्यूँ होता है एक लड़के का पूजन भी

मां सिद्धिदात्री चार भुजाओं वाली हैं। इनका वाहन सिंह है। ये कमल पुष्प पर भी आसीन होती हैं। इनकी दाहिनी तरफ के नीचे वाले हाथ में कमलपुष्प है।

माँ की उपासना के मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु मां सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

या देवी सर्वभू‍तेषु मां सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि के आखिरी दिन करें माता सिद्धिदात्री की पूजा, इस मंत्र का करें जाप
देवी के इन 9 रूपों को समर्पित है चैत्र नवरात्र, जाने सभी दिनों का महत्व और उनकी महिमा

माँ महागौरी की कथा :-

मां सिद्धिदात्री भक्तों और साधकों को ये सभी सिद्धियां प्रदान करने में समर्थ हैं। देवीपुराण के अनुसार भगवान शिव ने इनकी कृपा से ही इन सिद्धियों को प्राप्त किया था। इनकी अनुकम्पा से ही भगवान शिव का आधा शरीर देवी का हुआ था। इसी कारण वे लोक में 'अर्द्धनारीश्वर' नाम से प्रसिद्ध हुए।

चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि के आखिरी दिन करें माता सिद्धिदात्री की पूजा, इस मंत्र का करें जाप
जानिए काँगड़ा देवी के बारे में, ये माता के 51 शक्तिपीठों में से एक शक्तिपीठ है

प्रत्येक मनुष्य का यह कर्तव्य है कि वह मां सिद्धिदात्री की कृपा प्राप्त करने का निरंतर प्रयत्न करें। उनकी आराधना की ओर अग्रसर हो। इनकी कृपा से अनंत दुख रूप संसार से निर्लिप्त रहकर सारे सुखों का भोग करता हुआ वह मोक्ष को प्राप्त कर सकता है।

सिद्धिदात्री मां के कृपापात्र भक्त के भीतर कोई ऐसी कामना शेष बचती ही नहीं है, जिसे वह पूर्ण करना चाहे। वह सभी सांसारिक इच्छाओं, आवश्यकताओं और स्पृहाओं से ऊपर उठकर मानसिक रूप से मां भगवती के दिव्य लोकों में विचरण करता हुआ उनके कृपा-रस-पीयूष का निरंतर पान करता हुआ, विषय-भोग-शून्य हो जाता है।

मां भगवती का परम सान्निध्य ही उसका सर्वस्व हो जाता है। इस परम पद को पाने के बाद उसे अन्य किसी भी वस्तु की आवश्यकता नहीं रह जाती।

चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि के आखिरी दिन करें माता सिद्धिदात्री की पूजा, इस मंत्र का करें जाप
कांगड़ा के प्रसिद्ध शक्तिपीठ चामुण्‍डा देवी मंदिर, जहाँ लोगों की सभी मनोकामना पूर्ण होती है

मां के चरणों का यह सान्निध्य प्राप्त करने के लिए हमें निरंतर नियमनिष्ठ रहकर उनकी उपासना करनी चाहिए। मां भगवती का स्मरण, ध्यान, पूजन, हमें इस संसार की असारता का बोध कराते हुए वास्तविक परम शांतिदायक अमृत पद की ओर ले जाने वाला है।

आज के युग में इतना कठिन तप जो कोई भी करता है वह मां की कृपा का पात्र बनता ही है। अन्य आठ दुर्गाओं की पूजा उपासना शास्त्रीय विधि-विधान के अनुसार करते हुए भक्त दुर्गा पूजा के नौवें दिन इनकी उपासना में प्रवत्त होते हैं।

चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि के आखिरी दिन करें माता सिद्धिदात्री की पूजा, इस मंत्र का करें जाप
शक्तिपीठ मनसा देवी , जहाँ गिरा था देवी सती के मस्तिष्क का अग्र भाग

इन सिद्धिदात्री मां की उपासना पूर्ण कर लेने के बाद भक्तों और साधकों की लौकिक, पारलौकिक सभी प्रकार की कामनाओं की पूर्ति हो जाती है।

नवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। देवी के इस स्वरूप को केतु ग्रह की स्वामिनी माना गया है। जो जातक नवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना करते हैं उनके जीवन से केतु का दोष हट जाता है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news