Chandra Grahan 2022: इस दिन लगने जा रहा साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, जानिए सूतक काल और प्रभाव

Chandra Grahan 2022: इस दिन लगने जा रहा साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, जानिए सूतक काल और प्रभाव

इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण मंगलवार 8 नवंबर 2022 को देव दीपावली और गुरु नानक जयंती के दिन लगेगा।

8 नवंबर को साल का आखिरी चंद्र ग्रहण लगेगा। यह समय और ग्रहण कुछ मायनों में बेहद खास माना जा रहा है। इसका प्रभाव देश ओर दुनिया के अधिकांश भागों पर भी दिखाई देगा। इसके अलावा ज्योतिष अनुसार जिन राशियों पर ग्रहण पड़ेगा वह इसके द्वारा काफी अधिक प्रभावित होंगी। 

चंद्र ग्रहण के दौरान लोगों को जप और तपस्या करने की सलाह दी जाती है। इसके साथ ही कुछ ऐसे कार्य भी हैं, जो सूतक काल की शुरुआत को भूलकर भी नहीं करना चाहिए। इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण मंगलवार 8 नवंबर 2022 को देव दीपावली और गुरु नानक जयंती के दिन लगेगा, इस दौरान भक्तों को जप और तपस्या करनी चाहिए। ग्रहण से मुक्ति के बाद स्नान, दान का विशेष महत्व है। ग्रहण काल में मंदिरों में कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं और मोक्ष की प्राप्ति के बाद ही सफाई और पूजा के साथ कपाट खोले जाते हैं।

आखिरी सूर्य ग्रहण दिवाली के अगले दिन लगा था। वहीं आखिरी चंद्र ग्रहण सूर्य ग्रहण के ठीक 15 दिन बाद देव दिवाली के लगने जा रहा है। पहला चंद्र ग्रहण 16 मई 2022 को लगा था। 08 नवंबर को कार्तिक माह की पूर्णिमा तिथि भी है।

हिंदू पंचांग के अनुसार, कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार, देव दिवाली के दिन चंद्र ग्रहण लगने से इसका महत्व और अधिक बढ़ जाता है।

ऐसे में चलिए जानते हैं चंद्रग्रहण की , समय और सूतक काल...

भारत में कब दिखेगा चंद्रग्रहण :-

भारत में चंद्रग्रहण चंद्र उदय के साथ शाम 5:20 से दिखने लगेगा। सूतक ग्रहण से 9 घंटे पहले यानी सुबह 8:20 से शुरू हो जाएगा और ये शाम 6:20 पर समाप्त हो जाएगा। अलग-अलग क्षेत्रों में चंद्र उदय का समय अलग अलग होता है। इस वजह से ग्रहण का सूतक का समय भी अलग-अलग रहेगा।

चंद्र ग्रहण का समय :-

दिनांक: 08 नवंबर 2022
ग्रहण प्रारंभ: दोपहर 02:39 बजे
ग्रहण मध्य: 04:29 अपराह्न
ग्रहण समाप्त: शाम 6:19 बजे
सूतक प्रारंभ : 05:39 पूर्वाह्न

चंद्र ग्रहण 2022 का सूतक काल :-

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, चंद्र ग्रहण के दौरान सूतक काल का समय ग्रहण के शुरू होने के 9 घंटे पहले लग जाता है। ये चंद्र ग्रहण भारत के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा। इसलिए चंद्र ग्रहण का सूतक काल मान्य होगा। 

देश और दुनिया पर चंद्र ग्रहण का प्रभाव :-

चंद्र ग्रहण भारत में अनेक स्थानों से देखा जा सकेगा। चूंकि चंद्रोदय से पहले ग्रहण शुरू होता है, भारत के पूर्वी हिस्सों में चंद्र ग्रहण से मुक्ति के दर्शन होंगे। यह ग्रहण भारत समेत दुनिया के उत्तर-दक्षिण अमेरिका, अटलांटिक महासागर, हिंद महासागर, ऑस्ट्रेलिया, एशिया, उत्तर-पूर्वी यूरोप, उत्तर-पश्चिम कनाडा, प्रशांत महासागर के इलाकों में दिखाई देगा।

चंद्र ग्रहण की शुरुआत अर्जेंटीना के पश्चिमी भाग के पश्चिमी भाग और उत्तरी चिली, बोलीविया, ब्राजील अटलांटिक महासागर क्षेत्रों में चंद्रमा के समय दिखाई देगी। चंद्र ग्रहण की मुक्ति हिंद महासागर, भारत, कजाकिस्तान, पाकिस्तान, उज्बेकिस्तान, अफगानिस्तान और पूर्वी रूस आदि में चंद्रोदय के समय दिखाई देगी।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news