Devshayani Ekadashi 2021: देवशयनी एकादशी पर बन रहा शुभ संयोग, करें ये कार्य तो मिलेंगे लाभ

देवशयनी एकादशी के 4 माह बाद कार्तिक शुक्ल एकादशी को भगवान विष्णु निद्रा से जागते हैं इस तिथि को प्रबोधिनी एकादशी या देवउठनी एकादशी भी कहते हैं।
Devshayani Ekadashi 2021: देवशयनी एकादशी पर बन रहा शुभ संयोग, करें ये कार्य तो मिलेंगे लाभ

भगवान विष्णु आषाढ़ शुक्ल एकादशी यानी 20 जुलाई 2021 को 4 मास के लिए योगनिद्रा में चले जाएंगे हैं। देवशयनी एकादशी के 4 माह बाद कार्तिक शुक्ल एकादशी को भगवान विष्णु निद्रा से जागते हैं इस तिथि को प्रबोधिनी एकादशी या देवउठनी एकादशी भी कहते हैं।

Devshayani Ekadashi 2021: देवशयनी एकादशी पर बन रहा शुभ संयोग, करें ये कार्य तो मिलेंगे लाभ
Sawan 2021: कब से शुरू हो रहा है सावन का महीना, जानिए सोमवार के व्रत की तिथियां

वर्जित कार्य :

आषाढ़ शुक्ल एकादशी के बाद पूर्णिमा से चातुर्मास प्रारंभ हो जाता है। इस दौरान यज्ञोपवीत संस्कार, विवाह, दीक्षाग्रहण, ग्रहप्रवेश, यज्ञ आदि धर्म कर्म से जुड़े जितने भी शुभ कार्य होते हैं वे सब त्याज्य होते हैं। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार श्री हरि के शयन को योगनिद्रा भी कहा जाता है।

Devshayani Ekadashi 2021: देवशयनी एकादशी पर बन रहा शुभ संयोग, करें ये कार्य तो मिलेंगे लाभ
सरकारी नौकरी नहीं मिल रही है तो आपके सपने को पूरा करेंगे ये चमत्कारी टोटके...

करें ये 5 कार्य :

1. इस दौरान विधिवत व्रत रखने से पुण्य फल की प्राप्त होती है और व्यक्ति निरोगी होता है।

2. इस दिन प्रभु हरि की विधिवत पूजा करने और उनकी कथा सुनने से सभी तरह के संकट कट जाते हैं।

3. इस दिन तुलसी और शालिग्राम की विधिवत रूप से पूजा और अर्चना करना चाहिए।

4. इस दिन चावल, प्याज, लहसुन, मांस, मदिरा, बासी भोजन आदि बिलकुल न खाएं।

5. इस दिन देवशयनी की पौराणिक कथा का श्रवण करें।

Devshayani Ekadashi 2021: देवशयनी एकादशी पर बन रहा शुभ संयोग, करें ये कार्य तो मिलेंगे लाभ
भूलकर भी कभी भी न दें पड़ोसियों को सूर्यास्त के बाद ये चीजें, हो जाएंगे कंगाल

5 लाभ :

1. देवशयनी एकादशी का व्रत करने से सिद्धि प्राप्त होती है।

2. यह व्रत सभी उपद्रवों को शांत कर सुखी बनाता है और जीवन में खुशियों को भर देते हैं।

3. एकादशी के विधिवत व्रत रखने से मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है।

4. इस व्रत को करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।

5. इस व्रत को करने से शरीरिक दु:ख दर्द बंद हो जाते हैं और सेहत संबंधी लाभ मिलता है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news