क्यों की जाती है दिवाली पर उल्लुओं की पूजा ?
आर्ट एंड कल्चर

क्यों की जाती है दिवाली पर उल्लुओं की पूजा ?

उल्लू मां लक्ष्मी का वाहन है. इसलिए अगर आपको दीपावली पर मां लक्ष्मी का पूजन करने के बाद उल्लू दिखता है तो यह बहुत शुभ संयोग माना जाता है. दीपावली पर उल्लू दिखने से धीरे-धीरे आपके कष्टों से छुटकारा मिलेगा और घर में खुशियों का वास होगा.

Yoyocial News

Yoyocial News

कुछ हिंदू मान्यताएं कहती हैं कि लक्ष्मी उल्लू की सवारी करती हैं, वहीं कहीं-कहीं इसका भी जिक्र मिलता है कि उलूकराज लक्ष्मी के सिर्फ साथ चलते हैं, सवारी तो वो हाथी की करती हैं. बहरहाल, मान्यताएं चाहे जितनी अलग बातें कहें, दीवाली से उल्लुओं का गहरा ताल्लुक जुड़ गया है. माना जाता है कि दीवाली के रोज उल्लू की बलि देने से लक्ष्मीजी हमेशा के लिए घर में बस जाती हैं.

उल्लुओं के धन-समृद्धि से सीधे संबंध या शगुन-अपशगुन को लेकर ढेरों किस्से-कहानियां ग्रीक और एशियन देशों में प्रचलित हैं. मुश्किल से मुश्किल हालातों में आखिरी समय तक सर्वाइव कर पाने वाला ये पक्षी अपनी इसी विशेषता के चलते पुराणों के अनुसार तंत्र साधना के लिए सबसे उत्तम माना गया है.

बड़ी-बड़ी आंखों वाला निरीह सा ये पक्षी हिंदू विश्वासों से सीधा जुड़ा हुआ है तो इसकी बड़ी वजह उसकी विशेषताएं हैं. चूंकि ये निशाचर है, एकांतप्रिय है और दिनभर कानों को चुभने वाली आवाज निकालता है इसलिए इसे अलक्ष्मी भी माना जाता है यानी लक्ष्मी की बड़ी बहन, जो दुर्भाग्य की देवी हैं और उन्हीं के साथ जाती हैं जिसके पूर्वजन्मों का हिसाब चुकाया जाना बाकी हो. एक मान्यता है कि लक्ष्मी का जन्म अमृत और उनकी बड़ी बहन अलक्ष्मी का जन्म हालाहल यानी विष से हुआ था.

दूसरी ओर इसकी गोल आंखें जो हमेशा स्थिर रहती हैं, उनकी वजह से इसे बुद्धिमत्ता का प्रतीक माना गया है. ये सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया के कई हिस्सों में प्रचलित मान्यता है. प्राचीन ग्रीस में इसे एथना यानी बुद्धि की देवी का प्रतीक माना गया है. उड़ीसा के पुरी में इसे लॉर्ड विद सर्कुलर आईज़ भी कहा जाता है जो चोका-ढोला के रूप में भगवान की तरह पूजा जाता है.

तांत्रिक साधना के लिए बनी किताबों में उलूक तंत्र का जिक्र मिलता है. उसपर पर कई कहानियां है, जिनमें से खास प्रचलित कहानी के अनुसार एक बार हरिद्वार में राजा दक्ष ने यज्ञ किया था. इसमें उन्होंने भगवान शिव को नहीं बुलाया था. शिव की उपेक्षा पर भगवान विष्णु भी क्रोधित हुए और उन्होंने ब्राह्मणों को विद्याविहीन होने का शाप दे दिया. इससे नाराज़ भृगु ॠषि ने विष्णु की छाती पर पांव रख दिया. यह देखकर लक्ष्मी ने ब्राह्मणों को धन-धान्य से विमुख होने का शाप दे दिया. मान्यता है कि इस शाप से बचाव के लिए गौतम ॠषि ने उलूक तंत्र का आविष्कार किया. इससे प्रसन्न होकर लक्ष्मी और विष्णु ने उन्हें अपने शाप से मुक्त कर दिया. इसके बाद से ही गौतम गोत्र के लोग दिवाली पर उल्लू की पूजा करते हैं.

भारतीय वन्य जीव अधिनियम,1972 की अनुसूची-1 के तहत उल्लू संरक्षित पक्षियों के तहत आता है और उसे पकड़ने-बेचने पर तीन साल या उससे ज्यादा की सजा का नियम है लेकिन दिवाली पर इस प्रावधान की जबर्दस्त अनदेखी होती है.

तंत्रसाधना की कई किताबों में उल्लुओं पर साधना की विधि का सविस्तार वर्णन मिलता है. दीवाली की रात उल्लू पर तंत्र क्रिया करने के लिए उसे लगभग महीनाभर पहले से साथ रखा जाता है. उसे मांस-मदिरा दी जाती है. तब जाकर दिवाली पर इनकी बलि दी जाती है. बलि के बाद शरीर के अलग-अलग अंगों को अलग-अलग जगहों पर रखा जाता है ताकि समृद्धि को पूरी तरह से छेका जा सके

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news