राहत इंदौरी
राहत इंदौरी
आर्ट एंड कल्चर

राहत इंदौरी: अस्पताल पहुँच कर कहा था- 'मेरी खैरियत twitter और FB पर आपको मिलती रहेगी'...भेजी रुखसती की खबर

राहत इंदौरी अस्पताल गये तो बड़ी तय्यारी से थे... उनका tweeter संदेश और उनकी ये लाइनें - ''दो गज सही ये मेरी मिलकियत तो हैं, ऐ मौत तूने मुझे ज़मीदार कर दिया...'' तो शायद उनकी इसी तय्यारी की ओर इशारा करती हैं.

Yoyocial News

Yoyocial News

अभी तो ये खबर भी आपके चाहने वालों तक ठीक से नहीं पहुंची थी कि उनके चहेते शायर को कोरोना ने अपनी जकड़ में ले लिया है, कि आप तो दुनिया को ही अलविदा कह गये. हाँ, मशहूर शायर और आम इंसान और मुल्क से जुड़े हर जरूरी मुद्दे पर अपनी बेबाक राय जाहिर करने वाले राहत इन्दौरी साहब के निधन को उनके चाहने वाले इसी तरह याद कर रहे हैं. राहत इन्दौरी का अभी कुछ देर पहले इंदोर के अरविंदो अस्पताल में दिल का दौर पड़ने से निधन हो गया.

मशहूर शायर राहत इंदौरी (Rahat Indori) ने मंगलवार की सुबह ही खुद ट्वीट कर ये खबर दी थी कि उनकी कोरोना टेस्ट पॉजिटीव आई है और वो इंदौर के ऑरबिंदो हॉस्पिटल में एडमिट हैं.

उनके इस ट्वीट में जानकारी के साथ एक अपील भी थी. राहत इंदौरी ने लिखा, 'कोविड के शुरुआती लक्षण दिखाई देने पर कल मेरा कोरोना टेस्ट किया गया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। ऑरबिंदो हॉस्पिटल में एडमिट हूं। दुआ कीजिये जल्द से जल्द इस बीमारी को हरा दूं।'

इसी ट्वीट में वे अपने चाहने वालों से इल्तजा करते दिखाई दिए - 'एक और इल्तेजा है, मुझे या घर के लोगों को फोन ना करें, मेरी खैरियत twiter और फेसबुक पर आपको मिलती रहेगी. '

राहत इंदौरी वाकई अस्पताल गये तो बड़ी तय्यारी से थे. उनकी ये लाइनें - ''दो गज सही ये मेरी मिलकियत तो हैं, ऐ मौत तूने मुझे ज़मीदार कर दिया...'' भी शायद उनकी इसी तय्यारी की ओर इशारा करती हैं.

पेश है , राहत इंदौरी की वह बहुत चर्चित और शानदार रचना जिसने मुल्क में हलचल भी मचाई और उनके जज्बे, जिजीविषा और गुस्से का अंदाज भी कराया....

अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है,

ये सब धुआं है कोई आसमान थोड़ी है

लगेगी आग तो आएंगे घर कई ज़द में,

यहां पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है

मैं जानता हूं के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन,

हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है

हमारे मुंह से जो निकले वही सदाक़त है,

हमारे मुंह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है,

जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे,

किराएदार हैं ज़ाती मकान थोड़ी है,

सभी का ख़ून है शामिल यहां की मिट्टी में,

किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है....

राहत इंदौरी
राहत इंदौरी

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news