Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट

गणेश जी यूं तो हर रुप में मंगलकारी और विघ्न का नाश करने वाले हैं लेकिन अपनी चाहत के अनुसार गणेश की प्रतिमा या तस्वीर घर में लाएंगे तो आपकी मनोकामना जल्दी पूरी होगी।
Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट

गणेश जी की उपासना में इनकी अलग-अलग रंग की मूर्तियों का प्रयोग होता है। अलग अलग रंग के ये गणपति हर कामना पूरी करने में सक्षम हैं। समस्त देवी देवताओं में प्रथम पूज्य गणेश जी ही हैं। इनकी कृपा से हर विघ्न का नाश होता है और हर कार्य में सफलता मिलती है।

Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट
Sawan 2021: जानिए श्रावण माह में रुद्राभिषेक की महिमा, पूजा सामग्री से लेकर पूजा विधि के बारे में

शिक्षा से लेकर संतान तक सब कुछ इनकी कृपा से संभव है। यहां तक कि मात्र इनकी मूर्ति या चित्र के प्रयोग से घर के वास्तु दोष को नष्ट किया जा सकता है।

गणेश जी की उपासना में इनकी अलग-अलग रंग की मूर्तियों का प्रयोग होता है। अलग अलग रंग के ये गणपति हर कामना पूरी करने में सक्षम हैं।

Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट
सोमनाथ ज्योतिर्लिंग: पृथ्वी के सभी ज्योतिर्लिंगों में से प्रथम है सोमनाथ, जानें इसके पीछे की पौराणिक कथा

पीले रंग के गणपति

  • यह छह भुजाधारी हैं, और इनको हरिद्रा गणपति कहा जाता है।

  • यह हल्दी के समान पीले होते हैं या हल्दी से बने हुए होते हैं।

  • इनको घर में मुख्य पूजा स्थल पर स्थापित करना चाहिए।

  • इनकी उपासना से हर तरह का मंगल होता है घर में सुख समृद्धि आती है।

Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट
मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग: कहा जाता है दक्षिण का कैलाश, इकलौता ज्योतिर्लिंग जहां शिव-पार्वती दोनों का स्वरूप है मौजूद

लाल रंग के गणपति

  • लाल रंग के या रक्त वर्ण के कई सारे गणेश जी होते हैं।

  • परन्तु रक्तवर्ण के चार भुजाधारी गणेश जी ही मुख्य रूप से पूजित होते हैं।

  • इनको संकष्टहरण गणपति कहा जाता है।

  • इनकी स्थापना या तो अपने पूजा स्थान में करें या काम के स्थान पर।

  • इनको दूर्वा अर्पित करके प्रार्थना करने से हर संकट टल जाता है।

Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट
शिव के 12 ज्योतिर्लिंग: इन स्थानों पर विराजमान हैं भगवान शंकर, दर्शन मात्र से मिलता है पुण्य

सफेद रंग के गणपति

  • इन गणेश जी को शुभ्र गणपति या द्विज गणपति कहा जाता है।

  • यह सफ़ेद रंग के चार भुजाधारी हैं।

  • इनकी उपासना से ज्ञान, विद्या और बुद्धि का वरदान मिलता है।

  • इनकी स्थापना छात्रों, विद्यार्थियों को अपने पढ़ने के स्थान पर करनी चाहिए।

  • पढाई और परीक्षा के पहले इनका स्मरण करने से सफलता निश्चित हो जाती है।

Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट
Kanwar Yatra: जानिए कांवड़ यात्रा की शुरुआत कैसे और कब हुई, सावन में क्यों होती है कांवड़ यात्रा

नीले रंग के गणपति

  • इन गणेश जी को "उच्छिष्ट गणपति" कहा जाता है, यह नीले रंग के चार भुजाधारी हैं।

  • सामान्य दशाओं में इनकी पूजा नहीं की जाती।

  • इनकी पूजा तंत्र की विशेष पूजा है जिसमे शुद्धि अशुद्धि का विचार नहीं होता।

  • उच्च पद प्राप्ति, कामना सिद्धि और तंत्र मंत्र से बचाव के लिए इनकी उपासना विशेष होती है।

  • बिना किसी सदगुरु के निर्देशन के इनकी उपासना ना करें।

Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट
व्यक्ति का जीवन बदल देते हैं रत्न, धारण करते समय रखें इन बातों का खास ध्यान

ऋण मोचन गणपति

  • इन गणेश जी का वर्ण पीला ही होता है।

  • परन्तु ये चार भुजाधारी होते हैं और लाल रंग का वस्त्र धारण करते हैं।

  • इनको अपने कार्य स्थल पर स्थापित करें।

  • नियमित रूप से इनके सामने घी का दीपक जलाएं।

  • कर्ज मुक्ति की प्रार्थना करें, लाभ होगा।

Ganesh Chaturthi 2021: चाहते है मनचाहा फल तो पढ़ लें खबर, गणेश भगवान की इस रंग की मूर्ति हरेगी आपके सारे कष्ट
Vastu Tips: अपने सपनों का महल खरीदते समय हमेशा रखें इन बातों का ध्यान

महागणपति

  • यह गणेश जी समस्त स्वरूपों को अपने अंदर समाहित किये रखते हैं।

  • यह त्रिनेत्रधारी , रक्तवर्ण के और दस भुजाधारी होते हैं।

  • सामान्य रूप से इनकी उपासना नहीं की जाती।

  • गणेश महोत्सव के अवसर पर या मंदिर में ही इनकी उपासना श्रेष्ठ होती है।

  • गणेश महोत्सव में इनका स्मरण और दर्शन पूजन करने से संतान का वरदान सरलता से मिल जाता है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news