हरिद्वार: मौनी अमावस्या पर 10 लाख लोगों ने लगाई आस्था की डुबकी

हरिद्वार: मौनी अमावस्या पर 10 लाख लोगों ने लगाई आस्था की डुबकी

गौरतलब है कि कुंभ मेले को ध्यान में रखते हुए उत्तराखंड सरकार ने यहां विशेष दिशा-निर्देश तय किए हैं। इन दिशा निर्देशों के तहत 65 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों, छोटे बच्चों एवं बीमार व्यक्तियों को हरिद्वार न आने की सलाह दी गई है।

इस वर्ष हरिद्वार में लगने वाले कुंभ मेले की औपचारिक शुरूआत से पहले ही गुरुवार को लाखों लोगों ने यहां श्रद्धा की डुबकी लगाई।

एक सरकारी अनुमान के मुताबिक हरिद्वार में मौनी अमावस्या के अवसर पर गुरुवार को गंगा स्नान करने वाले लोगों की संख्या 10 लाख तक हो सकती है।

हरिद्वार कुंभ मेला के उप मेला अधिकारी अंशुल सिंह ने कहा कि, "मकर संक्रांति के दिन हरिद्वार में करीब 6 लाख श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान किया था। कुंभ मेला प्रशासन के मुताबिक मौनी अमावस्या के अवसर पर मकर संक्रांति से भी कहीं ज्यादा लोग हरिद्वार में गंगा स्नान के लिए आ रहे हैं। गुरुवार को मौनी अमावस्या के अवसर पर इससे अधिक श्रद्धालु के यहां पहुंचने की संभावना है। यहां मौनी अमावस्या पर आने वाले लोगों की संख्या 10 लाख तक हो सकती है।"

गौरतलब है कि कुंभ मेले को ध्यान में रखते हुए उत्तराखंड सरकार ने यहां विशेष दिशा-निर्देश तय किए हैं। इन दिशा निर्देशों के तहत 65 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों, छोटे बच्चों एवं बीमार व्यक्तियों को हरिद्वार न आने की सलाह दी गई है।

इसके साथ ही गंगा में स्नान करने वाले व्यक्तियों को गंगा स्नान से पूर्व कोरोना जांच करवाने के निर्देश दिए गए हैं।

प्रशासन के मुताबिक यह सभी निर्देश कुंभ मेले के दौरान अमल में लाए जाएंगे। हालांकि कुंभ से पहले मौनी अमावस्या के दिन इस प्रकार के नियमों की हरिद्वार में कोई बाध्यता नहीं है।

गुरुवार को मौनी अमावस्या के अवसर पर लाखों लोग हरिद्वार में गंगा स्नान के लिए पहुंचे। हरिद्वार प्रशासन ने भी इसके लिए व्यापक स्तर पर इंतजाम किए हैं।

हरिद्वार प्रशासन ने देश भर से आने वाले लोगों की सुविधा को देखते हुए यहां बड़े पैमाने पर अतिरिक्त पार्किं ग व्यवस्था बनाई है, इसके साथ ही कई मुख्य मार्गो में फेरबदल भी किया गया है।

वहीं मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आगामी कुंभ मेले में निर्बाध विद्युत आपूर्ति व्यवस्था सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने निर्माणाधीन विद्युत परियोजनाओं के कार्यों में तेजी लाने के साथ ही पुरानी विद्युत परियोजनाओं के सुधारात्मक उपायों पर विशेष ध्यान देने को कहा।

मुख्यमंत्री ने एलईडी ग्राम लाइट योजना के अन्तर्गत महिला स्वयं सहायता समूहों को प्रशिक्षित करने हेतु बंगाल के दक्ष करीगरों की सेवायें लेने को कहा ताकि उनके स्तर पर और बेहतर उत्पादन हो सके तथा आर्थिक संसाधनों में और अधिक वृद्धि हो सके।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news