Hartalika Teej Vrat: जाने कब है और क्यूँ मनाया जाता है हरतालिका तीज का व्रत, पढ़ें पूजा विधि और महत्व

इस व्रत में महिलाएं भगवान शिव और माता पार्वती की मिट्टी या रेत से बनाई जाने वाली मूर्ति की विधि–विधान से पूजा और व्रत करती हैं।
Hartalika Teej Vrat: जाने कब है और क्यूँ मनाया जाता है हरतालिका तीज का व्रत, पढ़ें पूजा विधि और महत्व

सनातन परंपरा में भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया काे रखे जाने वाले हरितालिका व्रत बहुत ज्यादा महत्व है। यह व्रत कुंवारी कन्याओं द्वारा सुयोग्य वर पाने और विवाहित महिलाओं द्वारा सुखी दांपत्य जीवन और अपने सुहाग की लंबी आयु की कामना के लिए किया जाता है।

इस साल हरतालिका तीज का व्रत 30 अगस्त 2022, मंगलवार को बनाया जाएगा। इस व्रत में महिलाएं भगवान शिव और माता पार्वती की मिट्टी या रेत से बनाई जाने वाली मूर्ति की विधि–विधान से पूजा और व्रत करती हैं।

आइए हरतालिका तीज व्रत की पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और इसका धार्मिक महत्व विसतार से जानते हैं।

पंचांग के अनुसार इस साल भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष में पड़ने वाली पावन तृतीया तिथि 29 अगस्त 2022, सोमवार को दोपहर 03:20 बजे से प्रारंभ होकर 30 अगस्त 2022, मंगलवार को दोपहर 03:33 बजे तक रहेगा।

हरतालिका तीज का का व्रत उदया तिथि में 30 अगस्त 2022 को रखा जाएगा और इस दिन पूजा का शुभ मुहूत प्रात:काल 05:58 से लेकर 08:31 बजे तक रहेगा।

भगवान शिव और माता पार्वती की कृपा बरसाने वाले हरतालिका तीज व्रत की पूजा प्रदोष काल में अत्यधिक शुभ एवं फलदायी मानी गई है।

ऐसे में इस दिन स्नान करने के बाद चौकी पर एक स्वच्छ लाल रंग का कपड़ा बिछाकर माता पार्वती और महादेव की मिट्टी की प्रतिमा को केले के पत्ते पर रखें।

इसके बाद एक कलश के ऊपर नारियल रखकर सबसे पहले उसकी पूजा करें। इसके बाद माता भगवान शिव और माता गौरी कुमकुम, अक्षत, चावल, पुष्प, फल, मिष्ठान आदि चढ़ाकर विधिवत पूजन करें।

पूजा के दौरान मां पार्वती को श्रृंगार की सभी चीजें चढ़ाएं और हरतालिका व्रत की कथा पढ़ें या फिर सुनें। पूजा के अंत में भगवान शिव और माता पार्वती की आरती करें।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news