Jivitputrika Vrat: आज से शुरू हो रहा है जितिया व्रत, जानिए इसका महत्व, शुभ-मुहूर्त और तिथि

हिंदू पंचांग के अनुसार, हर साल आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को जीवित्पुत्रिका व्रत रखा जाता है। इसे जितिया व्रत भी कहा जाता है। इस व्रत को माताएं संतान प्राप्ति और उनकी लंबी आयु की कामना के लिए रखती हैं।
Jivitputrika Vrat: आज से शुरू हो रहा है जितिया व्रत, जानिए इसका महत्व, शुभ-मुहूर्त और तिथि

हिंदू पंचांग के अनुसार, हर साल आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को जीवित्पुत्रिका व्रत रखा जाता है। इसे जितिया व्रत भी कहा जाता है। इस व्रत को माताएं संतान प्राप्ति और उनकी लंबी आयु की कामना के लिए रखती हैं।

यह व्रत पूरे दिन तक चलता है। इसे सभी व्रतों में कठिन माना जाता है। माताएं अपने संतान की खुशहाली के लिए जितिया व्रत निराहार और निर्जला रखती हैं। इस साल यह पर्व 28 सितंबर से शुरू होकर 30 सितंबर तक चलेगा।

Jivitputrika Vrat: आज से शुरू हो रहा है जितिया व्रत, जानिए इसका महत्व, शुभ-मुहूर्त और तिथि
Pitru Paksha 2021: श्राद्ध पक्ष में चाहते हैं अपने बुजुर्गों का आशीर्वाद, अगर करेंगे यह उपाय

जीवित्पुत्रिका व्रत शुभ मुहूर्त 2021 :-

जीवित्पुत्रिका व्रत- 29 सितंबर 2021

अष्टमी तिथि प्रारंभ- 28 सितंबर को शाम 06 बजकर 16 मिनट से।

अष्टमी तिथि समाप्त- 29 सितंबर की रात 8 बजकर 29 मिनट से।

Jivitputrika Vrat: आज से शुरू हो रहा है जितिया व्रत, जानिए इसका महत्व, शुभ-मुहूर्त और तिथि
Pitru Paksha 2021: जाने पितृ पक्ष में आखिर क्यूँ है गाय, कौवों और कुत्तों को भोजन कराने का विशेष महत्व

नहाए खाए के साथ शुरू होगा व्रत :-

जीवित्पुत्रिका व्रत 28 सितंबर को नहाए खाए के साथ शुरू होगा। 29 सितंबर को पूरे दिन निर्जला व्रत रखा जाएगा। 30 सितंबर को व्रत का पारण किया जाएगा। पितृपक्ष के 15 दिन भूलकर भी न करें ये काम, बढ़ सकती हैं आपकी मुश्किलें।

Jivitputrika Vrat: आज से शुरू हो रहा है जितिया व्रत, जानिए इसका महत्व, शुभ-मुहूर्त और तिथि
Pitru Paksha 2021: पितृपक्ष में नहीं खरीदी जाती नई चीज़ें, होता है अशुभ या सिर्फ है वहम, जानें पूरी सच्चाई

जीवित्पुत्रिका व्रत का महत्व :-

जीवित्पुत्रिका व्रत संतान प्राप्ति और उसकी लंबी आयु की कामना के साथ किया जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार, इस व्रत को करने से संतान के सभी कष्ट दूर होते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, महाभारत काल में भगवान श्रीकृष्ण ने अपने पुण्य कर्मों को अर्जित करके उत्तरा के गर्भ में पल रहे शिशु को जीवनदान दिया था, इसलिए यह व्रत संतान की रक्षा की कामना के लिए किया जाता है। मान्यता है कि इस व्रत के फलस्वरुप भगवान श्रीकृष्ण संतान की रक्षा करते हैं।

Jivitputrika Vrat: आज से शुरू हो रहा है जितिया व्रत, जानिए इसका महत्व, शुभ-मुहूर्त और तिथि
Vastu Tips: मेहनत करने के बाद भी व्यापार में नहीं मिल रही है सफलता तो आज़माये यह वास्तु उपाय

जीवित्पुत्रिका व्रत पूजन विधि :-

स्नान आदि करने के बाद सूर्य नारायण की प्रतिमा को स्नान कराएं। धूप, दीप आदि से आरती करें और इसके बाद भोग लगाएं। इस व्रत में माताएं सप्तमी को खाना और जल ग्रहण कर व्रत की शुरुआत करती हैं और अष्टमी तिथि को पूरे दिन निर्जला व्रत रखती हैं। नवमी तिथि को व्रत का समापन किया जाता है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.