Navratri 2021: जौ बोने की हैं विशेष मान्यता, इसके बिना नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा मानी जाती है अधूरी

नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा जवारों के बगैर अधूरी मानी जाती है। घर हो या पूजा पंडाल हर जगह माता के दरबार में जवारे अवश्य ही मिलेंगे। दरअसल इस पवित्र विधि में कलश के सामने मिट्टी के पात्र में जौ को बोते हैं।
Navratri 2021: जौ बोने की हैं विशेष मान्यता, इसके बिना नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा मानी जाती है अधूरी

नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा जवारों के बगैर अधूरी मानी जाती है। घर हो या पूजा पंडाल हर जगह माता के दरबार में जवारे अवश्य ही मिलेंगे। दरअसल इस पवित्र विधि में कलश के सामने मिट्टी के पात्र में जौ को बोते हैं।

Navratri 2021: जौ बोने की हैं विशेष मान्यता, इसके बिना नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा मानी जाती है अधूरी
Shardiya Navratri 2021: जान लें नवरात्रि व्रत करने के जरूरी नियम, भूल से भी न करें यह गलतियाँ

जौ को ही जवारे कहते हैं :-

जौ को ही ज्वारे भी कहते हैं। नवरात्रि के दिनों में मंदिर, घर और पूजा के पंडालों में मिट्टी के बर्तन में ज्वारे बोये जाते हैं। नियमित रूप से इनमें जल अर्पित किया जाता है। जिससे ये धीरे-धीरे अंकुरित होकर बढ़ते हैं और हरी-भरी फसल की तरह लगते हैं। नवरात्रि के समापन पर इन्हें बहते हुए जल में प्रवाहित कर दिया जाता है।

Navratri 2021: जौ बोने की हैं विशेष मान्यता, इसके बिना नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा मानी जाती है अधूरी
Shardiya Navratri 2021: जानें शारदीय नवरात्रि में अखंड ज्योति जलाने के नियम, होगी धन की वर्षा

क्यों बोया जाता है जौ :-

नवरात्रि में जौ बोने की इस परंपरा के पीछे तर्क यह है कि सृष्टि के आरंभ में जौ ही सबसे पहली फसल थी। जौ बोने की यह प्रथा हमें यह सीख देती है कि हम सदैव अपने अन्न और अनाज का सम्मान करें। इस फसल को हम देवी मां को अर्पित करते हैं। इस जौ (जवारे) को उगाया जाता है। पूजा घर में जमीन पर जौ को बोते समय मिट्टी में गोबर मिलाकर मां दुर्गा का ध्यान करते हुए जौ बोए जाते हैं।

Navratri 2021: जौ बोने की हैं विशेष मान्यता, इसके बिना नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा मानी जाती है अधूरी
इन नाम के अक्षरों की बहुएँ ससुराल संग लातीं हैं सौभाग्य का पिटारा.! जानिए ज्योतिष शास्त्र का कैसे पड़ता है नाम पर असर

जवारों से जुड़ीं खास बातें :-

  • जौ बोने का एक अन्य पौराणिक मुख्य कारण व धार्मिक मान्यता है कि अन्न ब्रम्हा है। इसलिए अन्न का सम्मान करना चाहिए।

  • इसे हवन के समय देवी-देवताओं को भी अर्पित किया जाता है।

  • जौ अगर तेजी से बढ़ते हैं तो घर में सुख-समृद्धि आती है। यदि यह मुरझाएं और ठीक से ना बढ़ें तो अशुभ माना जाता है।

  • नवरात्रि के दौरान की जाने वाली कलश स्थापना के समय उसके नीचे रेत रखकर जल एक लोटा चढ़ाने का महत्व है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.