Shardiya Navratri 2021: आज है नवरात्रि का दूसरा दिन, होगी मां ब्रह्मचारिणी पूजा, जानें मंत्र एवं कथा

ब्रह्मचारिणी देवी मां नव दुर्गा का दूसरा रूप है। मां पार्वती ने घोर तपस्या करके भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त किया। इसी कारण इनका नाम ब्रह्मचारिणी पड़ा। इनकी पूजा नवरात्रि के दूसरे दिन की जाती है।
Shardiya Navratri 2021: आज है नवरात्रि का दूसरा दिन, होगी मां ब्रह्मचारिणी पूजा, जानें मंत्र एवं कथा

ब्रह्मचारिणी माँ की नवरात्र पर्व के दूसरे दिन पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं।

ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ तप का आचरण करने वाली। इनके दाहिने हाथ में जप की माला एवं बाएँ हाथ में कमण्डल रहता है।

Shardiya Navratri 2021: आज है नवरात्रि का दूसरा दिन, होगी मां ब्रह्मचारिणी पूजा, जानें मंत्र एवं कथा
Navratri Special Recipe : Sabudana Khichri (साबूदाना खिचड़ी )

माँ दुर्गाजी का यह दूसरा स्वरूप भक्तों और सिद्धों को अनन्तफल देने वाला है। इनकी उपासना से मनुष्य में तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है. जीवन के कठिन संघर्षों में भी उसका मन कर्तव्य-पथ से विचलित नहीं होता। माँ ब्रह्मचारिणी देवी की कृपा से उसे सर्वत्र सिद्धि और विजय की प्राप्ति होती है।

Shardiya Navratri 2021: आज है नवरात्रि का दूसरा दिन, होगी मां ब्रह्मचारिणी पूजा, जानें मंत्र एवं कथा
VIDEO: कल से शुरू हो रही शारदीय नवरात्रि, जान लें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

दुर्गा पूजा के दूसरे दिन इन्हीं के स्वरूप की उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन ‘स्वाधिष्ठान ’चक्र में शिथिल होता है। इस चक्र में अवस्थित मनवाला योगी उनकी कृपा और भक्ति प्राप्त करता है। इस दिन ऐसी कन्याओं का पूजन किया जाता है कि जिनका विवाह तय हो गया है लेकिन अभी शादी नहीं हुई है। इन्हें अपने घर बुलाकर पूजन के पश्चात भोजन कराकर वस्त्र, पात्र आदि भेंट किए जाते हैं।

मां ब्रह्मचारिणी की कथा :-

मां ब्रह्मचारिणी ने राजा हिमालय के घर जन्म लिया था। नारदजी की सलाह पर उन्होंने कठोर तप किया, ताकि वे भगवान शिव को पति स्वरूप में प्राप्त कर सकें। कठोर तप के कारण उनका ब्रह्मचारिणी या तपश्चारिणी नाम पड़ा।

भगवान शिव की आराधना के दौरान उन्होंने 1000 वर्ष तक केवल फल-फूल खाए तथा 100 वर्ष तक शाक खाकर जीवित रहीं। कठोर तप से उनका शरीर क्षीण हो गया। उनक तप देखकर सभी देवता, ऋषि—मुनि अत्यंत प्रभावित हुए। उन्होंने कहा कि आपके जैसा तक कोई नहीं कर सकता है। आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगा। भगवान शिव आपको पति स्वरूप में प्राप्त होंगे।

Shardiya Navratri 2021: आज है नवरात्रि का दूसरा दिन, होगी मां ब्रह्मचारिणी पूजा, जानें मंत्र एवं कथा
Shardiya Navratri 2021: जाने शारदीय नवरात्रि पर होगी किस दिन किस देवी की पूजा, कलश स्थापना का मुहूर्त

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि :-


मां ब्रह्मचारिणी की पूजा में मां को फूल, अक्षत, रोली, चंदन आदि अर्पण करें. उन्हें दूध, दही, घृत, मधु व शर्करा से स्नान कराएं और इसके देवी को पिस्ते से बनी मिठाई का भोग लगाएं। इसके बाद पान, सुपारी, लौंग अर्पित करें। कहा जाता है कि मां पूजा करने वाले भक्त जीवन में सदा शांत चित्त और प्रसन्न रहते हैं. उन्हें किसी प्रकार का भय नहीं सताता।

Shardiya Navratri 2021: आज है नवरात्रि का दूसरा दिन, होगी मां ब्रह्मचारिणी पूजा, जानें मंत्र एवं कथा
जानें किन पेड़ों पर होता है देवी-देवताओं का वास, किस पेड़ का पूजन करेंगे तो मिलेगी किस देवता की कृपा

मां ब्रह्मचारिणी के मंत्र :-

ब्रह्मचारयितुम शीलम यस्या सा ब्रह्मचारिणी. सच्चीदानन्द सुशीला च विश्वरूपा नमोस्तुते..
ओम देवी ब्रह्मचारिण्यै नमः॥
या देवी सर्वभेतेषु मां ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता.नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः..दधाना कर मद्माभ्याम अक्षमाला कमण्डलू.देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा..

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.