Shardiya Navratri 2021: करें देवी कूष्मांडा की पूजा, दूर होंगे रोग-दोष, जानें सम्पूर्ण पूजा विधि

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन ‘अनाहत’ चक्र में अवस्थित होता है। अतः इस दिन उसे अत्यंत पवित्र और अचंचल मन से कूष्माण्डा देवी के स्वरूप को ध्यान में रखकर पूजा-उपासना के कार्य में लगना चाहिए।
Shardiya Navratri 2021: करें देवी कूष्मांडा की पूजा, दूर होंगे रोग-दोष, जानें सम्पूर्ण पूजा विधि

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन ‘अनाहत’ चक्र में अवस्थित होता है। अतः इस दिन उसे अत्यंत पवित्र और अचंचल मन से कूष्माण्डा देवी के स्वरूप को ध्यान में रखकर पूजा-उपासना के कार्य में लगना चाहिए। जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था, तब इन्हीं देवी ने ब्रह्मांड की रचना की थी। अतः ये ही सृष्टि की आदि-स्वरूपा, आदिशक्ति हैं। इनका निवास सूर्यमंडल के भीतर के लोक में है।

Shardiya Navratri 2021: करें देवी कूष्मांडा की पूजा, दूर होंगे रोग-दोष, जानें सम्पूर्ण पूजा विधि
Shardiya Navratri 2021: जान लें नवरात्रि व्रत करने के जरूरी नियम, भूल से भी न करें यह गलतियाँ

वहाँ निवास कर सकने की क्षमता और शक्ति केवल इन्हीं में है। इनके शरीर की कांति और प्रभा भी सूर्य के समान ही दैदीप्यमान हैं। इनके तेज और प्रकाश से दसों दिशाएँ प्रकाशित हो रही हैं।ब्रह्मांड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में अवस्थित तेज इन्हीं की छाया है। माँ की आठ भुजाएं हैं।अतः ये अष्टभुजा देवी के नाम से भी विख्यात हैं। इनके सात हाथों में क्रमशः कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा है। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है. इनका वाहन सिंह है।

Shardiya Navratri 2021: करें देवी कूष्मांडा की पूजा, दूर होंगे रोग-दोष, जानें सम्पूर्ण पूजा विधि
Shardiya Navratri 2021: जानें शारदीय नवरात्रि में अखंड ज्योति जलाने के नियम, होगी धन की वर्षा

आज नवरात्रि के चौथे दिन मां दुर्गा के चौथे स्वरुप मां 'कुष्मांडा' की पूजा अर्चना हो रही है।मान्यता है कि मां 'कुष्मांडा' की मोहक मुस्‍कान से 'अण्ड' यानी 'ब्रह्मांड' की उत्‍पत्ति हुई है। यही वजह है कि देवी को कहा गया है। मान्‍यता है कि जब दुनिया नहीं थी, तब इन्होंने ही अपने हास्य से ब्रह्मांड की रचना की थी इसीलिए इन्‍हें सृष्टि की आदिशक्ति कहा गया है। देवी की आठ भुजाएं हैं।

इनके हाथों में कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र, गदा व जप माला है।देवी का वाहन सिंह है। शांत और संयम भाव से माता कुष्मांडा की पूजा करनी चाहिए। इनकी उपासना से भक्तों को सभी सिद्धियां प्राप्त होती हैं। लोग नीरोग होते हैं और आयु व यश में बढ़ोतरी होती है। इस दिन माता को मालपुआ का प्रसाद चढ़ाना चाहिए। इससे बुद्धि का विकास होता है।

Shardiya Navratri 2021: करें देवी कूष्मांडा की पूजा, दूर होंगे रोग-दोष, जानें सम्पूर्ण पूजा विधि
Vastu Tips: घर में झाड़ू का इस्तेमाल करते हुए बिल्कुल ना करें ये गलतियाँ, लक्ष्मी जी हो जाएंगी नाराज़

मां 'कुष्मांडा' का स्वरुप :-


ये नवदुर्गा का चौथा स्वरूप हैं। अपनी हल्की हंसी से ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इनका नाम कुष्मांडा पड़ा। ये अनाहत चक्र को नियंत्रित करती हैं। मां की आठ भुजाएं हैं, इसलिए इन्हें अष्टभुजा देवी भी कहते हैं। संस्कृत भाषा में कुष्मांडा को कुम्हड़ कहते हैं और मां कुष्मांडा को कुम्हड़ के विशेष रूप से प्रेम है। ज्योतिष में मां कुष्माण्डा का संबंध बुध ग्रह से है।

Shardiya Navratri 2021: करें देवी कूष्मांडा की पूजा, दूर होंगे रोग-दोष, जानें सम्पूर्ण पूजा विधि
Vastu Tips: करना चाहते हैं माँ लक्ष्मी को खुश, तो घर से इन चीजों को शीघ्र ही करें दूर

मां 'कुष्मांडा' पूजा विधि :-

  • चौकी (बाजोट) पर माता कूष्मांडा की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें।

  • गंगा जल या गोमूत्र से इसका शुद्धिकरण करें।

  • चौकी पर कलश स्थापना करें। वहीं पर श्रीगणेश, वरुण, नवग्रह, षोडश मातृका (16 देवी), सप्त घृत मातृका (सात सिंदूर की बिंदी लगाएं) की स्थापना भी करें।

  • इसके बाद व्रत और पूजन का संकल्प लें और वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा मां कूष्मांडा सहित समस्त स्थापित देवताओं की पूजा करें।

  • इसमें आवाहन, आसन, पाद्य, अर्घ्य, आचमन, स्नान, वस्त्र, सौभाग्य सूत्र, चंदन, रोली, हल्दी, सिंदूर, दुर्वा, बिल्वपत्र, आभूषण, पुष्प-हार, सुगंधित द्रव्य, धूप-दीप, नैवेद्य, फल, पान, दक्षिणा, आरती, प्रदक्षिणा, मंत्र पुष्पांजलि आदि करें। फिर प्रसाद वितरण कर पूजन संपन्न करें।

Shardiya Navratri 2021: करें देवी कूष्मांडा की पूजा, दूर होंगे रोग-दोष, जानें सम्पूर्ण पूजा विधि
Recipe: Kalakand (कलाकंद)

प्रार्थना मंत्र :-

सुरासम्पूर्ण कलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे॥

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news