Shardiya Navratri 2021: मां दुर्गा का पांचवा स्वरूप है मां स्कंदमाता, इस तरह करें पूजा

10 अक्टूबर को शारदीय नवरात्रि का पांचवा दिन है और आज के दिन मां स्कंदमाता की अराधना की जाती है। बता दें कि इस बार नवरात्रि में एक दिन घट रहा है और इसलिए नवरात्रि नौ दिन नहीं बल्कि 8 दिन रहेंगे।
Shardiya Navratri 2021: मां दुर्गा का पांचवा स्वरूप है मां स्कंदमाता, इस तरह करें पूजा

10 अक्टूबर को शारदीय नवरात्रि का पांचवा दिन है और आज के दिन मां स्कंदमाता की अराधना की जाती है। बता दें कि इस बार नवरात्रि में एक दिन घट रहा है और इसलिए नवरात्रि नौ दिन नहीं बल्कि 8 दिन रहेंगे।

यानि दो तिथि एक ही दिन पड़ रही हैं। पंचमी तिथि आज केवल दोपहर 3 बजकर 4 मिनट तक ही रहेगा। इसलिए पांचवें नवरात्रि की पूजा 3 बजे से पहले ही सम्पन्न कर लें। पांचवे नवरात्रि में मां स्कंदमाता की अराधना की जाता है और मां अपने भक्तों से प्रसन्न होकर उन्हें यश, बल, धन के साथ संतान सुख की प्राप्ति का आशीर्वाद देती हैं।

Shardiya Navratri 2021: मां दुर्गा का पांचवा स्वरूप है मां स्कंदमाता, इस तरह करें पूजा
Shardiya Navratri 2021: जानें शारदीय नवरात्रि में अखंड ज्योति जलाने के नियम, होगी धन की वर्षा

मां स्कंदमाता का स्वरूप अत्यंत निराला है और इनकी चार भुजाएं हैं। मां की दो भुजाओं में कमल के पुष्प हैं। एक भुजा से मां आशीर्वाद दे रही हैं। जबकि चौथी भुजा से पुत्र स्कंद को गोद में लिया हुआ है। मां स्कंदमाता की सवारी है और मान्यता है कि पुत्र कार्तिकय यानि स्कंद की मां होने ही वजह से ही इनकी मां स्कंदमाता है। यानि इन्हें भगवान कार्तिकय की मां के रूप में पूजा जाता है।

Shardiya Navratri 2021: मां दुर्गा का पांचवा स्वरूप है मां स्कंदमाता, इस तरह करें पूजा
Shardiya Navratri: कौन से हैं मां दुर्गा के वे नौ रूप जिनकी नवरात्रि में की जाती है पूजा

मां स्कंदमाता की पूजा विधि​ :-


मां स्कंदमाता को पीला व सफेद रंग प्रिय है और इस रंग के वस्त्र धारण करके पूजा की जाए तो मां प्रसन्न होती हैं। इस दिन सुबह जल्दी स्नान करके साफ वस्त्र पहनें और मंदिर में मां की तस्वीर के सामने दीपक जलाएं।

इसके बाद अग्यारी करें और उसमें लौंग का जोड़ा, कपूर, घी चढाएं। नवरात्रि की पूजा में दुर्गा चालीसा या दुर्गा सप्तशती का पाठ करना अच्छा माना जाता है।इसके बाद मां की आरती करें और भोग चढ़ाएं। पूजा में मां स्कंदमाता को केले या दूध की खीर का भोग लगाना चाहिए।

Shardiya Navratri 2021: मां दुर्गा का पांचवा स्वरूप है मां स्कंदमाता, इस तरह करें पूजा
इन नाम के अक्षरों की बहुएँ ससुराल संग लातीं हैं सौभाग्य का पिटारा.! जानिए ज्योतिष शास्त्र का कैसे पड़ता है नाम पर असर

मां स्कंदमाता की पूजा का महत्व :-


धर्म शास्त्रों के मुताबिक नवरात्रि के पांचवें दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है और मान्यता है कि जो व्यक्ति संतान सुख के लिए पूरे विधि-विधान से मां की पूजा करता है उसे संतान सुख की प्राप्ति होती है। साथ ही यश, बल और धन की वृद्धि होती है।

Shardiya Navratri 2021: मां दुर्गा का पांचवा स्वरूप है मां स्कंदमाता, इस तरह करें पूजा
Vastu Tips: चकला-बेलन भी बनाता है घर की किस्मत, ध्यान न देने पर हो सकती है पैसों की तंगी

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.