Shardiya Navratri 2021: आज तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की आराधना, जानिए पूजा विधि और मंत्र

शनिवार को अश्विन मास, शुक्ल पक्ष, तृतीया तिथि सुबह 07:48 बजे तक है, उसके बाद चतुर्थी तिथि प्रारंभ होगी, जो कि क्षय तिथि रहेगी। मां दुर्गा का तीसरा रूप मां चंद्रघंटा है। इनके सिर पर अर्धचंद्र है, इसलिए माता को चंद्रघंटा कहा जाता है।
Shardiya Navratri 2021: आज तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की आराधना, जानिए पूजा विधि और मंत्र

नवरात्र के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। हालांकि कहीं-कहीं शनिवार काे तृतीया व चतुर्थी तिथि दोनों मानी जा रही है। चतुर्थी तिथि का क्षय होने के कारण शनिवार को ही मां चंद्रघंटा व कुष्मांडा देवी दोनों की पूजा होगी।

शनिवार को अश्विन मास, शुक्ल पक्ष, तृतीया तिथि सुबह 07:48 बजे तक है, उसके बाद चतुर्थी तिथि प्रारंभ होगी, जो कि क्षय तिथि रहेगी। मां दुर्गा का तीसरा रूप मां चंद्रघंटा है। इनके सिर पर अर्धचंद्र है, इसलिए माता को चंद्रघंटा कहा जाता है।

मां शांति, शालीनता और समृद्धि की देवी हैं। माँ शक्ति और ऊर्जा का स्रोत है। उसने दैत्य शक्तियों का नाश किया है। मां की पूजा करने से भक्त को सुख, समृद्धि और सुख की प्राप्ति होती है। माँ हमेशा आध्यात्मिक लोगों की मदद करती है। वह नकारात्मक शक्तियों को हराती है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती है। केवल मां की पूजा करने से भक्त सभी प्रकार की चिंताओं से मुक्त हो जाता है। माँ के अन्य रूप लक्ष्मी, सरस्वती, जया, विजया हैं।

Shardiya Navratri 2021: आज तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की आराधना, जानिए पूजा विधि और मंत्र
Shardiya Navratri 2021: जानें शारदीय नवरात्रि में अखंड ज्योति जलाने के नियम, होगी धन की वर्षा

मां चंद्रघंटा देवी की पूजा विधि और मंत्र :-

मां का यह रूप देवी पार्वती का विवाहित रूप है। भगवान शिव के साथ विवाह के बाद देवी महागौरी ने मस्तक पर अर्धचंद्र धारण किया। इसलिए उनका नाम चंद्रघंटा पड़ा, चंद्रघंटा को शांतिदायक और कल्याणकारी माना जाता है। माता चंद्रघंटा का शरीर स्वर्ण के समान उज्ज्वल है और इनके दस हाथ हैं।

वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा मां चंद्रघंटा सहित समस्त स्थापित देवताओं की षोडशोपचार पूजा करनी चाहिए। मां को गंगाजल, दूध, दही, घी शहद से स्‍नान कराने के पश्‍चात वस्‍त्र, हल्‍दी, सिंदूर, पुष्‍प, चंदन, रोली, मिष्‍ठान और फल का अर्पण करें तथा इस मंत्र का जाप करें। या देवी सर्वभू‍तेषु मां चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।

Shardiya Navratri 2021: आज तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की आराधना, जानिए पूजा विधि और मंत्र
Shardiya Navratri 2021: जान लें नवरात्रि व्रत करने के जरूरी नियम, भूल से भी न करें यह गलतियाँ

मां चंद्रघंटा का रूप :-

मां का यह रूप बहुत ही शांत और परोपकारी है। उसके सिर में एक घंटे के आकार का अर्धचंद्राकार है। इनके शरीर का रंग सोने जैसा चमकीला होता है। उसके दस हाथ हैं, जिनमें शस्त्र, शस्त्र और बाण सुशोभित हैं। इनका वाहन सिंह है। इनकी मुद्रा युद्ध के लिए तैयार होने की है।

Shardiya Navratri 2021: आज तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की आराधना, जानिए पूजा विधि और मंत्र
जानिए काँगड़ा देवी के बारे में, ये माता के 51 शक्तिपीठों में से एक शक्तिपीठ है

मां चंद्रघंटा की कृपा से साधक के सभी पाप और बाधाएं दूर हो जाती हैं। मां चंद्र घंटा जल्द ही भक्तों के कष्टों का समाधान करता है। उसका उपासक 'सिंह' के समान पराक्रमी और निडर हो जाता है। उनकी घंटी की आवाज हमेशा उनके भक्तों को भूत-प्रेत से बचाती है। उनका ध्यान करने पर शरणार्थी की रक्षा के लिए इस घंटे की आवाज सुनाई देती है।

Shardiya Navratri 2021: आज तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की आराधना, जानिए पूजा विधि और मंत्र
कामाख्या देवी : 51 शक्तिपीठों में से सबसे महत्वपूर्ण मंदिर, जानिए महत्वपूर्ण रहस्य

मां का स्वभाव नम्रता और शांति से भरा रहता है। इनकी पूजा करने से वीरता और निर्भयता के साथ-साथ नम्रता और नम्रता का विकास होता है और चेहरे, आंखों और पूरे शरीर में तेज की वृद्धि होती है। वाणी में दिव्य, अलौकिक माधुर्य समाहित है। मां चंद्रघंटा के भक्त और उपासक जहां भी जाते हैं, लोगों को उनके दर्शन कर शांति और खुशी का अनुभव होता है।

माता के उपासक के शरीर से दिव्य प्रकाशमान परमाणुओं का अदृश्य विकिरण निकलता रहता है। यह दिव्य क्रिया साधारण आंखों को दिखाई नहीं देती, लेकिन साधक और उसके संपर्क में आने वाले लोग इसे महसूस करते हैं।

Shardiya Navratri 2021: आज तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की आराधना, जानिए पूजा विधि और मंत्र
शक्तिपीठ मनसा देवी , जहाँ गिरा था देवी सती के मस्तिष्क का अग्र भाग

मां 'चंद्रघंटा' जी की आरती :-

जय मां चंद्रघंटा सुख धामपूर्ण कीजो मेरे कामचंद्र समान तू शीतल दातीचंद्र तेज किरणों में समातीक्रोध को शांत बनाने वालीमीठे बोल सिखाने वालीमन की मालक मन भाती होचंद्र घंटा तुम वरदाती होसुंदर भाव को लाने वालीहर संकट मे बचाने वालीहर बुधवार जो तुझे ध्यायेश्रद्धा सहित जो विनय सुनायमूर्ति चंद्र आकार बनाएंसन्मुख घी की ज्योत जलाएंशीश झुका कहे मन की बातापूर्ण आस करो जगदाताकांची पुर स्थान तुम्हाराकरनाटिका में मान तुम्हारानाम तेरा रटू महारानी'भक्त' की रक्षा करो भवानी।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.