नवरात्रि का पंचम दिन : मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती, जानिए कथा और इसका महत्त्व

नवरात्रि का पंचम दिन : मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती, जानिए कथा और इसका महत्त्व

नवरात्रि के पांचवे दिन मां स्कंदमाता की पूजा अर्चना की जाती है। यह बुध ग्रह की देवी हैं। जो जातक स्कंदमाता की पूजा अर्चना करते हैं उनकी कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति मजबूत होती है।
Vivek Mishra

नवरात्रि के पंचम दिन मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती है। स्कंद माता का रूप सौंदर्य अद्वितिय आभा लिए शुभ्र वर्ण का होता है। वात्सल्य की मूर्ति हैं स्कंद माता। मान्यता अनुसार संतान प्राप्ति हेतु मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है।

पहाड़ों पर रहकर सांसारिक जीवों में नवचेतना का निर्माण करने वालीं स्कंदमाता। कहते हैं कि इनकी कृपा से मूढ़ भी ज्ञानी हो जाता है।

स्कंद कुमार कार्तिकेय की माता के कारण इन्हें स्कंदमाता नाम से अभिहित किया गया है। इनके विग्रह में भगवान स्कंद बालरूप में इनकी गोद में विराजित हैं। इस देवी की चार भुजाएं हैं। ये दाईं तरफ की ऊपर वाली भुजा से स्कंद को गोद में पकड़े हुए हैं।

नीचे वाली भुजा में कमल का पुष्प है। बाईं तरफ ऊपर वाली भुजा में वरदमुद्रा में हैं और नीचे वाली भुजा में कमल पुष्प है। इनका वर्ण एकदम शुभ्र है। ये कमल के आसन पर विराजमान रहती हैं। इसीलिए इन्हें पद्मासना भी कहा जाता है। सिंह इनका वाहन है।

नवरात्रि का पंचम दिन : मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती, जानिए कथा और इसका महत्त्व
जानिए कैसा होगा आपका आने वाला सप्ताह, साप्ताहिक राशिफल (12 अप्रैल से 18 अप्रैल)

माँ की उपासना का मंत्र :_

सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया।

शुभदास्तु सदा देवी स्कंदमाता यशस्विनी॥

सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया। शुभदास्तु सदा देवी स्कंदमाता यशस्विनी॥
नवरात्रि का पंचम दिन : मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती, जानिए कथा और इसका महत्त्व
प्रमुख धार्मिक स्थलो में से एक है चिंतपूर्णी माता मंदिर, जानिए इसका इतिहास और महत्व

माँ स्कन्दमाता की पूजन विधि :-

  • चैत्र नवरात्रि की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को प्रात: काल स्नान करने के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करें। इसके बाद पूजन आरंभ करें।

  • मां की प्रतिमा को गंगाजल से शुद्ध करें।

  • इसके बाद फूल चढ़ाएं।

  • मिष्ठान और 5 प्रकार के फलों का भोग लगाएं।

  • कलश में पानी भरकर उसमें कुछ सिक्के डालें।

  • इसके बाद पूजा का संकल्प लें।

  • स्कंदमाता को रोली-कुमकुम लगाएं।

  • मां की आरती उतारें तथा मंत्र का जाप करें।

माँ स्कन्दमाता की कथा :-

कुमार कार्तिकेय की रक्षा के लिए जब माता पार्वती क्रोधित होकर आदिशक्ति रूप में प्रगट हुईं तो इंद्र भय से कांपने लगे। इंद्र अपने प्राण बचाने के लिए देवी से क्षमा याचना करने लगे। कुमार कार्तिकेय का एक नाम स्कंद भी है इसलिए माता को मनाने के लिए इंद्र देवताओं सहित स्कंदमाता नाम से देवी की स्तुति करने लगे और उनका इसी रूप में पूजन किया।

नवरात्रि का पंचम दिन : मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती, जानिए कथा और इसका महत्त्व
51 शक्ति पीठियों में से एक शक्ति पीठ नैना देवी मंदिर है, जहां पर माता सती की आंखें गिरी

इस समय से ही देवी अपने पांचवें स्वरूप में स्कंदमाता रूप से जानी गईं और नवरात्र के पांचवें दिन इनकी पूजा का विधान तय हो गया। शास्त्रों में इसका काफी महत्व बताया गया है। इनकी उपासना से भक्त की सारी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं।

भक्त को मोक्ष मिलता है। सूर्यमंडल की अधिष्ठात्री देवी होने के कारण इनका उपासक अलौकिक तेज और कांतिमय हो जाता है। अतः मन को एकाग्र रखकर और पवित्र रखकर इस देवी की आराधना करने वाले साधक या भक्त को भवसागर पार करने में कठिनाई नहीं आती है। उनकी पूजा से मोक्ष का मार्ग सुलभ होता है।

यह देवी विद्वानों और सेवकों को पैदा करने वाली शक्ति है। यानी चेतना का निर्माण करने वालीं। कहते हैं कालिदास द्वारा रचित रघुवंशम महाकाव्य और मेघदूत रचनाएं स्कंदमाता की कृपा से ही संभव हुईं।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news