Lunar Eclipse: लगने जा रहा है साल 2021 का दूसरा चंद्रग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा इसका सबसे ज्यादा प्रभाव

ज्योतिषशास्त्र में भी चन्द्रग्रहण का विशेष महत्व है हर व्यक्ति की राशि चंद्रमा की स्थिति पर निर्भर करती है वहीं जब चंद्रदेव प्रभावित होते हैं तो राशियों पर भी प्रभाव पड़ता है।
Lunar Eclipse: लगने जा रहा है साल 2021 का दूसरा चंद्रग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा इसका सबसे ज्यादा प्रभाव

इस वर्ष का दूसरा चन्द्रग्रहण 19 नवम्बर 2021 को लगेगा, इसी वर्ष का पहला चन्द्रग्रहण 26 मई को लग चुका है।

ज्योतिषशास्त्र में भी चन्द्रग्रहण का विशेष महत्व है हर व्यक्ति की राशि चंद्रमा की स्थिति पर निर्भर करती है वहीं जब चंद्रदेव प्रभावित होते हैं तो राशियों पर भी प्रभाव पड़ता है। धार्मिक मान्यताएं कहती हैं कि चन्द्रग्रहण अशुभ है इसके दौरान कोई शुभ काम नही किया जाता है।

Lunar Eclipse: लगने जा रहा है साल 2021 का दूसरा चंद्रग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा इसका सबसे ज्यादा प्रभाव
जानिए मृत्यु के बाद ज़रूरी क्यों है पिंड दान, पढ़ें मृत्युलोक की रहस्यमय कहानी, गरुड़ पुराण में भी है उल्लेख

वहीं ग्रहण के पूर्व नौ से ग्यारह घण्टे का सूतक काल होता है। ये आशिंक ग्रहण है तो इसके सूतककाल का विशेष प्रभाव नही पड़ेगा। यह ऐसी स्थिति होती है जिसमें सूर्य एवं चन्द्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है इस समय किसी भी प्रकार की पूजा पाठ नही किये जाते हैं, मंदिर के पट बन्द कर दिए जाते हैं। भगवान की मूर्ति को इस समयावधि में छूना भी नही चाहिए।

मन में भगवान का स्मरण करना चाहिए। इस बार आंशिक चन्द्रग्रहण भारत, यूरोप, एशिया के हिस्सों में एवं उत्तर दक्षिण अमरीका एवं उत्तर पश्चिम अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा। चंद्रदेव को मन का कारक कहा जाता है। सूतक काल का प्रभाव तब अधिक होता है जब पूर्ण ग्रहण हो इस बार सूतक काल का प्रभाव कम रहेगा।

आइये जानते हैं कि किन राशियों से जुड़े लोगों को इस चन्द्रग्रहण रहना होगा सतर्क-

Lunar Eclipse: लगने जा रहा है साल 2021 का दूसरा चंद्रग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा इसका सबसे ज्यादा प्रभाव
Vastu Tips: क्या आपके घर में भी लगी है फैमिली फोटो..? अगर हाँ तो कभी ध्यान दिया है किस दिशा में लगी है..?

चंद्र ग्रहण का समय :-

भारत में आंशिक चंद्रग्रहण की शुरुआत 19 नवंबर को दोपहर 12 बजकर 48 मिनट से होगी और ये 4 बजकर 17 मिनट तक दिखाई देगा।

इस राशि पर प्रभावी होगा साल का दूसरा चन्द्रग्रहण :-

इसका प्रभाव मुख्यतः वृषभ राशि एवं कृतिका नक्षत्र में जन्में लोगों पर रहेगा। यह ग्रहण कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष पूर्णिमा को लगेगा। इस राशि से जुड़े लोगों के लिए यह समय हानिकारक है, विवादों से पूरी तरह से बचने की कोशिश करें कानूनी रूप से नुकसान होने की संभावनाएं हैं वहीं लड़ाई झगड़े की स्थिति से भी बचें अन्यथा आपके चोट लगने की संभावनाएं हैं। साधारण रूप से जीवन व्यतीत करें इस समयावधि में शांत मन से रहें हर बात को इग्नोर करने का प्रयास करें।

लोग आपको उकसाने के प्रयास करेंगे पर आप शांत मन से हर फैसला लें किसी भी रूप में जल्दबाजी न करें जिससे समस्याओं का सामना करना पड़े। इस समय के दौरान चंद्रायन्त्र की पूजा करें जिससे आप पर चन्द्रग्रहण से पड़ रहे अशुभ प्रभावों को काटा जा सकता है। चंद्रदेव से जुड़े मन्त्रों का जाप करें इससे अशुभ प्रभावों को रोका जा सकता है।

Lunar Eclipse: लगने जा रहा है साल 2021 का दूसरा चंद्रग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा इसका सबसे ज्यादा प्रभाव
Vastu Tips: घर की छत की दिशा भी है खुशियों का रास्ता, रखेंगे इन बातों का ध्यान तो जरूर मिलेगा फल

क्या है इससे जुड़ी धार्मिक मान्यता :-

पुराणों में ऐसा कहा गया है कि समुद्र मंथन के समय स्वर्भानु नाम के दैत्य ने छल द्वारा अमृतपान करने का प्रयास किया था इस पर सूर्यदेव एवं चंद्रदेव की नजर पड़ गई, उन्होंने इस घटना की जानकारी भगवान विष्णु को दी।

श्रीहरि ने क्रोध में आकर सुदर्शन से दैत्य का सिर अलग कर दिया लेकिन अमृत की कुछ बूंद अंदर जाने से वो दैत्य अमर हो गए।

सिर वाले हिस्से को राहु एवं धड़ को केतु के रूप में जाना जाता है। मान्यता है कि इसी घटना का बदला लेने के लिए राहु केतु सूर्य एवं चन्द्रदेव पर हमला करते हैं। जब इन दोनों सूर्य या चन्द्रमा पर हावी होते हैं तो ग्रहण की स्थिति उत्पन्न होती है। इस दौरान नकारात्मकता बढ़ती है, इसलिए शुभ कार्य इस समयावधि में नही किये जाते हैं।

Lunar Eclipse: लगने जा रहा है साल 2021 का दूसरा चंद्रग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा इसका सबसे ज्यादा प्रभाव
Vastu Tips: चकला-बेलन भी बनाता है घर की किस्मत, ध्यान न देने पर हो सकती है पैसों की तंगी

चन्द्रग्रहण के दौरान याद रखें ये बातें :-

  • इस समयावधि में मूर्तियों को स्पर्श न करें, मंदिर के पट बन्द कर दें।

  • इस दौरान न भोजन पकाएं न ही खाएं। ऐसा करने से स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। जिससे व्यक्ति अनेक रोगों से ग्रसित हो जाता है।

  • ग्रहण की समयावधि में पानी भी नही पीना चाहिए। पूरे समय उपवास रखना चाहिए।

  • गर्भवती स्त्रियों को अपने समीप नारियल रखना चाहिए, अन्यथा ग्रहण का प्रभाव बच्चे पर पड़ता है।

  • इस समयावधि में राहु केतु से जुड़े मंत्रो का भी जाप करना चाहिए क्योंकि ग्रहण का मुख्य कारण यही होते हैं।

Lunar Eclipse: लगने जा रहा है साल 2021 का दूसरा चंद्रग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा इसका सबसे ज्यादा प्रभाव
Vastu Tips: दूर हो जाएंगे घर के सारे कष्ट अगर जान लेंगे वास्तु से जुड़ी ये बातें

गर्भवती महिलाएं चंद्र ग्रहण के दौरान परेज करना चाहिए

गर्भवती महिलाओं को इस दौरान अपना खास ख्याल रखना चाहिए। उन्हें किसी भी तरह का काम नहीं करना चाहिए।

गर्भवती महिलाएं अपने लंबाई के बराबर एक कुश लें। यदि कुश न हो तो कोई सीधा डंडा लेकर उसे कोने में खड़ा कर दें। इससे यदि वह ग्रहण में बैठना या लेटना चाहें तो लेट सकेंगी।

गर्भवती महिलाओं के साथ अन्य लोगों को भी सुई में धागा नहीं डालना चाहिए।

गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं जाना चाहिए, क्योंकि ग्रहण की पड़ने वाली रोशनी बच्चे के स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है।

ग्रहण के समय कुछ काटना, छीलना, छौंकना या बघारना नहीं चाहिए।

ग्रहण के दौरान चारों तरफ बहुत अधिक निगेटिविटी फैल जाती है इसलिए घर में सभी पानी के बर्तन में, दूध में और दही में कुश या तुलसी की पत्ती या दूब धोकर डालनी चाहिए और ग्रहण समाप्त होने के बाद दूब को निकालकर फेंक देना चाहिए ।

इस दौरान घर में भी भगवान के मंदिर को ढक देना चाहिए। पूजा-पाठ करना चाहिए।

जब ग्रहण शुरू हो तब थोड़ा-सा अनाज और कोई पुराना पहना हुआ कपड़ा निकालकर अलग रख दें और जब ग्रहण समाप्त हो जाए तब उस कपड़े और अनाज को आदरसहित किसी सफाई-कर्मचारी को दान कर दें। इससे आपको शुभ फल प्राप्त होंगे।सूतक के दौरान भी नहाना चाहिए और जब ग्रहण हट जाए तो भी नहाना जरूरी होता है।

ग्रहण के समय रसोई से संबंधित कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही कुछ भी खाने से बचना चाहिए।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news