वास्तु टिप्स: शुभ नहीं मानी जाती है यह पाँच चीज़ें, अगर घर में है तो तुरन्त कर दें बाहर

वास्तु टिप्स: शुभ नहीं मानी जाती है यह पाँच चीज़ें, अगर घर में है तो तुरन्त कर दें बाहर

यदि हमारे घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगे तो गृहक्लेश होने के साथ ही धन, नौकरी विवाह स्वास्थ्य संबंधित कई तरह की समस्याएं घेर लेती हैं।

कभी-कभार हमारे घर में कई ऐसी चीजें होती हैं, जिनपर हम ध्यान नहीं देते हैं,लेकिन ये चीजें घर में नकारात्मकता लेकर आती हैं। 

यदि हमारे घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगे तो गृहक्लेश होने के साथ ही धन, नौकरी विवाह स्वास्थ्य संबंधित कई तरह की समस्याएं घेर लेती हैं।

ये चीजें आपकी आर्थिक स्थिति को भी कमजोर कर सकती हैं। इसलिए इन चीजों को अपने घर से तुरंत बाहर कर देना चाहिए।

1. टूटा हुआ शीशा

कई बार हमारे घर में खिड़की के दरवाजों में लगा हुआ कांच टूट जाता है या उसमें दरार आ जाती है तो वह कई दिनों तक ऐसे ही रहता है। कई बार हम दरार पड़े हुए आईने में ही चेहरा देख लेते हैं लेकिन ऐसा करना सही नहीं रहता है।

यदि आपके घर में कोई शीशा टूटा हुआ है, उसमें दरार आ गई है तो इसे तुरंत बदलवा देना चाहिए। इससे आपके घर में नकारात्मकता का संचार होने लगता है। जिससे आपको नुकसान पहुंचता है।

2. टूटी हुई भगवान की मूर्तियाँ या फ़ोटो

घर के मंदिर में कभी भी खंडित (टूटी) प्रतिमा नहीं रखनी चाहिए। भगवान की कटी-फटी तस्वीरों को भी मंदिर या घर में नहीं रखना चाहिए।

यदि प्रतिमाएं मिट्टी की हैं तो उन्हें कही विसर्जित कर दें या फिर किसी उचित स्थान पर मिट्टी में दबा दें। अन्यथा आपके घर में धन संबंधित समस्याएं होने लगती हैं। घर के मंदिर में एक ही देवी-देवता की एक से अधिक तस्वीरे नहीं रखनी चाहिए न ही तस्वीरों को कभी आमने-सामने रखना चाहिए। 

3. ऐसा पौधा जिसमे से दूध निकलता हो

वास्तु के अनुसार कांटेदार या फिर जिनमें से दूध निकलता हो ऐसे पौधे नहीं लगाने चाहिए। कांटेदार पौधे लगाने से आपके घर में अशांति आती है साथ ही आपको धन संबंधी परेशानियों के सामना भी करना पड़ सकता है।

4. ख़राब या रुकी हुई घड़ी

यदि घर में खराब घड़ी है तो उसे तुरंत सही करवाएं या फिर अपने घर से बाहर कर दें। रूकी हुई घड़ी सफलता और उन्नति में बाधक बनती है।

इसी तरह से घर में किसी भी प्रकार का खराब बिजली का उपकरण या खराब मशीन घर में नहीं रखनी चाहिए। ये चीजें आपके घर में नकारात्मकता को बढ़ावा देती हैं।

5. अगर दिशा के हिसाब से नहीं रखी है वस्तुएँ

हर दिशा के अलग दिग्पाल (देवता) होते हैं। इसलिए वास्तु में हर दिशा का बहुत महत्व माना गया है। वास्तु शास्त्र में घर या कार्य स्थल पर किस दिशा में कौन सी वस्तु कहां रखें या किसी चीज का निर्माण कहां कराया जाए इस बारे में भी बताया गया है।

यदि इन बातों का ध्यान न रखा जाए तो वास्तु दोष निर्मित होता है। जिससे नकारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगता है। इसलिए वास्तु के नियमों को ध्यान में रखना आवश्यक होता है। वास्तु में घर हर स्थान के चार कोण बताए गए हैं, ईशान कोण, नैऋत्य कोण, आग्नेय कोण और वायव्य कोण।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news