आज है बसंत पंचमी, जानिए मां सरस्वती की पूजा का शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा विधि

आज है बसंत पंचमी, जानिए मां सरस्वती की पूजा का शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा विधि

बसंत पंचमी के खास दिन को ज्ञान और शिक्षा से जोड़ते हैं। मान्यता है कि इस दिन मां सरस्वती की पूजा-अर्चना करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।
आज है बसंत पंचमी, जानिए मां सरस्वती की पूजा का शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा विधि
Recipe : (Kesariya Meetha Pulav) केसरिया मीठा पुलाव

बसंत पंचमी का त्योहार हर साल माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। मान्यता है कि इस दिन मां सरस्वती का जन्म हुआ था।

माना जाता है कि इस दिन के साथ ही वसंत ऋतु की शुरुआत होती है। बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि-विधान से पूजा की जाती है। बसंत पंचमी के दिन नए कार्य को शुरू करना बेहद शुभ माना जाता है।

इस दिन को श्री पंचमी या सरस्वती पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त, महत्व और मान्यता-

बसंत पंचमी 2021 शुभ मुहूर्त -

16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि लगेगी, जो कि अगले दिन यानी 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में पंचमी तिथि 16 फरवरी को पूरे दिन रहेगी। इस साल बसंत पंचमी पर मां सरस्वती की पूजा का शुभ मुहूर्त करीब साढ़े पांच घंटे तक रहेगा। नई दिल्ली में पूजा मुहूर्त- 16 फरवरी की सुबह 06 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक है।

बसंत पंचमी पूजा विधि -

1. मां सरस्वती की प्रतिमा या मूर्ति को पीले रंग के वस्त्र अर्पित करें।
2. अब रोली, चंदन, हल्दी, केसर, चंदन, पीले या सफेद रंग के पुष्प, पीली मिठाई और अक्षत अर्पित करें।
3. अब पूजा के स्थान पर वाद्य यंत्र और किताबों को अर्पित करें।
4. मां सरस्वती की वंदना का पाठ करें।

बसंत पंचमी का महत्व -

बसंत पंचमी के खास दिन को ज्ञान और शिक्षा से जोड़ते हैं। मान्यता है कि इस दिन मां सरस्वती की पूजा-अर्चना करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news