जानिये आखिर क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार ?

15 दिन जगन्नाथ भगवान को काढ़ो का भोग लगता है | इस दौरान भगवान को आयुर्वेदिक काढ़े का भोग लगाया जाता है। जगन्नाथ धाम मंदिर में तो भगवान की बीमारी की जांच करने के लिए हर दिन वैद्य भी आते हैं।
जानिये आखिर क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार ?

उड़ीसा प्रान्त में जगन्नाथ पुरी में एक भक्त रहते थे , उनका नाम था श्री माधव दास जी। वे अकेले रहते थे, संसार से इनका कोई लेना देना नही।

माधव दास जी अकेले बैठे बैठे भजन किया करते थे, नित्य प्रति श्री जगन्नाथ प्रभु का दर्शन करते थे और उन्ही को अपना सखा मानते थे और प्रभु के साथ खेलते थे। प्रभु इनके साथ अनेक लीलाए किया करते थे। भक्त माधव दास जी अपनी मस्ती में मग्न रहते थे।

जानिये आखिर क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार ?
Vastu Tips: घर में रखें ये मूर्तियां, जाग जायेगी सोयी हुई किस्मत

एक बार माधव दास जी को अतिसार (उलटी–दस्त) का रोग हो गया। वह इतने दुर्बल हो गए कि उठ-बैठ नहीं सकते थे, पर जब तक इनसे बना ये अपना कार्य स्वयं करते थे और किसी से सेवा लेते भी नही थे।

कोई कहे महाराज जी हम कर दे आपकी सेवा तो कहते नही मेरे तो एक जगन्नाथ ही है वही मेरी रक्षा करेंगे । ऐसी दशा में जब उनका रोग बढ़ गया वो उठने बेठने में भी असमर्थ हो गये , तब श्री जगन्नाथजी स्वयं सेवक बनकर इनके घर पहुचे और माधवदासजी को कहा की हम आपकी सेवा कर दे। क्यूंकि उनका इतना रोग बढ़ गया था की उन्हें पता भी नही चलता था की कब मल मूत्र त्याग देते थे और वस्त्र गंदे हो जाते थे।

उन वस्त्रो को जगन्नाथ भगवान अपने हाथो से साफ करते थे, उनके पूरे शरीर को साफ करते थे। कोई अपना भी इतनी सेवा नही कर सके, जितनी जगन्नाथ भगवान ने भक्त माधव दास जी की है।

जानिये आखिर क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार ?
Healthy Aging: आपको जवां बनाए रखेंगी ये 10 चीजें, आज से ही खाना शुरू कर दें

जब माधवदासजी को होश आया,तब उन्होंने तुरंत पहचान लिया कि यह तो मेरे प्रभु ही हैं।

एक दिन श्री माधवदासजी ने पूछ लिया प्रभु से पूछा “प्रभु आप तो त्रिभुवन के मालिक हो, स्वामी हो, आप मेरी सेवा कर रहे हो आप चाहते तो मेरा ये रोग भी तो दूर कर सकते थे, रोग दूर कर देते तो ये सब करना नही पड़ता ।”

ठाकुरजी कहते हा देखो माधव! मुझसे भक्तों का कष्ट नहीं सहा जाता,इसी कारण तुम्हारी सेवा मैंने स्वयं की। जो प्रारब्द्ध होता है उसे तो भोगना ही पड़ता है। अगर उसको काटोगे तो इस जन्म में नही पर उसको भोगने के लिए फिर तुम्हे अगला जन्म लेना पड़ेगा और मै नही चाहता की मेरे भक्त को ज़रा से प्रारब्द्ध के कारण अगला जन्म फिर लेना पड़े, इसीलिए मैंने तुम्हारी सेवा की लेकिन अगर फिर भी तुम कह रहे हो तो भक्त की बात भी नही टाल सकता।

भक्तो के सहायक बन उनको प्रारब्द्ध के दुखो से, कष्टों से सहज ही पार कर देते है प्रभु। अब तुम्हारे प्रारब्द्ध में ये 15 दिन का रोग और बचा है, इसलिए 15 दिन का रोग तू मुझे दे दे। 15 दिन का वो रोग जगन्नाथ प्रभु ने माधवदास जी से ले लिया इसीलिए आज भी जगन्नाथ भगवान होते है बीमार।

जानिये आखिर क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार ?
भूलकर भी कभी भी न दें पड़ोसियों को सूर्यास्त के बाद ये चीजें, हो जाएंगे कंगाल

वो तो हो गयी तब की बात पर भक्त वत्सलता देखो आज भी वर्ष में एक बार जगन्नाथ भगवान को स्नान कराया जाता है ( जिसे स्नान यात्रा कहते है )

स्नान यात्रा करने के बाद हर साल 15 दिन के लिए जगन्नाथ भगवान आज भी बीमार पड़ते है।

15 दिन के लिए मंदिर बंद कर दिया जाता है लेकिन कभी भी जगनाथ भगवान की रसोई बंद नही होती पर इन 15 दिन के लिए उनकी रसोई बंद कर दी जाती है।

भगवान को 56 भोग नही खिलाया जाता , बीमार हो तो परहेज़ तो रखना पड़ेगा

जानिये आखिर क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार ?
Gemstones (रत्न): महंगे रत्न नहीं खरीद सकते हैं तो जानिए रत्नों के उपरत्न के बारे में, बदल देंगे ज़िंदगी

प्रभु को लगाया जाता है काढ़ो का भोग...

15 दिन जगन्नाथ भगवान को काढ़ो का भोग लगता है | इस दौरान भगवान को आयुर्वेदिक काढ़े का भोग लगाया जाता है। जगन्नाथ धाम मंदिर में तो भगवान की बीमारी की जांच करने के लिए हर दिन वैद्य भी आते हैं।

काढ़े के अलावा फलों का रस भी दिया जाता है। वहीं रोज शीतल लेप भी लगया जाता है। बीमार के दौरान उन्हें फलों का रस, छेना का भोग लगाया जाता है और रात में सोने से पहले मीठा दूध अर्पित किया जाता है।

जानिये आखिर क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार ?
Sawan: सावन में ये पूजा दिलाएगी शिव जी से मुँह-माँगा वरदान, जाने पूजा की विधि

भगवान जगन्नाथ बीमार होने के बाद 15 दिनों तक आराम करते है। आराम के लिए 15 दिन तक मंदिरों पट भी बंद कर दिए जाते है और उनकी सेवा की जाती है। ताकि वे जल्दी ठीक हो जाएं।

जिस दिन वे पूरी तरह से ठीक होते है उस दिन जगन्नाथ यात्रा निकलती है, जिसके दर्शन हेतु असंख्य भक्त उमड़ते है।

खुद पे तकलीफ ले कर अपने भक्तो का जीवन सुखमयी बनाये। ऐसे तो सिर्फ भगवान ही हो सकते है।

जानिये आखिर क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार ?
रत्नों का भी होता है जीवन में खास महत्व, जानें कौन सा धारण करें जो बना देगा आपको धनवान

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news