अमेरिका प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा से बौखलाया चीन, गंभीर परिणाम भुगतने की दी धमकी

चीन हमेशा से ताइवान पर अपने अधिकार का दावा करता आ रहा है और जब भी किसी विदेशी अधिकारियों के ताइवान दौरा किया तो इसका चीन ने पुरजोर विरोध किया। ड्रैगन को लगता है कि यह द्वीपीय क्षेत्र को संप्रभु के रूप में मान्यता देने के समान है।
अमेरिका प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा से बौखलाया चीन, गंभीर परिणाम भुगतने की दी धमकी

चीन इस समय अमेरिका से बौखलाया हुआ है और उसने यहां तक कि गंभीर परिणाम भुगतने की भी धमकी दे डाली है। दरअसल, अमेरिका प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी ताइवान यात्रा पर पहुंचीं हैं और उन्होंने राष्ट्रपति साई इंग-वेन के साथ मुलाकात मुलाकात की है।

उनकी इस यात्रा से चीन का पारा चढ़ गया है और उसने ताइवान के पास सैन्य अभ्यास तक शुरू कर दिया है।

साथ ही साथ उसने सीमावर्ती इलाकों में गोला-बारूद से लेकर तोप और सैन्य ताकत भी बढ़ानी शुरू कर दी है। सड़कों पर चीन आर्मी के टैंको का भारी संख्या में मूवमेंट दिखाई दे रहा है।

चीन हमेशा से ताइवान पर अपने अधिकार का दावा करता आ रहा है और जब भी किसी विदेशी अधिकारियों के ताइवान दौरा किया तो इसका चीन ने पुरजोर विरोध किया। ड्रैगन को लगता है कि यह द्वीपीय क्षेत्र को संप्रभु के रूप में मान्यता देने के समान है।

बड़ी बात यह है कि चीन के भारी विरोध के बावजूद अमेरिका से आया प्रतिनिधिमंडल किसी भी तरह से बैकफुट पर नजर नहीं आ रहा है और वह लगातार ताइवान में कई नेताओं के मुलाकात कर रहा है।

ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग-वेन के साथ मुलाकात के बाद एक नैंसी ने कहा कि आज विश्व के सामने लोकतंत्र और निरंकुशता के बीच एक को चुनने की चुनौती है। ताइवान और दुनियाभर में सभी जगह लोकतंत्र की रक्षा करने को लेकर अमेरिका की प्रतिबद्धता अडिग है।

बौखलाए चीनी ने अमेरिका को गंभीर अंजाम की चेतावनी दी है. चीन ने कहा है कि पेलोसी के ताइवान दौरे के बाद दशकों तक इसके अंजाम भुगतने होंगे।

ताइवान के चारों तरफ PLA मिलिट्री ड्रिल कर रही है। ईस्टर्न चीन में बैलिस्टिक मिसाइल DF-5 तैनात किए जा रहे हैं। इस मिसाइल से 12 से 15 किलोमीटर तक हमला किया जा सकता है।

नैंसी पेलोसी प्रतिनिधि सभा की 52वीं स्पीकर हैं। उन्होंने उस समय इतिहास रचा जब सदन की स्पीकर के रूप में पहली महिला चुनी गईं। स्पीकर नैंसी का यह चौथा कार्यकाल है।

उनकी पहचान इस बात से भी है कि उन्होंने कम लागत, तनख्वाह बढ़ाने और अमेरिकी परिवारों के लिए रोजगार पैदा पर काम किया है।

नैंसी अमेरिकी डेमोक्रेटिक पार्टी की सदस्य हैं और उनका कांग्रेस के लिए पहली बार 1987 में चुनाव हुआ। अध्यक्ष के रूप में वह उपराष्ट्रपति के बाद राष्ट्रपति उत्तराधिकारी की लाइन में दूसरा स्थान रखती हैं। इसी से उनकी ताकत का अंदाजा लगाया जा सकता है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news