IPL-13: चेन्नई सुपर किंग्स ने दर्ज की धमाकेदार जीत, किंग्स इलेवन पंजाब को 10 विकेट से हराया
IPL 2020

IPL-13: चेन्नई सुपर किंग्स ने दर्ज की धमाकेदार जीत, किंग्स इलेवन पंजाब को 10 विकेट से हराया

इस जीत में चेन्नई की डेथ बोलिंग का भी अहम योगदान रहा, जिसने एक समय 200 के पार जाती दिख रही पंजाब को 20 ओवरों में चार विकेट खोकर 178 रनों पर ही सीमित कर दिया।

Yoyocial News

Yoyocial News

लगातार तीन हार से आलोचकों के निशाने पर आई तीन बार की विजेता चेन्नई सुपर किंग्स ने रविवार को अपने दो अनुभवी बल्लेबाजों शेन वाटसन और फाफ डु प्लेसिस के दम पर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें संस्करण में जीत के रास्ते पर वापसी कर ली है।

चेन्नई ने दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए मैच में किंग्स इलेवन पंजाब को 10 विकेट से हरा इस सीजन की अपनी दूसरी जीत दर्ज की।

पंजाब ने पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई को 179 रनों का लक्ष्य दिया। चेन्नई ने वाटसन (नाबाद 83 रन, 53 गेंद 11 चौके, 3 छक्के) और डु प्लेसिसस (नाबाद 87 रन, 53 गेंद, 11 चौके, 1 छक्का) बेहतरीन साझेदारी के दम पर इस लक्ष्य को 17.4 ओवरों में बिना विकेट खोकर हासिल कर 10 विकेट से मुकाबला जीत लिया।

इस जीत में चेन्नई की डेथ बोलिंग का भी अहम योगदान रहा, जिसने एक समय 200 के पार जाती दिख रही पंजाब को 20 ओवरों में चार विकेट खोकर 178 रनों पर ही सीमित कर दिया।

खराब फॉर्म से गुजर रही चेन्नई को इस मैच में जिस तरह की ओपनिंग पार्टनरशिप की जरूरत थी, वाटसन और डु प्लेसिस ने उसे वो दी। शुरुआती छह ओवरों में इन दोनों अनुभवी बल्लेबाजों ने बिना विकेट खोए 60 रन जोड़ लिए।

राहुल ने फिर इस सीजन बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे अपने युवा लेग स्पिनर रवि बिश्नोई को गेंद दी। बिश्नोई भी इन दोनों के आगे कुछ नहीं कर पाए। 10 ओवरों में टीम का स्कोर बिना विकेट खोए 101 रन हो गया।

अब ये दोनों बल्लेबाज अपने पैर जमा चुके थे और इनको आउट करना पंजाब के लिए मुश्किल साबित हुआ। इसी के साथ वाटसन और डु प्लेसिस ने आईपीएल में चेन्नई के लिए किसी भी विकेट के लिए अभी तक की सबसे बड़ी साझेदारी का रिकार्ड अपने नाम कर लिया है।

और यह आईपीएल में रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए दूसरी सबसे बड़ी जीत है। साथ ही चेन्नई इस मैदान पर इस सीजन रनों का पीछा करते हुए जीतने वाली पहली टीम भी है।

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी पंजाब एक समय 200 के पार जाती दिख रही थी, लेकिन शार्दूल ठाकुर और ड्वेन ब्रावो ने अंत के ओवरों में उसके बल्लेबाजों को बांध कर रख दिया।

कप्तान लोकेश राहुल (63 रन, 52 गेंद, 7 चौके, 1 छक्का) भी 18वें ओवर में आउट हुए और उनसे एक गेंद पहले निकलोस पूरन पवेलियन लौटे। इन दोनों के जाने के बाद ही पंजाब की 200 पार जाने की मंशा अधूरी रह गई।

राहुल ने मयंक अग्रवाल (26) के साथ मिलकर टीम को सधी हुई शुरुआत दी। मयंक को पीयूष चावला ने आउट किया। करुण नायर की जगह इस मैच में शामिल किए गए मनदीप सिंह (27) बड़ी पारी तो नहीं खेल सके लेकिन टीम को संभालने में राहुल का अच्छा साथ दिया।

मनदीप को रवींद्र जडेजा ने आउट किया। उनके बाद आए निकलोस पूरन ( 33 रन, 17 गेंद, 1 चौका, 3 छक्के) और राहुल ने मध्य के ओवरों में रनरेट बढ़ा दी।

ये दोनों जिस तरह से खेल रहे थे, उसी से लग रहा था कि पंजाब 200 का स्कोर छू लेगी, लेकिन शार्दूल ने एक ही ओवर में इन दोनों को आउट कर दिया।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news