इंडियन प्रीमियर लीग का बदलता स्वरुप तथा कम होती फैन फॉलोइंग

इस खेल की चकाचौंध ग्लैमर रोमांच तथा खेल से जुड़े हुए मोटे मुनाफे के कारण न केवल भारतीय दर्शकों का बल्कि बड़ी-बड़ी भारतीय कंपनियों का भी पसंदीदा इवेंट के रूप में आईपीएल विख्यात हो चला है।
इंडियन प्रीमियर लीग का बदलता स्वरुप तथा कम होती फैन फॉलोइंग

इंडियन प्रीमियर लीग हिंदुस्तान में 2008 से प्रारंभ हुई, इसमें आठ टीमों को जो भारत के मुख्य शहरों के नाम पर हैं, प्रवेश दिया गया।

अपने प्रथम सीजन में ही आईपीएल ने न केवल भारतीय क्रिकेट पर बल्कि भारतीय दर्शकों के मानव मस्तिष्क पर प्रभाव डाला और अपनी एक बड़ी फैन फॉलोइंग तैयार कर ली। भारत में क्रिकेट एक धर्म है।

ऐसा कहा जाता है जो आईपीएल के संदर्भ में पूरी तरह फिट है क्योंकि आईपीएल में न केवल क्रिकेट का रोमांच बल्कि उसमें ग्लैमर का तड़का भी लगाया गया था, जिसके कारण इसके दर्शकों का क्रेज बढ़ता गया।

लोग अपने हिसाब से अपने शहर के टीमों से जुड़ाव महसूस करते हुए इस खेल से सीधे जुड़ते चले गए, जिससे विभिन्न लोकप्रिय चैनलों के डेली सोप तथा बॉलीवुड की लोकप्रिय फिल्मों के प्रदर्शन की तिथियां भी आईपीएल के हिसाब से परिवर्तित की जाने लगी l

इस खेल की चकाचौंध ग्लैमर रोमांच तथा खेल से जुड़े हुए मोटे मुनाफे के कारण न केवल भारतीय दर्शकों का बल्कि बड़ी-बड़ी भारतीय कंपनियों का भी पसंदीदा इवेंट के रूप में आईपीएल विख्यात हो चला है।

इस फटाफट क्रिकेट मैं अब तक मुंबई इंडियंस 5 बार तथा चेन्नई सुपर किंग चार बार की चैंपियन रही हैं जो सर्वाधिक लोकप्रिय टीम के रूप में पसंद की जाने लगी l

इसके अतिरिक्त कोलकाता नाइट राइडर दो बार राजस्थान रॉयल्स एक बार सनराइजर्स हैदराबाद एक बार एवं डेक्कन चार्जर्स हैदराबाद एक बार की विजेता रही हैl जिसके कारण इस खेल की एक अपनी ही फैन फॉलोइंग तैयार हो गई, जिसमें न केवल क्रिकेट खेलने वाले बच्चे बल्कि बुजुर्ग कामकाजी व्यक्ति महिलाएं भी सम्मिलित हैं।

IPL 2022 कुछ परिवर्तन कर 8 के स्थान पर 10 टीमों को स्थान दिया गया है, जिसके कारण प्रत्येक टीम के संयोजन कुछ न कुछ असर अवश्य हुआ है।

आईपीएल 2022 वर्तमान समय चल रही है परंतु पुरानी सर्वाधिक लोकप्रिय टीमों के खराब प्रदर्शन भारत के स्टार खिलाड़ियों के खराब फार्म तथा रोमांच के अभाव ने इस बार आईपीएल से दर्शकों का वह जुड़ाव नहीं हुआ जो हमेशा होता रहा है।

जहां एक और वर्ष 2012 के आईपीएल का फाइनल मैच जिसे लगभग 18 करोड़ों दर्शकों को द्वारा देखा वह सराहा गया वही वर्तमान 15 में सीजन में यह संख्या घटकर 6 से 7 करोड़ के बीच में आ गई है ।

यह भारतीय क्रिकेट के लिए एक गंभीर चिंतन का विषय है निश्चित ही दर्शकों का जुड़ाव कम हुआ है।

आईपीएल की फैन फॉलोइंग कम होने की मुख्य वजह लोकप्रिय टीमों का निराशाजनक प्रदर्शन भी है ।

क्या वर्ष 2022 में आईपीएल अपने पूर्व स्वरूप को प्राप्त कर अपनी फैन फॉलोइंग को बरकरार रखने में सफल होगा। यह भविष्य बताएगा

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news