बिहार: दलित नेता की हत्या में तेजस्वी, तेजप्रताप पर मामला दर्ज, सियासी उबाल
राज-काज

बिहार: दलित नेता की हत्या में तेजस्वी, तेजप्रताप पर मामला दर्ज, सियासी उबाल

बिहार के पूर्णिया के खजांची हाट में दलित नेता और राजद एससी-एसटी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति मल्लिक की हत्या के मामले में तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद बिहार के चुनाव में राजनीति का पारा चढ़ गया है।

Yoyocial News

Yoyocial News

बिहार के पूर्णिया के खजांची हाट थाना क्षेत्र में दलित नेता और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) एससी-एसटी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति मल्लिक की हत्या के मामले में राजद नेता तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद बिहार के चुनाव में राजनीति का पारा चढ़ गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि रविवार को पूर्णिया के मुर्गी रोड फॉर्म रोड स्थित शक्ति मल्लिक के घर में घुसकर अज्ञात अपराधियों ने मल्लिक की गोली मारकर हत्या कर दी।

इस मामले में मृतक की पत्नी खुशबू देवी के लिखित बयान के आधार पर खजांची हाट थाना में एक प्राथमिकी दर्ज की गई जिसमें राजद नेता और बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव,, कालू पासवान, अनिल साह, सुनीती देवी, मनोज पासवान को नामजद आरोपी बनाया गया है।

इस बीच, मृतक का एक महीने पहले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने खुद की हत्या की आशंका जताई है। वीडियो में कहा गया है कि अगर उनकी हत्या होती है, तो उसके लिए तेजस्वी यादव और अनिल साधु जिम्मेदार होंगे। इस मामले में हालांकि थाना में कोई मामला दर्ज नहीं किया गया था।

इधर, पूर्णिया के पुलिस अधीक्षक विशाल शर्मा ने बताया कि इस मामले की प्राथमिकी खजांची हाट थाना में दर्ज कर ली गई है तथा पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया यह हत्या का मामला लगता है। उन्होंने बताया कि मृतक के परिजनों का आरोप है कि मल्लिक चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे, यही कारण है कि उनकी हत्या करवा दी गई है।

इधर, हत्या के बाद राजनीति गर्म हो गई है। जदयू के प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि इस हत्या में तेजस्वी के नाम आने के बाद उनकी हकीकत सामने आ गई है। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि यह पुलिस का काम है और पुलिस मामले की जांच कर रही है।

भाजपा के अजीत चौधरी ने कहा कि राजद के शासनकाल में भी दलितों, वंचितों की हत्या होती रही थी। आज भी राजद के लोगों की कार्यप्रणाली नहीं बदली है। उन्होंने कहा कि राजद की हकीकत सामने आ गई है।

इधर, राजद इसे राजनीतिक साजिश बता रहा है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news