गांधी के गढ़ में सेंध लगाने के लिए बीजेपी व्यवसायी अजय हरिनाथ को पार्टी में कर सकती है शामिल

बीजेपी की ओर से अरबपति अजय हरिनाथ सिंह को पार्टी में शामिल करने की संभावना है, जो मुंबई के व्यवसायी हैं। उनकी जड़ें सुल्तानपुर में हैं, जो नेहरू-गांधी परिवार के पॉकेट बोरो अमेठी और रायबरेली के निर्वाचन क्षेत्रों से सटी हुई हैं।
गांधी के गढ़ में सेंध लगाने के लिए बीजेपी व्यवसायी अजय हरिनाथ को पार्टी में कर सकती है शामिल

बीजेपी की ओर से अरबपति अजय हरिनाथ सिंह को पार्टी में शामिल करने की संभावना है, जो मुंबई के व्यवसायी हैं। उनकी जड़ें सुल्तानपुर में हैं, जो नेहरू-गांधी परिवार के पॉकेट बोरो अमेठी और रायबरेली के निर्वाचन क्षेत्रों से सटी हुई हैं। सुल्तानपुर निर्वाचन क्षेत्र वर्तमान में लोकसभा में मेनका गांधी द्वारा प्रतिनिधित्व किया जाता है। बीजेपी अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले अजय हरिनाथ सिंह को शामिल करने की योजना बना रही है ताकि राजपूत बहुल क्षेत्र का फायदा उठाया जा सके।

एक सूत्र ने कहा, "अजय हरिनाथ सिंह से भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेताओं ने पार्टी में महत्वपूर्ण पद संभालने की पेशकश की है।" उन्होंने कहा कि वह परोपकार के अपने कार्यों के माध्यम से सुल्तानपुर में सक्रिय रहे हैं।

अजय हरिनाथ सिंह, डार्विन प्लेटफॉर्म ग्रुप ऑफ कंपनीज (डीपीजीसी) के भारत का एक वैश्विक व्यापार समूह के अध्यक्ष हैं। जब आईएएनएस ने अजय हरिनाथ से संपर्क किया, तो उन्होंने भाजपा में शामिल होने की जानकारी नहीं दी, लेकिन कहा, "भारतीय गणराज्य का भविष्य युवा नेताओं के कंधों पर टिका है, जो ताजा, ऊर्जावान हैं, क्योंकि उनसे बहुत कुछ प्रदान करने की उम्मीद की जाती है- भारतीय राजनीतिक परि²श्य के लिए ऊर्जा की जरूरत है।"

उन्होंने कहा, "भारतीय मतदाताओं ने कई बार राहुल गांधी के नेतृत्व को खारिज कर दिया है। गांधी की उम्मीदवारी 2024 के आम चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन से निर्धारित होगी।"

राष्ट्रीय स्तर पर, 16वीं लोकसभा में उनमें से 47 युवा हैं। 2024 में, 17वीं लोकसभा की संख्या बढ़कर 100 हो सकती है। 2029 तक, यह सुरक्षित रूप से माना जा सकता है कि भारतीय मतदाता, जो विशाल युवा मतदाताओं का गठन करते हैं, अधिक परिपक्व होंगे और एक युवा नेता को चुनने का एक सुविचारित निर्णय लेंगे।"

भाजपा ने अमेठी पर पहले ही कब्जा कर लिया है और हाल के जिला पंचायत चुनावों में उसने राज्य में जीत हासिल की है, लेकिन सुल्तानपुर में, समाजवादी पार्टी को कड़ी चुनौती मिल सकती है जो क्षेत्र में राजपूत वोटों पर भी दांव लगा रही है।

मोटे अनुमान के मुताबिक उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों (9 फीसदी), राजपूतों (4 फीसदी), वैश्य (4 फीसदी) और अन्य ऊंची जातियों की कुल आबादी करीब 20 फीसदी है। मुस्लिम और दलित समान रूप से 20 प्रतिशत और ओबीसी लगभग 40 प्रतिशत हैं।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news