कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का अखिलेश यादव पर हमला, बोले वह मुंगेरीलाल की तरह सपने देखने में माहिर हैं

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने आज सपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए ये विचार व्यक्त किए। कहा कि ऐसे लोग एसी में बैठकर बे सिर पैर का बयान देने के सिवा कर ही क्या सकते हैं? अखिलेश वही कर रहे हैं।
कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का अखिलेश यादव पर हमला, बोले वह मुंगेरीलाल की तरह सपने देखने में माहिर हैं

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री और राज्य सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि "अखिलेश यादव मुंगेरीलाल की तरह सपने देखने में माहिर हैं। वह भी दिन में। दरअसल, वह इत्तेफाकन नेता हैं। इसके लिए उन्होंने कोई संघर्ष नहीं किया। उनको जो भी मिला वह तश्तरी में परोसकर दे दिया गया।"

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने आज सपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए ये विचार व्यक्त किए। कहा कि ऐसे लोग एसी में बैठकर बे सिर पैर का बयान देने के सिवा कर ही क्या सकते हैं? अखिलेश वही कर रहे हैं।

कोरोना के पहले चरण से अब टीके पर उन्होंने भ्रम फैलाने और गाल बजाने के सिवा और क्या किया, यह भी उनको बताना चाहिए। शुरू में टीकाकरण के खिलाफ अब स्वास्थ्य सुविधाओं के खिलाफ, जो लगातार बेहतर हुई हैं और हो रही हैं उनके खिलाफ भ्रम फैला रहे हैं।

रही बतौर मुख्यमंत्री योगी जी के दौरों की बात, तो ऐसी हालात में यह काम वही कर सकता है जो प्रदेश की 24 करोड़ से अधिक जनता के लिए प्रतिबद्ध हो। उसे अपना परिवार मानता हो। आप के लिए तो आपका परिवार ही सर्वोपरि था और सैफई ही प्रदेश।

अखिलेश तो सैफई और अपने संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ गए भी नही जबकि योगी जी वहां गए और स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी ली।

सिद्धार्थ नाथ ने कहा कि झूठ की राजनीति के आधार पर 2022 को लेकर ख्वाब कभी पूरा होने से रहे। जनता बार बार आपको खारिज करती रही है, आगे भी करेगी। वह आपकी हकीकत से पूरी तरह वाकिफ है।

कहा कि अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी अध्यक्ष इस बात से खुश नहीं हैं के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता वाली टीम 9 के अथक प्रयास से प्रदेश में कोरोना के मामलों में रिकॉर्ड गिरावट आयी है मुख्यमंत्री लखनऊ में रहे या क्षेत्र में भ्रमण पर रहे हैं, टीम नाइन की बैठक रोजाना होती है और आश्चर्य की बात है कि पिछले 23 दिनों में योगी की मेहनत के फलस्वरूप कोरोना के सक्रिय मामलों में कमी आई है वह सपा को नहीं दिख रही है।

अगर सरकार काम नहीं कर रही होती तो 30 अप्रैल को 3.10 लाख कोरोना के मरीज आज घटकर 76000 कैसे होते। पॉजिटिविटी दर जो एक समय 17 प्रतिशत थी वह अब दो प्रतिशत तक कैसे गिरती। साफ स्पष्ट है कि सपा इस बात से कतई खुश नहीं है कि प्रदेश की सरकार प्रदेश निवासियों को करोड़ों की संक्रमण से सुरक्षित बाहर निकालने में सफल हो रही है तथा समाचार में रहने के लिए जुटे अनर्गल व बेबुनियाद बयान जारी कर रही है।

उन्होंने कहा कि लोगों ने भ्रम फैलाकर और रोज नए झूठ बोल कर सपा जिस तरह की राजनीति कर रही है। इसका जवाब जनता एक बार दे चुकी है और दूसरी बार भी देगी। ड्रॉइंगरूम में बैठकें हैं, ब्याज दरों में और ट्विटर खेलने वालों को जनता जवाब देगी।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news