STF फेल: योगी के गोरखपुर में अपहृत बच्चे की हत्या,1 करोड़ की फिरौती मांगी गई थी, बदमाश गिरफ्त से दूर
राज-काज

STF फेल: योगी के गोरखपुर में अपहृत बच्चे की हत्या,1 करोड़ की फिरौती मांगी गई थी, बदमाश गिरफ्त से दूर

पुलिस और एसटीएफ संयुक्त अभियान चलाकर बच्चे को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराने कि बात हो करते रह गये और अपहर्ताओं ने बच्चे की हत्या कर दी. स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने बच्चे का शव बरामद कर लिया है. बदमाशों की तलाश की जा रही है.

Yoyocial News

Yoyocial News

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कर्मभूमि गोरखपुर में पांचवीं कक्षा के जिस छात्र का रविवार को अपहरण हुआ था, उसकी हत्या हो गई है. पुलिस और एसटीएफ संयुक्त अभियान चलाकर बच्चे को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराने कि बात हो करते रह गये और अपहर्ताओं ने बच्चे की हत्या कर दी. स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने बच्चे का शव बरामद कर लिया है. बदमाशों की तलाश की जा रही है.

जानकारी के मुताबिक गोरखपुर के एक पान विक्रेता के बेटे का 26 जुलाई को अपहरण कर हो गया था. अपहरणकर्ताओं ने पान विक्रेता से एक करोड़ की फिरौती मांगी थी. मुख्यमंत्री का इलाका हने के कारण माना ये जा रहा था कि पुलिस किसी भी तरह से इस मामले में बच्चे को बरामद कर अप्र्ह्ताओं को गिरफ्तार कर लेगी, लेकिन पुलिस के हाथ बड़ी असफलता लगी है. या अलग बात है कि अपहरण की घटना सामने आने पर हरकत में आई पुलिस ने बच्चे की बरामदगी के लिए कई टीमें गठित कर दीं थीं.

एसटीएफ के मुताबिक रविवार की शाम 5 बजे के आसपास ही बच्चे की हत्या कर दिए जाने की आशंका है.

कानपुर और गोंडा के बाद अब गोरखपुर में बदमाशों द्वारा एक बच्चे का अपहरण और अब हत्या ने पहले से ही सवालों के घेरे में आई पुलिस की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. इस घटना को लेकर विपक्षी कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला है. प्रियंका ने ट्वीट कर सवाल किया है कि क्या यूपी के मुखिया ने खबरें देखना छोड़ दिया है? क्या गृह विभाग में बैठे लोगों के सामने ये खबरें नहीं जाती?

बता दें कि गोरखपुर के जंगल छत्रधारी गांव के मिश्रौलिया टोला निवासी महाजन गुप्त, घर में ही किराने की दुकान चलाते हैं साथ ही जमीन के कारोबार से भी जुड़े हैं। उनका बेटा बलराम दिन में 12 बजे के आसपास खाना खाने के बाद टी शर्ट और पैंट पहनकर दोस्तों के साथ खेलने निकला और घर नहीं लौटा। तीन बजे महाजन गुप्त के मोबाइल पर अनजान नंबर से फोन आया। दूसरी तरफ से बोलने वाले ने उन्हें बताया कि बलराम का अपहरण का लिया गया है। उसे छुड़ाने के लिए एक करोड़ रुपये का इंतजाम कर लो अगली फोन रकम कब और कहां पहुंचानी है बताई जाएगा। इतना कहने के बाद उसने फोन काट दिया।

महाजन ने उस नंबर पर फोन किया तो मोबाइल स्विच ऑफ मिला, लेकिन थोड़ी देर बाद 10-10 मिनट के अंतरातल पर उसी नंबर से दो बार फिर फोन आया और दोनों बार बलराम को अगवा कर लिए जाने की बात दोहराते हुए एक करोड़ रुपये का इंतजाम करने की बात भी दोहराई गई।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news