prashant bhushan
prashant bhushan
राज-काज

प्रशांत भूषण को अवमानना नोटिस, हस्तियों ने किया विरोध, कहा, 'आलोचना का मुंह बंद करने की कोशिश'

मशहूर वकील प्रशांत भूषण के ख़िलाफ़ जारी अवमानना नोटिस के मामले ने तूल पकड़ लिया है. रिटायर्ड जज, पूर्व सरकारी कर्मचारी, पूर्व राजदूत, सामाजिक कार्यकर्ता, अकादमिक जगत और दूसरे लोगों ने एक बयान जारी किया है.

Yoyocial News

Yoyocial News

मशहूर वकील प्रशांत भूषण (prashant bhushan) के ख़िलाफ़ जारी अवमानना नोटिस के मामले ने तूल पकड़ लिया है. रिटायर्ड जज, पूर्व सरकारी कर्मचारी, पूर्व राजदूत, सामाजिक कार्यकर्ता, अकादमिक जगत और दूसरे लोगों ने एक बयान जारी किया है. उन्होंने इस नोटिस का विरोध करते हुए इसे 'आलोचना का मुँह बंद करने' की कोशिश बताया है.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण के न्यायपालिका के प्रति कथित अपमानजनक ट्व‍िट्स के मामले में उन्हें 22 जुलाई को अवमानना की कार्यवाही शुरू किए जाने के बारे में नोटिस जारी किया था. शीर्ष अदालत (Supreme Court) ने इस मामले में अटार्नी जनरल के वेणुगोपाल से सहयोग करने की अपील की थी. अब भूषण के साथ एकजुटता प्रदर्शित करते हुए दिग्‍गज हस्तियों ने बयान जारी किया है.

दिग्‍गज हस्तियों ने कहा है कि न्याय, निष्पक्षता के साथ अदालत की गरिमा को बरकरार रखने के लिए हम शीर्ष अदालत से गुजारिश करते हैं कि वह प्रशांत भूषण के खिलफ अवमानना की कार्यवाही शुरू करने के अपने फैसले पर पुनर्व‍िचार करे.

साझा जारी बयान पर न्यायमूर्ति लोकुर के साथ ही पूर्व नौसेना अध्यक्ष एडमिरल रामदास, कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के महासचिव डी राजा, सामाजिक कार्यकर्ता हर्ष मंदर और पत्रकार पी साईनाथ ने भी दस्‍तखत किए हैं. इन लोगों ने कहा है कि प्रशांत भूषण लगातार समाज के कमजोर वर्गों के अधिकारों के लिए संघर्ष करते आ रहे हैं. भूषण ने अपना जीवन उन लोगों को कानूनी सहायता उपलब्ध कराने में लगा दिया जो सहजता से न्याय हासिल करने में सक्षम नहीं थे.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news