यूपी के उपचुनाव में सत्ता और विपक्ष का होगा इम्तिहान
राज-काज

यूपी के उपचुनाव में सत्ता और विपक्ष का होगा इम्तिहान

403 सीटों की विधानसभा में उपचुनाव के नतीजे ज्यादा मायने नहीं रखते, फिर भी सत्ता पक्ष और विपक्ष के दावों का इम्तिहान होना है।

Yoyocial News

Yoyocial News

यूपी की खाली हुई विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की घोषणा हो गयी है। इसे लेकर राजनीतिक हलचल भी तेज हो गई है। यूपी की जिन आठ सीटों पर उपचुनाव होने हैं, उसमें से छह भाजपा और दो सपा के पास हैं। हालांकि, 403 सीटों की विधानसभा में उपचुनाव के नतीजे ज्यादा मायने नहीं रखते, फिर भी सत्ता पक्ष और विपक्ष के दावों का इम्तिहान होना है।

यूपी में आठ सीटों में उपचुनाव होने हैं, उसमें से फिरोजाबाद की टुंडला सीट भाजपा के एस पी सिंह बघेल के सांसद बनने के बाद खाली हुई है। लेकिन न्यायालय में विवाद लंबित होने के कारण यहां अब तक उपचुनाव नहीं हुआ। रामपुर की स्वार सीट से सपा सांसद आजम खान के पुत्र अब्दुल्ला आजम की जन्मतिथि विवाद की वजह से उनकी सदस्यता रद्द होने के कारण वहां चुनाव होने हैं।

वहीं, उन्नाव की बांगरमऊ से भाजपा के कुलदीप सिंह सेंगर जीते थे। उनकी सदस्यता उम्र कैद की सजा मिलने के कारण रद्द हुई। इसके अलावा जौनपुर के मल्हनी क्षेत्र से सपा के पारसनाथ यादव के निधन होने के कारण यह सीट खाली हुई। देवरिया सदर से भाजपा विधायक जन्मेजय सिंह और बुलंदशहर से भाजपा के वीरेंद्र सिरोही की सीट भी निधन के कारण खाली हुई है।

वहीं, कानपुर की घाटमपुर सीट भाजपा की कमल रानी वरुण और अमरोहा की नौगावां सादात भाजपा के चेतन चौहान के निधन से खाली हुई है।

वरिष्ठ पत्रकार पीएन द्विवेदी का कहना है कि 403 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के परिणाम का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। लेकिन यह एक बड़ा संदेश होगा। जिस प्रकार से वर्तमान समय में कोरोना संकट और जतिवादी राजनीति का मुद्दा गरमाया है। उपचुनाव सत्तारूढ़ और विपक्ष के लिए एक परीक्षा है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news