राहुल बोले, केरल में सरकार बनने के बाद जल्द ही लागू करेंगे 'न्याय'

राहुल बोले, केरल में सरकार बनने के बाद जल्द ही लागू करेंगे 'न्याय'

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि पार्टी के नेतृत्व वाली यूडीएफ सरकार केरल में सत्ता संभालने के कुछ दिनों के भीतर न्यूनतम आय योजना (एनवाईएवाई - न्याय) को लागू करेगी।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि पार्टी के नेतृत्व वाली यूडीएफ सरकार केरल में सत्ता संभालने के कुछ दिनों के भीतर न्यूनतम आय योजना (एनवाईएवाई - न्याय) को लागू करेगी। उन्होंने कोट्टायम जिले में प्रचार अभियान की शुरुआत की। समर्थकों की भारी भीड़ ने उनका स्वागत किया। सड़कों के दोनों ओर लोग खड़े थे जो राहुल के काफिले के गुजरने का इंतजार कर रहे थे।

पार्थुमपाड़ा में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। वहां पार्टी के कई वरिष्ठ नेता भी मौजूद थे। राहुल मंच पर पहुंचे और एक लड़की को मंच पर बुलाया।

उन्होंने कहा, "मैंने उसे मंच पर बुलाया, इसका कारण यह है कि मैं उसके भविष्य के बारे में चिंतित हूं। वह सिर्फ एक लड़की का प्रतिनिधित्व नहीं करती है, बल्कि युवाओं का प्रतिनिधित्व करती है। फिलहाल केरल में नौकरियां केवल एक विशेष समूह के लिए हैं। इसे बदलने के लिए यूडीएफ सरकार को सत्ता में आना चाहिए और हम ऐसा करेंगे।"

राहुल ने कहा, "आरएसएस/भाजपा और माकपा में यही अंतर है। हम सामाजिक स्थिति या नौकरी पाने के लिए किसी व्यक्ति के बारे में इस तरह की चीजों से चिंतित नहीं हैं। हम सभी के लिए हैं और सभी की मदद करना चाहते हैं।"

'न्याय' योजना के बारे में राहुल ने कहा कि आप सभी यह देखने के लिए इंतजार कर सकते हैं कि हमारी सरकार ऐसा करेगी।

उन्होंने कहा, "मैं आपसे वादा करता हूं कि हमारी सरकार के सत्ता में आने के कुछ दिनों के बाद ही 'न्याय' योजना को लागू किया जाएगा। इसके तहत प्रत्येक महीने हर किसी को 6,000 रुपये उनके बैंक खातों में दिए जाएंगे। हम देख पा रहे हैं कि इससे अर्थव्यवस्था सुधरेगी, जो अभी बहुत बुरी स्थिति में है। इन पैसों का उपयोग करके लोग चीजों को खरीद सकते हैं और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित किया जाएगा।"

बाद में मनारकाडू में एक चुनावी कार्यक्रम में राहुल गांधी ने कहा कि इस 'न्याय' योजना को पहले केरल में आजमाया जाएगा।

उन्होंने कहा, "हमें विश्वास है कि अगर यह योजना यहां सफल होती है, तो हम इसे देश के बाकी हिस्सों में भी लागू करेंगे। आपको समझना चाहिए कि यह कोई उपहार नहीं है, बल्कि यह आपका अपना पैसा है जो आपको वापस दिया गया है।"

उन्होंने यह भी कहा कि "आज देश की स्थिति बहुत खराब है। यह इसलिए है क्योंकि आज मोदी 2 या 3 लोगों का एक उपकरण हैं, जिन्हें सब कुछ दिया जाता है और यही देश को निचले स्तर तक ले गया है।"

उन्होंने 250 रुपये प्रति किलोग्राम रबर का न्यूनतम समर्थन मूल्य और अन्य नकदी फसलों के लिए उचित मूल्य का भी वादा किया।

उन्होंने यह भी कहा कि इस बार कांग्रेस पार्टी ने 55 प्रतिशत नए चेहरों और युवाओं को मैदान में उतारा है।

उन्होंने दो बार के पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी के काम करने के तरीके की प्रशंसा की और कहा कि न तो वर्तमान मुख्यमंत्री और न ही उनके कैबिनेट मंत्रियों में से किसी ने भी उन युवा प्रदर्शनकारियों के साथ बात करने की जहमत उठाई, जिनसे वह पिछली बार राज्य सचिवालय के सामने मिले थे। ये युवा प्रदर्शनकारी नौकरियों की मांग कर रहे थे और इस सरकार द्वारा पिछले दरवाजे से भर्तियों पर रोक लगाने की गुहार लगा रहे थे।

राहुल गांधी ने कहा, "मुझे यकीन है, अगर चांडी होते तो वह प्रदर्शनकारियों से नि:संदेह मिलते और इस बात का पता लगाते कि उन्हें क्या चाहिए। इसी तरह से वह (चांडी) काम करते हैं।"

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news