भूमि पूजन से पहले राम जन्मभूमि आंदोलन पर किताब जारी करेगा RSS, 200 मेहमानों की सूची को PMO से मिली हरी झंडी
राज-काज

भूमि पूजन से पहले राम जन्मभूमि आंदोलन पर किताब जारी करेगा RSS, 200 मेहमानों की सूची को PMO से मिली हरी झंडी

इस पुस्तक में आंदोलन के पूरे इतिहास का वर्णन होगा। वहीं, भूमि पूजन कार्यक्रम में पीएम मोदी के अलावा अमित शाह, राजनाथ सिंह, मोहन भागवत के साथ 50 संत शामिल होंगे। कार्यक्रम में उद्योगपति रतन टाटा, मुकेश अंबानी, गौतम अडाणी भी शामिल हैं।

Yoyocial News

Yoyocial News

अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन से पहले 1 अगस्त को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार के साथ राम जन्मभूमि आंदोलन पर किताब जारी करेंगे। अरुण आनंद व विनय नलवा द्वारा लिखित इस पुस्तक में आंदोलन के पूरे इतिहास का वर्णन होगा।

वहीं, भूमि पूजन में शामिल होने वाले 200 मेहमानों की सूची को प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से हरी झंडी मिल गई है। 5 अगस्त को होने वाले इस कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी के अलावा गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, सरसंघचालक मोहन भागवत के साथ 50 साधु संत शामिल होंगे। कार्यक्रम में उद्योगपति रतन टाटा, मुकेश अंबानी, गौतम अडाणी भी शामिल हैं।

राम जन्मभूमि आंदोलन पर किताब जारी करने वाले अरुण आनंद संघ की संचार शाखा आईवीएसके के सीईओ हैं और विनय नलवा दिल्ली स्थित थिंक टैंक विचार विनिमय केंद्र के वरिष्ठ सदस्य हैं। आनंद मानते हैं कि यह पुस्तक अपने तरह की पहली है जिसमें भगवान श्रीराम के जन्म से लेकर अब तक की अयोध्या का समग्र इतिहास है। इसमें राम मंदिर निर्माण के लिए करीब 500 साल चले लंबे संघर्ष का वर्णन किया गया है।

इसमें भूमि के साक्ष्य, 1528 के बाद से आए विदेशी विचारकों के लेखों का भी जिक्र है जो इस बात को साबित करता है कि बाबर ने ही राम मंदिर को गिराकर वहां मस्जिद बनाई थी। इस किताब को प्रभात प्रकाशन ने छापा है।

उधर, अयोध्या में भूमि पूजन में शामिल होने वाले 200 मेहमानों की सूची पर पीएमओ ने मुहर लगा दी है। इसके साथ ही पीएम मोदी की अयोध्या यात्रा का कार्यक्रम भी मंगलवार को जारी कर दिया गया।

बता दें श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने मेहमानों की सूची को चार अलग अलग श्रेणियों में बांटा गया है। इनमें देश के 50 बड़े साधु संत, 50 नेता और राम मंदिर आंदोलन से जुड़े लोग होंगे। इनमें लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती और कल्याण सिंह के साथ साध्वी ऋतंभरा और विनय कटियार शामिल होंगे। कुछ राज्यों के मुख्यमंत्री भी भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल हो सकेंगे। इसके अलावा देश के 50 उद्योगपतियों व अधिकारियों को भी कार्यक्रम में हिस्सा लेने का निमंत्रण भेजा जाएगा।

पीएम मोदी का हेलिकॉप्टर 5 अगस्त को सुबह 11:30 बजे अयोध्या के साकेत महाविद्यालय में उतरेगा। यहां से उनका काफिला आगे के लिए रवाना होगा। मोदी पहले हनुमान गढ़ी जाएंगे या राम जन्मभूमि यह फिलहाल तय नहीं है। भूमिपूजन कार्यक्रम दो घंटे का होगा इसमें भूमि पूजन के बाद मोदी एक घंटा जनता को संबोधित करेंगे।

उनके भाषण को अयोध्या में जगह-जगह लगाई गई स्क्रीन पर लोग लाइव सुन सकेंगे। इसके अलावा अयोध्या से लेकर फैजाबाद तक लाउडस्पीकर लगेंगे जिन पर मंत्रोच्चारण और पीएम का भाषण सुना जा सकेगा। शाम को सरयू घाट पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन होगा।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news