वाराणसी में टूटी परंपरा, बकरीद पर काटे गए बकरे के डिजाइन वाले केक, नहीं दी गई कुर्बानी
राज-काज

वाराणसी में टूटी परंपरा, बकरीद पर काटे गए बकरे के डिजाइन वाले केक, नहीं दी गई कुर्बानी

कोरोना के कहर को देखते हुए धर्मनगरी वाराणसी में मुस्लिम समाज ने सालों से चली आ रही परंपरा को तोड़कर कुछ नया अपनाया. लोग बर्थडे केक पर बकरे की तस्वीर पसंद कर रहे हैं या तो ऑर्डर देकर बनवा रहे हैं.

Yoyocial News

Yoyocial News

कोरोना काल में ऐसी कई सारी परंपराएं थीं जो टूट गईं. लोगों को न चाहते हुए भी वो सब करना पड़ा जो उन्होंने कभी करने का सोचा भी नहीं था. मंदिर, मस्जिद में रोज जानेवाले लोग घरों में रहकर ही पूजा-पाठ और नमाज अदा करने लगे.

ऐसे में कोरोना के कहर को देखते हुए धर्मनगरी वाराणसी में मुस्लिम समाज ने सालों से चली आ रही परंपरा को तोड़कर कुछ नया अपनाया. आमतौर पर लोग जन्मदिन के मौके पर बर्थडे केक पर उनकी तस्वीर बनवाते हैं जिनका जन्मदिन होता है, लेकिन वाराणसी में लोग बर्थडे केक पर बकरे की तस्वीर पसंद कर रहे हैं या तो ऑर्डर देकर बनवा रहे हैं.

आपको बता दें कि ये सब कुछ कोरोना संकट की वजह से हो रहा है. शहर के भैरवनाथ इलाके की एक बेकरी शॉप पर जुटे मुस्लिम समाज के युवकों में से एक मोहम्मद मुमताज अंसारी ने बताया कि कोरोना बीमारी से उबरने के लिए शासन-प्रशासन बहुत मेहनत कर रहा है, इसीलिए हम सभी ने भी सोचा है कि हम भी उनका साथ दें. यही वजह है कि बकरीद के पर्व पर हम बकरे की तस्वीर वाले केक को खरीदकर केक घर पर ही काटें.

उनका कहना है कि इसी तरीके को अपनाकर घर पर रहकर शांति और सादगी के साथ बकरीद का पर्व मनाया जा सकता है. उन्होंने आगे बताया कि कोरोना काल में बकरा खरीदना तो सपना हो गया है, इस वक्त खाना ही खा लिया जाए तो बहुत बड़ी बात है. इसीलिए परंपरा को निभाने के लिए केक खरीदकर काटा जाएगा.

तो वहीं एक खरीदार मोहम्मद सोनू ने भी बताया कि इस बार बकरीद पर कोई विशेष तैयारी नहीं हो सकी है क्योंकि कोरोना की वजह से तंगी चल रही है. इसीलिए सोचा गया कि बकरे की तस्वीर वाले केक को काटकर बकरीद मनाई जाए और सभी से अपील भी है कि सभी ऐसे ही बकरीद मनाएं. कुर्बानी न देते हुए घर पर सादगी के साथ ही केक काटकर बकरीद मनाएं.

प्रिंस बताते है कि इस बार बकरे वाले केक ज्यादा इसलिए बिक रहे हैं क्योंकि एक तो शासन का आदेश भी है कि पर्व को सादगी के साथ मनाया जाए और दूसरा लोगों के पास पैसों की भी भारी किल्लत देखी जा रही है. उन्होंने बताया कि मार्केट कमजोर होने के बावजूद उनको कोरोना काल में रोज की अपेक्षा 5 गुना ज्यादा का ऑर्डर मिले हैं.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news