बहुत पहले ही बिखर चुकी थी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस की एकता, हमेशा से सैय्यद गिलानी ही करते रहे नेतृत्व
राज-काज

बहुत पहले ही बिखर चुकी थी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस की एकता, हमेशा से सैय्यद गिलानी ही करते रहे नेतृत्व

हुर्रियत का मतलब आजादी होता है और एपीएचसी अपनी स्थापना से ही कश्मीर की आजादी के लिए काम करता रहा है. इस कॉन्फ्रेंस में कश्मीर से जुड़े कई अलग-अलग सामाजिक व धार्मिक संगठन शामिल हैं.

Yoyocial News

Yoyocial News

ऑल पार्टी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस की स्थापना 9 मार्च, 1993 को हुई थी. सैय्यद अली शाह गिलानी का इसमें अहम रोल था. गिलानी के अलावा मीरवाइज उमर फारूक, अब्दुल गनी लोन, मौलवी अब्बास अंसारी और अब्दुल गनी भट्ट भी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस की स्थापना में अहम सदस्य थे. कॉन्फ्रेंस के पहले चेयरमैन के तौर पर मीरवाइज उमर फारूक ने जिम्मेदारी संभाली. इसके बाद 1997 में इस पद पर सैय्यद अली शाह गिलानी जम गए.

बता दें हुर्रियत में धीरे-धीरे टकराव भी देखने को मिला और यह संगठन दो हिस्सों में बंट गया. मीरवाइज उमर फारूक अलग हो गए, जबकि गिलानी गुट ने अलग रास्ता अपना लिया. मीरवाइज के गुट को मॉडरेट हुर्रियत कॉन्फ्रेंस कहा जाने लगा. जबकि दूसरी तरफ गिलानी ने अपने संगठन तहरीक-ए हुर्रियत को कॉन्फ्रेंस का नाम दे दिया. फिलहाल, जिस हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के चेयरमैन पद पर गिलाने थे, उसकी स्थापना 7 अगस्त, 2004 को हुई थी.

ऑल पार्टी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस की स्थापना 9 मार्च, 1993 को हुई थी. सैय्यद अली शाह गिलानी का इसमें अहम रोल था. गिलानी के अलावा मीरवाइज उमर फारूक, अब्दुल गनी लोन, मौलवी अब्बास अंसारी और अब्दुल गनी भट्ट भी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस की स्थापना में अहम सदस्य थे. कॉन्फ्रेंस के पहले चेयरमैन के तौर पर मीरवाइज उमर फारूक ने जिम्मेदारी संभाली. इसके बाद 1997 में इस पद पर सैय्यद अली शाह गिलानी जम गए.

बता दें हुर्रियत में धीरे-धीरे टकराव भी देखने को मिला और यह संगठन दो हिस्सों में बंट गया. मीरवाइज उमर फारूक अलग हो गए, जबकि गिलानी गुट ने अलग रास्ता अपना लिया. मीरवाइज के गुट को मॉडरेट हुर्रियत कॉन्फ्रेंस कहा जाने लगा. जबकि दूसरी तरफ गिलानी ने अपने संगठन तहरीक-ए हुर्रियत को कॉन्फ्रेंस का नाम दे दिया. फिलहाल, जिस हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के चेयरमैन पद पर गिलाने थे, उसकी स्थापना 7 अगस्त, 2004 को हुई थी.

huriyatconference.com के मुताबिक तहरीक-ए हुर्रियत जम्मू-कश्मीर के पहले स्थापना दिवस पर 7 अगस्त, 2005 को श्रीनगर के हैदरपुरा में एक लाख से ज्यादा लोग जमा हुए थे. वेबसाइट के मुताबिक ऑल पार्टी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के एक्जीक्यूटिव सदस्यों की लिस्ट में गिलानी के अलावा 10 नाम हैं.

ये हैं हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के 10 एक्जीक्यूटिव सदस्यों के नाम

- मसर्रत आलम भट्ट- मुस्लिम लीग

- गुलाम नबी सुमजी- मुस्लिम कॉन्फ्रेंस

- मुहम्मद सादिक- तहरीक-ए वदाहत

- जमरूदा हबीब- खवातीन मरकज

- मुहम्मद शफी रेशी- डेमोक्रेटिक पॉलिटिकल मूवमेंट

- मुहम्मद रफीक गनी- जम्मू एंड कश्मीर फ्रीडम लीग

- मुहम्मद शफी लोन- जम्मू एंड कश्मीर एम्पलॉई फ्रंट

- गुलाम मुहम्मद खान- जम्मू एंड कश्मीर पीपुल्स लीग

-अल्ताफ अहमद शाह- तहरीक-ए हुर्रियत जम्मू कश्मीर

- फरीदा बहनजी- जम्मू एंड कश्मीर मास मूवमेंट

इन 10 सदस्यों के अलावा चेयरमैन पद पर सैय्यद अली शाह गिलानी थे, जिन्होंने अब इस्तीफा दे दिया है. हुर्रियत का मतलब आजादी होता है और एपीएचसी अपनी स्थापना से ही कश्मीर की आजादी के लिए काम करता रहा है. इस कॉन्फ्रेंस में कश्मीर से जुड़े कई अलग-अलग सामाजिक व धार्मिक संगठन शामिल हैं.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news