अजय कुमार लल्लू को कानपुर जाने से रोका गया
अजय कुमार लल्लू को कानपुर जाने से रोका गया
राज-काज

कानपुर अपहरण-हत्या कांड पर राजनीति गरमाई, कांग्रेस ने कहा योगी से सम्भल नहीं रहा यूपी

कांग्रेस के मुताबिक, लखनऊ में कांग्रेस दफ्तर के बाहर कार्यकर्ताओं ने सिर मुंडवा कर प्रदर्शन किया और इसके बाद अजय कुमार लल्लू संजीत यादव के परिवार से मिलने कानपुर जाने वाले थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया गया, हालाँकि शाम को रिहा कर दिया

Yoyocial News

Yoyocial News

उत्तर प्रदेश के कानपुर में लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के अपहरण के बाद हत्या के मामले में अब राजनीति गर्म हो गई है. इसी कड़ी में यूपी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और दसरे नेताओं ने राज्य सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया. इसके बाद अजय कुमार कानपुर के लिए निकलते कि उससे पहले ही पुलिस ने उन्हें रोक दिया.

कांग्रेस की तरफ से मिली जानकारी के मुताबिक, लखनऊ में प्रदेश कांग्रेस के दफ्तर के बाहर कार्यकर्ताओं ने सिर मुंडवा कर प्रदर्शन किया और इसके बाद अजय कुमार लल्लू संजीत यादव के परिवार से मिलने कानपुर जाने वाले थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें कांग्रेस दफ्तर पर ही रोक दिया.

कांग्रेस कार्यकर्ताओ का धरना
कांग्रेस कार्यकर्ताओ का धरना

पार्टी के मुताबिक, घंटों चले भारी विरोध के बाद केवल अजय कुमार को ही कानपुर जाने की इजाजत मिली. इसके बाद अजय कुमार लल्लू कानपुर के लिए निकले, लेकिन कांग्रेस का दावा है कि लखनऊ के ईको गार्डन पर ही उन्हें रोक दिया गया और आगे नहीं जाने दिया गया. उन्हें हिरासत में ले लिया गया है.

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने देर शाम यूपी की कानून व्यवस्था पर कड़ा प्रहार करते हुए योगी सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए तुरंत इस्तीफे की मांग की है। प्रदेश कार्यालय से कानपुर संजीत यादव के परिजनों से मिलने जा रहे प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू समेत दर्जनों नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और देर शाम रिहा किया गया।

अजय कुमार लल्लू ने जारी एक बयान में कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था अपराधियों के आगे बेबस होकर सरेंडर कर चुकी है। योगी आदित्यनाथ से प्रदेश नही संभल रहा है। अब उनको तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए।

प्रदेश अध्यक्ष ने बयान में कहा कि प्रदेश में इस समय अपराधी-पुलिस गठजोड़ के चलते कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गयी है। अपराधियों को पुलिस सहित सत्ता पक्ष में बैठे लोगों का संरक्षण है। पूरे प्रदेश में हाहाकार मचा है। जनता त्राहिमाम कर रही है। उन्होंने हाल में हुई हत्या, बलात्कार आत्मदाह का सवाल उठाते हुए कहा कि अपराधियों का मनोबल तोड़ने, उनपर लगाम लगाने के बजाए योगी कांग्रेस पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं का दमन कर रही है और फ़र्ज़ी मुकदमे लगा रही है। कानपूर के संजीत यादव का अपहरण फिरौती और बाद में हत्या उसी का परिणाम है ।

पूर्व मंत्री व कांग्रेस वरिष्ठ नेता आरके चौधरी ने कहा कि पूरे प्रदेश में हत्या बलात्कार और आत्मदाह की घटनाएं हो रही। लोगों की सुनवाई न पुलिस कर रही है न प्रशासन और सत्ता में बैठे लोग। हार कर लोग सत्ता के प्रतिष्ठान के आगे आत्मदाह करने को मजबूर है। पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था दम तोड़ चुकी है । अब लोगो की जान लेकर इसकी मुनादी की जा रही है।

उन्होंने कहा कि अपराध में प्रदेश देश में नम्बर1 हो चुका है। दलितों से ऊपर सबसे ज्यादा उत्पीड़न भी योगी आदित्यनाथ की सरकार की उपलब्धि है।

जारी प्रेसनोट में बताया गया कि दम तोड़ चुकी कानून व्यवस्था और आपराधिक घटनाओं को लेकर आज प्रदेश कार्यालय में कानून व्यवस्था की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध और शांति पाठ का आयोजन किया गया। इस शांति पाठ से पहले कांग्रेसजन ने अपने बाल उतरवा कर विरोध प्रदर्शन भी किया ।

बता दें कि कानपुर के बर्रा पांच निवासी लैब टेक्नीशियनसंजीत यादव 22 जून की देर शाम से लापता थे. दो दिन तक संजीत का कोई सुराग न लगने पर परिजनों ने अपहरण की आशंका जताई थी. परिजनों ने आरोप लगाया था कि बेटी रुचि से शादी तोड़ने पर बर्रा विश्व बैंक कॉलोनी के राहुल यादव ने बेटे का अपहरण किया. इस मामले में फिरौती भी मांगी गई और 30 लाख रूपये देने के बावजूद अब संजीत कि लाश मिली.

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news