UP: आज से शुरू हो रही है लखनऊ मेट्रो सेवा, यात्रा के नए नियम लागू, एहतियात के साथ एक बार फिर चालू हुईं पटरियां
राज-काज

UP: आज से शुरू हो रही है लखनऊ मेट्रो सेवा, यात्रा के नए नियम लागू, एहतियात के साथ एक बार फिर चालू हुईं पटरियां

लखनऊ मेट्रो रेल सेवाएं, सुरक्षित यात्रा हेतु अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ 7 सितंबर यानि आज से शुरू होने जा रही हैं। इस क्रम में आज रविवार को यूपीएमआरसी द्वारा हज़रतगंज से लेकर सीसीएस एयरपोर्ट तक मीडिया विजिट का आयोजन किया गया।

Yoyocial News

Yoyocial News

लखनऊ मेट्रो रेल सेवाएं, सुरक्षित यात्रा हेतु अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ दिनांक 7 सितंबर, यानि आज से शुरू होने जा रही हैं। इस क्रम में आज रविवार को यूपीएमआरसी द्वारा हज़रतगंज से लेकर सीसीएस एयरपोर्ट तक मीडिया विजिट का आयोजन किया गया। मेट्रो राइड लेकर सीसीएस एयरपोर्ट मेट्रो स्टेशन पहुंची टीम को प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने लखनऊ मेट्रो द्वारा स्टेशन और ट्रेन के अंदर यात्री सुरक्षा हेतु किए गए इंतज़ामात के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

यूपीएमआरसी के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने कहा, “लखनऊ मेट्रो में, यात्रियों की सुरक्षा सर्वोपरि है और इस हेतु, लखनऊ के मेट्रो के पूरे सिस्टम में विधिवत साफ़-सफ़ाई और सैनिटाइज़ेशन का काम नियमित रूप से होता है। यात्रियों की सुरक्षा से जुड़े हर बिंदु को संज्ञान में लिया जा रहा है। हमारे सभी यात्री, हमारे परिवार का ही हिस्सा हैं और मैं उन्हें विश्वास दिलाता हूं कि लखनऊ मेट्रो, सार्वजनिक यातायात का सबसे सुरक्षित माध्यम है।”

इन सुविधाओं की बदौलत सबसे सुरक्षित साधन है मेट्रोः

  • गो-स्मार्ट कार्ड धारकों को हर यात्रा पर किराए में 10 प्रतिशत की छूट मिलती है।

  • लखनऊ मेट्रो देश की पहली ऐसी मेट्रो है, जहां पर यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए टोकन सैनिटाइज़ेशन के लिए यूवी तकनीक का इस्तेमाल होगा।

  • लखनऊ मेट्रो के गो-स्मार्ट कार्ड के साथ कैशलेस तरीक़े से एक साथ कई टोकन्स/टिकट्स ख़रीदने की सुविधा भी मिलती है। ऐसा सुविधा देने वाली भी लखनऊ मेट्रो, देश की पहली मेट्रो है।

  • सभी मेट्रो स्टेशनों पर सोशल-डिस्टेन्सिंग के लिए मार्किंग की गई है ताकि मेट्रो परिसर के अंदर यात्रियों के बीच उपयुक्त दूरी सुनिश्चित की जा सके। टिकट काउंटर्स (टीओएम), टिकट वेंडिंग मशीन (टीवीएम), सुरक्षा जांच पॉइंट, प्रवेश-निकास हेतु एएफ़सी गेट आदि सभी जगहों पर, जहां यात्रियों को लाइन लगानी पड़ती है, वहां पर सोशल-डिस्टेन्सिंग के लिए मार्किंग मौजूद है।

  • मेट्रो ट्रेन के अंदर सीटों पर भी सोशल डिस्टेन्सिंग के लिए मार्किंग की गई है ताकि यात्री एक सीट छोड़कर बैठें।

  • आमतौर पर यात्रियों के संपर्क में आने वाले सभी स्थानों जैसे कि ग्रैब रेल्स, ग्रैब पोल्स, ग्रैब हैंडल्स, यात्री सीट और दरवाज़ों को नियमित तौर पर सैनिटाइज़ किया जाता है।

  • स्टेशन के अंदर सभी कॉन्टैक्ट-पॉइंट्स जैसे कि प्रवेश-निकास गेट, बैगेज स्कैनर्स, टिकट वेंडिंग मशीन, एएफ़सी गेट, एस्कलेटर की हैंडरेल्स, सीढ़ियों की रेलिंग, लिफ़्ट के बटन्स, प्लैटफ़ॉर्म पर लगीं सीटों आदि को भी नियमित अंतराज़ पर सैनिटाइज़ किया जाता है।

  • मेट्रो तंत्र में सभी सरकारी दिशा-निर्देशों और मानक संचालन प्रक्रिया को सुयोचित रूप से क्रियान्वित किया गया है।

  • यूपीएमआरसी ने एक विस्तृत बिज़नेस कॉन्टिन्युटी प्लान तैयार किया गया है, जिसमें यात्रियों की सुरक्षा एवं सुविधा को ध्यान में रखते हुए सभी व्यवस्थाओं, निर्देशों और नियमों आदि को शामिल किया गया है। यात्री ऑनलाइन माध्यम से बीसीपी की ई-कॉपी भी देख सकते हैं।

मेट्रो यात्रा से पहले जान लें ये बातें:

पूर्व की तरह, 7 सितंबर, 2020 से मेट्रो परिचालन सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक होगा।

  • लगभग 5 मिनट के अंतराल में मेट्रो ट्रेनें उपलब्ध होंगी। 16 ट्रेनों के साथ परिचालन जारी रहेगी।

  • परिचालन के दौरान, चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट से मुंशीपुलिया तक सभी 21 स्टेशनों पर ट्रेनें रुकेंगी।

  • मेट्रो परिसर में प्रवेश के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा। आवास और शहरी कार्य मंत्रालय, भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप, यदि कोई यात्री मास्क लाना भूल जाता है तो लखनऊ मेट्रो स्टेशन पर सशुल्क मास्क उपलब्ध कराएगा।

  • सभी यात्रियों को मोबाइल में आरोग्य सेतु ऐप इन्सटॉल करने की सलाह दी जा रही है। यदि किसी व्यक्ति के पास मोबाइल फ़ोन या स्मार्ट फ़ोन नहीं है तो उनके नाम और मोबाइल नंबर रजिस्टर में दर्ज कराए जाएंगे।

  • प्रवेश के पूर्व यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य होगी। तापमान मानक स्तर से कम होने पर ही प्रवेश की अनुमति दी जाएगी।

  • यात्रियों से अनुरोध है कि वे धातु के सामान लेकर यात्रा न करें और यदि अनिवार्य हो तो कम से कम सामान के साथ यात्रा करने का प्रयास करें क्योंकि मेट्रो स्टेशनों पर सुरक्षा जांच या फ़्रिस्किंग पूरी तरह से कॉन्टैक्ट-लेस तरीक़े से की जा रही है।

  • हर स्टेशन पर सामान्य तौर पर दो प्रवेश-निकास द्वार खुले रहेंगे। हर गेट पर सैनिटाइज़र उपलब्ध होगा और यात्रियों से अपेक्षित होगा कि वे अपने हाथ सैनिटाइज़ करने के बाद ही मेट्रो स्टेशन में प्रवेश करें।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news