symbolic image
symbolic image
राज-काज

यूपी विधानसभा के सामने आत्मदाह करने वाली महिला की मौत

पुलिस पर मदद न करने का आरोप लगाकर लखनऊ में विधानसभा के सामने खुद को आग लगाने वाली महराजगंज की महिला की बुधवार देर शाम मौत हो गई। 90 प्रतिशत झुलसी महिला का इलाज सिविल अस्पताल में चल रहा था।

Yoyocial News

Yoyocial News

पुलिस पर मदद न करने का आरोप लगाकर लखनऊ में विधानसभा के सामने खुद को आग लगाने वाली महराजगंज की महिला की बुधवार देर शाम मौत हो गई। 90 प्रतिशत झुलसी महिला का इलाज सिविल अस्पताल में चल रहा थ। उधर इस मामले में मंगलवार देर रात कांग्रेस के अनुसूचित प्रकोष्ठ के चेयरमैन आलोक कुमार के खिलाफ पुलिस ने आत्मदाह के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कर लिया था। इसके बाद ही पुलिस ने आलोक को बुधवार दोपहर गोमती नगर से पूछताछ के लिए बुलाया। फिर महिला की मौत के बाद पुलिस ने उनकी गिरफ्तारी बताया । इस गिरफ्तारी को लेकर भी पुलिस ने देर रात तक संशय बनाए रखा। आलोक के पिता सुखदेव प्रसाद राजस्थान के राज्यपाल रह चुके हैं।

महाराजगंज पुलिस ने भी पूछताछ की
शाम करीब छह बजे महाराजगंज पुलिस भी लखनऊ आ गई थी। उसने भी पुलिस को बताया कि महाराजगंज में आलोक कुमार ने पीड़िता को उकसाया था। उसके कहने पर ही वह अपने पति के घर हंगामा करने गई थी। कई तथ्य जुटाने के बाद डीसीपी मध्य सोमेन वर्मा ने देर रात आलोक को गिरफ्तार किए जाने की पुष्टि की।

महिला की स्थिति बिगड़ती गई
झारखंड की रहने वाली महिला अंजना तिवारी (बाद में आयशा) ने दूसरे पति आसिफ के घर वालों पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था। महाराजगंज में शिकायत के बाद भी मदद न करने से नाराज होकर उसने मंगलवार को विधानभवन के सामने खुद को आग लगा ली थी। उसे सिविल अस्पताल में भर्ती किया गया था। डॉक्टरों ने पहले ही उसकी हालत बेहद गम्भीर बता दी थी। बुधवार सुबह से उसकी हालत लगातार बिगड़ती चली गई थी। उसकी मौत की सूचना महाराजगंज और गोरखपुर पुलिस को भी दे दी गई थी।

देर रात लिखी आलोक के खिलाफ एफआईआर
मंगलवार रात करीब तीन बजे हजरतगंज पुलिस ने आत्मदाह के मामले में कांग्रेस अनुसूचित प्रकोष्ठ के चेयरमैन आलोक कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज की। फिर कुछ देर बाद ही महाराजगंज पुलिस से इस बारे में जानकारी जुटायी और बुधवार दोपहर उसे हिरासत में ले लिया। उससे कई घंटे तक पूछताछ की गई। महिला की मौत की खबर मिलने के बाद पुलिस अधिकारी आरोपी की गिरफ़तारी को लेकर गोलमोल जवाब देते रहे थे।

कोतवाली पहुंचे कई कांग्रेसी
आलोक कुमार को गिरफ्तार किए जाने की खबर मिलते ही कई कांग्रेसी हजरतगंज कोतवाली पहुंचे थे। यहां भीड़ बढ़ती देख आलोक को दूसरे थाने भेज दिया गया। उसके समर्थकों को यही बताया जाता रहा कि अभी पूछताछ की चल रही है। इसी तरह महाराजगंज में भी उसके समर्थकों ने वहां के प्रशासन से नाराजगी जतायी।

प्रदेश अध्यक्ष बोले-आलोक को ऐसे पकड़ना निन्दनीय
कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार सिंह लल्लू ने सोशल मीडिया पर कहा कि आलोक को इस तरह से पकड़ना निन्दनीय है। सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए साजिश कर रही है। दलितों का दमन हो रहा है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news