सेंसेक्स 585 अंक लुढ़का, निफ्टी में 163 अंकों की गिरावट

सेंसेक्स 585 अंक लुढ़का, निफ्टी में 163 अंकों की गिरावट

सेंसेक्स बीते सत्र से 585.10 अंकों यानी 1.17 फीसदी लुढ़ककर 49,216.52 पर ठहरा, जबकि कारोबार के दौरान 49,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे फिसला। वहीं, निफ्टी बीते सत्र से 163.45 अंकों यानी 1.11 फीसदी की गिरावट के साथ 14,557.85 पर बंद हुआ।

देश का शेयर बाजार गुरुवार को लगातार पांचवें सत्र में भारी गिरावट के साथ बंद हुआ। सेंसेक्स बीते सत्र से 585.10 अंकों यानी 1.17 फीसदी लुढ़ककर 49,216.52 पर ठहरा, जबकि कारोबार के दौरान 49,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे फिसला। वहीं, निफ्टी बीते सत्र से 163.45 अंकों यानी 1.11 फीसदी की गिरावट के साथ 14,557.85 पर बंद हुआ। अमेरिकी बांड बाजार में मजबूती आने से घरेलू शेयर बाजार में आईटी, बैंकिंग, हेल्थेकेयर समेत कई अन्य सेक्टरों में बिकवाली का भारी दबाव रहा, जिससे प्रमुख संवेदी सूचकांकों में गिरावट दर्ज की गई।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स बीते सत्र से 359.63 अंकों की बढ़त के साथ 50,161.25 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान 50,296.35 तक चढ़ने के बाद फिसलकर 48,962.36 पर आ गया। दोहपर बाद के कारोबार के दौरान बिकवाली का भारी दबाव रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 134.20 अंकों की तेजी के साथ 14,855.50 पर खुला और 14,875.20 तक चढ़ा, लेकिन बाद में बिकवाली के दबाव में टूटकर 14,478.60 पर आ गया।

बीएसई मिडकैप सूचकांक बीते सत्र से 266.99 अंकों यानी 1.33 की गिरावट के साथ 19,776.71 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक बीते सत्र से 327.42 अंकों यानी 1.58 फीसदी की गिरावट के साथ 20,386.16 पर ठहरा।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से नौ शेयरों में बढ़त दर्ज की गई, जबकि 21 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। बढ़त वाले शेयरों में आईटीसी (3.25 फीसदी), बजाज ऑटो (2.46 फीसदी), एमएंडएम (1.03 फीसदी), मारुति (0.72 फीसदी) और भारती एयरटेल (0.60 फीसदी)शामिल रहे।

सेंसेक्स के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच शेयरों में एचसीएल टेक (3.97 फीसदी), इन्फोसिस (3.67 फीसदी), डॉ. रेड्डी (3.34 फीसदी), टीसीएस (2.44 फीसदी) और टेक महिंद्रा (2.36 फीसदी) शामिल रहे।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news