Floyd Case: मुकदमा निपटाने के लिए देना होगा 27 मिलियन डॉलर

Floyd Case: मुकदमा निपटाने के लिए देना होगा 27 मिलियन डॉलर

अमेरिकी शहर मिनियापोलिस, जहां अफ्रीकी-अमेरिकी व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पिछले साल पुलिस हिरासत में निर्मम हत्या कर दी गई थी, पीड़ित परिवार के साथ मुकदमा निपटाने के लिए 27 मिलियन डॉलर देने को तैयार हो गया है।

अमेरिकी शहर मिनियापोलिस, जहां अफ्रीकी-अमेरिकी व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पिछले साल पुलिस हिरासत में निर्मम हत्या कर दी गई थी, पीड़ित परिवार के साथ मुकदमा निपटाने के लिए 27 मिलियन डॉलर देने को तैयार हो गया है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, शुक्रवार दोपहर को लगभग 40 मिनट की बैठक के बाद मिनियापोलिस सिटी काउंसिल के सदस्यों ने एकमत से अनुमोदन करने के लिए मतदान किया, और मेयर जैकब फ्रे के कार्यालय ने कहा कि वह इसे मंजूरी भी देंगे।

काउंसिल के उपाध्यक्ष एंड्रिया जेनकिंस ने वोट के बाद कहा, "यह एक गहरी दर्दनाक घटना है जो दुर्भाग्य से बहुत सारे अश्वेत परिवारों की वास्तविकताओं का एक हिस्सा है।"

उन्होंने कहा, "वैसे तो कोई भी धन राशि पर्याप्त नहीं है जो एक भाई, एक बेटे, एक भतीजे, एक पिता, एक प्रियजन की जगह ले सके। लेकिन, हम जो कर सकते हैं वह यह है कि मिनियापोलिस शहर में न्याय और समानता के लिए काम करना जारी रखा जाए और ऐसा करने के लिए मैं प्रतिबद्ध हूं।"

सिटी काउंसिल के अनुसार, 27 मिलियन डॉलर में से 500,000 डॉलर का उपयोग "समुदाय के कल्याण के लिए" उस स्थान के पास किया जाएगा जहां फ्लॉयड की मृत्यु 25 मई, 2020 को हुई थी।

फ्लॉयड परिवार के वकील बेन क्रम्प ने कहा, "एक अश्वेत व्यक्ति की 'गलत तरीके से' मौत मामले में सुनवाई पूरी होने से पहले निपटारे से एक शक्तिशाली संदेश जाएगा कि अश्वेतों की जिंदगी भी मायने रखती है और रंग के आधार पर अश्वेत लोगों के खिलाफ पुलिस की बर्बरता समाप्त होनी चाहिए।"

पिछले वर्ष जुलाई पीड़ित परिवार ने चौविन और उनके तीन सहयोगियों पर मुकदमा दायर किया था जो घटनास्थल पर मौजूद थे और फ्लॉयड को निष्प्राण करने में श्वेत पुलिस अधिकारी की मदद कर रहे थे।

गौरतलब है कि फ्लॉयड की मौत के बाद पिछले साल अमेरिका के कई शहरों में नस्लीय असमानता और पुलिस की बर्बरता के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए। साथ ही 'ब्लैक लाइफ मैटर्स' का आंदोलन व्यापक स्तर पर चलाया गया।

Keep up with what Is Happening!

No stories found.
Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news