Magh Mela: माघ मेला टाउनशिप में 3,000 धार्मिक संगठनों ने मांगी जमीन

गंगा की धारा का मार्ग बदलने की वजह से भले ही माघ मेला टाउनशिप के लिए भूमि सिकुड़ गई हो, 3,000 से अधिक धार्मिक, सामाजिक और आध्यात्मिक संगठनों ने 47 दिनों तक चलने वाले इस आयोजन में अपने-अपने शिविर स्थापित करने के लिए जमीन मांगी है।
Magh Mela: माघ मेला टाउनशिप में 3,000 धार्मिक संगठनों ने मांगी जमीन

गंगा की धारा का मार्ग बदलने की वजह से भले ही माघ मेला टाउनशिप के लिए भूमि सिकुड़ गई हो, 3,000 से अधिक धार्मिक, सामाजिक और आध्यात्मिक संगठनों ने 47 दिनों तक चलने वाले इस आयोजन में अपने-अपने शिविर स्थापित करने के लिए जमीन मांगी है।

अधिकारियों ने कहा कि मिट्टी के कटाव की समस्या अभी भी बनी हुई है, माघ मेला अधिकारियों को वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

जिलाधिकारी (माघ मेला) शेषमणि पांडेय ने बताया कि सभी पांच सेक्टरों में भूमि आवंटन का कार्य चल रहा है।

पांडे ने कहा, नदी के तेज बहाव के कारण मिट्टी के कटाव की समस्या का सामना करने के बाद मेला अधिकारियों ने वैकल्पिक व्यवस्था की है और विभिन्न संगठनों के शिविरों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित किया जा रहा है।

हालांकि, उन्होंने कहा कि आने वाले महीने भर चलने वाले आयोजन में तीर्थयात्रियों, भक्तों और विजिटर्स को सभी प्रकार की सुविधाएं दी जाएंगी और सभी विभाग एक दूसरे के साथ समन्वय कर रहे हैं और 13 पुलिस स्टेशन और 36 पुलिस चौकी स्थापित करने का काम भी प्रगति पर है।

इस बार मेला प्रशासन ने टेंट में रहने वाले संतों, तीर्थयात्रियों और कल्पवासियों को दी जा रही सुविधाओं की जांच के लिए मेला अधिकारियों और तीसरे पक्ष की एक संयुक्त टीम को शामिल करने का फैसला किया है।

अधिकारियों ने दावा किया कि यह अभ्यास मेला अधिकारियों को पारदर्शिता बनाए रखने में मदद करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि भक्तों और तीर्थयात्रियोंको सुविधाओं और सेवाओं के मामले में लाभ मिल सके।

माघ मेला 1 जनवरी से शुरू होकर 1 मार्च तक चलेगा।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news