CBI की कस्टडी से गायब हुए रेड में जब्त किए 45 करोड़ के सोने, कोर्ट ने जांच के आदेश दिए तो लगाई इज्जत की गुहार

CBI की कस्टडी से गायब हुए रेड में जब्त किए 45 करोड़ के सोने, कोर्ट ने जांच के आदेश दिए तो लगाई इज्जत की गुहार

सीबीआई ने दावा किया है छापेमारी के दौरान जब सोना जब्त किया गया था, उस दौरान सोने को एक साथ लिया गया था, जबकि एसबीआई और सुराना के बीच कर्ज के मामले के निस्तारण के लिए नियुक्त किये गये लिक्विडेटर को सौंपते समय अलग-अलग वजन किया गया है।

सीबीआई की सेफ कस्टडी से 103 किलोग्राम सोना गायब होने की खबर है। मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु सीबी-सीआईडी (CB-CID) को इस मामले की जांच का आदेश दिया है।

बता दें कि तमिलनाडु में छापेमारी के दौरान सीबीआई ने भारी मात्रा में सोना (Gold) जब्त किया था। इसकी कीमत 45 करोड़ रुपये आंकी गयी थी।

इस सोने को सीबीआई की सेफ कस्टडी में रखा गया था, लेकिन यह सोना अब सीबीआई कस्टडी से गायब है।

खबरों के अनुसार सीबीआई की टीम ने 2012 में चेन्नई के सुराना कॉर्पोरेशन लिमिटेड के ऑफिस में छापा मारा था।

सीबीआई ने रेड के क्रम में वहां सोने की ईंटों और गहनों के रूप में 400.5 किलोग्राम सोना जब्त किया था।

जब्त किये गये सोना सीलकर सीबीआई की सेफ कस्टडी में रखा गया था, लेकिन अब जब्त सोने में से 103 किलोग्राम से अधिक का सोना गायब बताया गया है।

CBI ने जो जानकारी दी है, उसके अनुसार सेफ और वॉल्ट्स की 72 चाबियां चेन्नई की प्रिसिंपल स्पेशल कोर्ट को सौंप दी गयी थी।

सीबीआई ने दावा किया है छापेमारी के दौरान जब सोना जब्त किया गया था, उस दौरान सोने को एक साथ लिया गया था, जबकि एसबीआई और सुराना के बीच कर्ज के मामले के निस्तारण के लिए नियुक्त किये गये लिक्विडेटर को सौंपते समय अलग-अलग वजन किया गया है। यही कारण है कि सोने के वजन में अंतर दिखाई दे रहा है.

जस्टिस प्रकाश ने सीबीआई की दलील को खारिज करते हुए इस मामले में एसपी रैंक के अधिकारी की अगुवाई में सीबी-सीआईडी जांच का आदेश दिये हैं।

जस्टिस प्रकाश ने पूरे मामले की जांच छह महीने के अंदर करने का निर्देश देते हुए कहा कि स्थानीय पुलिस द्वारा जांच कराने से इमेज खराब हो सकती है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news