एक हजार से ज्यादा भारतीयों के पास 1 हजार करोड़ से अधिक रुपये की कुल संपत्ति: हुरुन इंडिया

हुरुन इंडिया के मुताबिक भारत ने 1,000 करोड़ रुपये की कुल संपत्ति वाले 1,000 से अधिक व्यक्तियों के होने का गौरव हासिल किया है।
एक हजार से ज्यादा भारतीयों के पास 1 हजार करोड़ से अधिक रुपये की कुल संपत्ति: हुरुन इंडिया

हुरुन इंडिया के मुताबिक भारत ने 1,000 करोड़ रुपये की कुल संपत्ति वाले 1,000 से अधिक व्यक्तियों के होने का गौरव हासिल किया है।

आईआईएफएल वेल्थ हुरुन इंडिया की रिच लिस्ट 2021 से खुलासा हुआ है कि 119 शहरों में 1,007 व्यक्तियों की कुल संपत्ति 1,000 करोड़ रुपये है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि संचयी संपत्ति में 51 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जबकि औसत संपत्ति में 25 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

इसके अलावा, रिपोर्ट में यह दर्शाया गया है कि 894 व्यक्तियों ने अपनी संपत्ति में वृद्धि देखी या वही बने रहे, जिनमें से 229 नए चेहरे हैं, जबकि 113 ने अपनी संपत्ति में गिरावट देखी और 51 ड्रॉपआउट थे।

वर्तमान में, भारत में 237 अरबपति हैं, जो पिछले वर्ष की तुलना में 58 अधिक है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 'रसायन' और 'सॉ़फ्टवेयर' क्षेत्रों ने सूची में सबसे बड़ी संख्या में नए प्रवेशकों को जोड़ा है। फार्मा अभी भी नंबर एक पर है और उसने सूची में 130 प्रवेशकों का योगदान दिया है। सूची में सबसे छोटा 23 वर्ष की आयु का है, जो पिछले साल सबसे कम आयु के प्रवेशक से तीन साल छोटा है।"

इसके अलावा, रिपोर्ट में बताया गया है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी 7,18,000 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ लगातार 10वें वर्ष भारत के सबसे अमीर व्यक्ति बने रहे।

"आईएनआर 5,05,900 करोड़ रूपये के साथ, गौतम अडानी और परिवार आईआईएफएल वेल्थ हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2021 में दो स्थान ऊपर दूसरे स्थान पर पहुंच गए।"

अडानी समूह का संयुक्त बाजार पूंजीकरण 9 लाख करोड़ रुपये है। अडानी पावर को छोड़कर सभी सूचीबद्ध कंपनियों का मूल्य एक लाख करोड़ रुपये से अधिक है।

हुरुन इंडिया के एमडी और चीफ रिसर्चर अनस रहमान जुनैद ने कहा, "गौतम अडानी एक नहीं, बल्कि पांच 1 लाख करोड़ रुपए की कंपनियां बनाने वाले अकेले भारतीय हैं।"

इसके अलावा, एचसीएल के शिव नादर ने तीसरी रैंक बरकरार रखी, क्योंकि यात्रा, खुदरा और आतिथ्य जैसे कोविड प्रभावित क्षेत्रों में एचसीएल के सीमित जोखिम के परिणामस्वरूप उनकी संपत्ति में 67 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 2,36,600 करोड़ रुपये हो गए।

दिसंबर 2020 में समाप्त हुए 12 महीनों के लिए, एचसीएल 10 बिलियन डॉलर के राजस्व के निशान को तोड़ने वाली केवल तीसरी भारतीय आईटी कंपनी बन गई है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news