त्यौहारों के बाद यमुना नदी में लगा कूड़ों का अंबार, हटाई गई विसर्जित मूर्तियां
ताज़ातरीन

त्यौहारों के बाद यमुना नदी में लगा कूड़ों का अंबार, हटाई गई विसर्जित मूर्तियां

कार्यकर्ता पद्मिनी अय्यर कहती हैं कि यमुना नदी का सही हालत में रहना ताज महल और नदी के किनारे बनी मुगलों की अन्य कृतियों की सुरक्षा के लिए भी महत्वपूर्ण है।

Yoyocial News

Yoyocial News

यहां एतमादुद्दौला व्यू पॉइंट पार्क के समीप रविवार को यमुना नदी से कार्यकर्ताओं ने कई टन कचरे और विसर्जित मूर्तियों को निकाला।

पर्यावरणविद देवाशीष भट्टाचार्या ने कहा, "एक के बाद एक कई त्यौहारों के बीतने के बाद प्रतिमाओं और पूजा सामग्रियों को हटाना जरूरी था, जो जहरीले और प्लास्टिक के होते हैं। लोग समझते नहीं है कि वे नदियों में सिर्फ प्रदूषण के स्तर को बढ़ा रहे हैं।"

स्वच्छता से जुड़े इस कार्यक्रम के आयोजक युगल किशोर पंडित ने कहा, "जगह-जगह हजारों मूर्तियां बिखरी पड़ी हैं। हम नदी को साफ करने का अपना छोटा सा प्रयास कर रहे हैं।"

कार्यकर्ता पद्मिनी अय्यर कहती हैं कि यमुना नदी का सही हालत में रहना ताज महल और नदी के किनारे बनी मुगलों की अन्य कृतियों की सुरक्षा के लिए भी महत्वपूर्ण है।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news