जलमग्न हुआ कोलकाता एयरपोर्ट, भारत के बाद 'Amphan' ने बांग्लादेश में मचाई तबाही
ताज़ातरीन

जलमग्न हुआ कोलकाता एयरपोर्ट, भारत के बाद 'Amphan' ने बांग्लादेश में मचाई तबाही

सीएम ममता बनर्जी का कहना है कि कम से कम 10-12 लोगों की मौत हुई है. इसमें से अधिकतर मौतें पेड़ गिरने के कारण हुई हैं. वहीं, ओडिशा में 3 लोगों के मारे जाने की खबर है. दोनों प्रदेशों में राहत और बचाव कार्य जारी है.

Yoyocial News

Yoyocial News

शक्तिशाली चक्रवाती तूफान से बांग्लादेश में 6 साल के बच्चे समेत कम से कम 7 लोगों की मौत हो गई, कई इलाके जलमग्न हो गए और सैकड़ों मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं। अधिकारियों ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी। करीब दो दशकों में क्षेत्र में अब तक के सबसे विनाशकारी चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ ने बुधवार शाम को बांग्लादेश में दस्तक दी। ढाका ट्रिब्यून ने बताया कि बांग्लादेश के तटीय जिलों में चक्रवात से कई निचले इलाके डूब गए, तटबंध टूट गए, पेड़ उखड़ गए और मकान क्षतिग्रस्त हो गए।

160 से 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाले अम्फान तूफान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भी बड़ी तबाही मचाई है. कोलकाता के कई इलाके डूब चुके है. 6 घंटे के तूफान अम्फान की तेज हवाओं ने कोलकाता एयरपोर्ट को क्षतिग्रस्त कर दिया. रनवे और हैंगर पानी में जलमग्न हैं. एयरपोर्ट के एक हिस्से में तो कई इंफास्ट्रक्चर पानी में डूबे है. अम्फान के कारण एयरपोर्ट पर सभी परिचालन आज सुबह 5 बजे तक बंद कर दिए गए थे, जो अभी भी बंद हैं. कोलकाता एयरपोर्ट रोड पर एनडीआरएफ के कर्मियों द्वारा सड़कों से टूटे हुए पेड़ों को हटाया जा रहा है।

कोलकाता एयरपोर्ट पर यात्री उड़ानें 25 मार्च से ही निलंबित है. केवल कार्गो और वंदे भारत मिशन के तहत आने-जाने वाली उड़ानें चल रही थी. उन्हें भी अभी रोक दिया गया है. गौरतलब है कि बंगाल में समुद्र तट से टकराने के वक्त अम्फान तूफान की रफ्तार 180 किमी प्रति घंटे से ज्यादा गो गई थी. कई घंटे बाद तक कोलकाता शहर में 130 किमी प्रति घंटे की तक की रफ्तार से हवाएं चलती रहीं. अम्फान का सबसे ज्यादा कहर पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना, दक्षिणी 24 परगना, मिदनापुर और कोलकाता में रहा. तूफान के टकराने के वक्त दीघा में सीधे खड़े हो पाना भी मुमकिन नहीं था.

पश्चिम बंगाल में तूफान से तबाही कितनी हुई इसका हिसाब किताब अभी बाकी है, लेकिन सीएम ममता बनर्जी का कहना है कि कम से कम 10-12 लोगों की मौत हुई है. इसमें से अधिकतर मौतें पेड़ गिरने के कारण हुई हैं. वहीं, ओडिशा में 3 लोगों के मारे जाने की खबर है. दोनों प्रदेशों में राहत और बचाव कार्य जारी है.

पश्चिम बंगाल अम्फान की वजह से कोलकाता के कई हिस्सों में पेड़ उखड़ गए और जलभराव हो गया। मौसम विभाग के अनुसार अगले तीन घंटे के दौरान चक्रवात के कमजोर होने की संभावना है।

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने चक्रवाती तूफान अम्फान के कारण लोगों की मौत पर गुरुवार को शोक जताया और समय रहते लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए पश्चिम बंगाल और ओडिशा के प्रशासन की सराहना की।

उपराष्ट्रपति सचिवालय ने उपराष्ट्रपति के हवाले से ट्वीट किया, ‘पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा में चक्रवात के कारण हुई जानमाल की क्षति तथा सार्वजनिक और निजी संपत्ति और फसलों को हुए व्यापक नुकसान से व्यथित और चिंतित हूं।’

पश्चिम बंगाल में रामनगर पंचायत के लोगों को 'मल्टीपर्पस साइक्लोन शेल्टर' में रखा गया है। शेल्टर में मौजूद सभी लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था भी की गई है।

ओडिशा में चक्रवात अम्फान के कारण भारी बारिश और तेज हवाओं के एक दिन बाद बालासोर के पतरापाड़ा क्षेत्र में फिर से दुकानें खुल गई हैं।

Keep up with what Is Happening!

Best hindi news platform for youth
www.yoyocial.news