नई शराब नीति पर अन्ना हजारे का केजरीवाल को पत्र, लिखा- आप भी सत्ता के नशे में डूब गए

देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़े आंदोलन का शंखनाद कर चुके अन्ना हजारे ने दिल्ली की आप सरकार को जमकर आड़े हाथों लिया। बता दें, 2012-13 के अन्ना आंदोलन की कोख से ही अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी का उदय हुआ है।
नई शराब नीति पर अन्ना हजारे का केजरीवाल को पत्र, लिखा- आप भी सत्ता के नशे में डूब गए

दिल्ली सरकार की चर्चित नई शराब नीति को लेकर देश के अग्रणी सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर नसीहत दी है। पत्र में अन्ना ने केजरीवाल को उलाहना देते हुए कहा, 'आप भी सत्ता के नशे में डूब गए। एक बड़े आंदोलन से जन्मी एक पार्टी के लिए यह शोभा नहीं देता।'

अन्ना ने केजरीवाल से कहा, आपने 'स्वराज' नाम की किताब में कितनी आदर्श बातें लिखी थी। आप से बड़ी उम्मीद थी, लेकिन, लगता है राजनीति में जाने और मुख्यमंत्री बनने के बाद आप आदर्श विचारधारा को भूल गए हैं। जिस प्रकार शराब का नशा होता है, उसी प्रकार सत्ता का भी नशा होता है। आप भी ऐसी सत्ता के नशे में डूब गए हो, ऐसा लग रहा है।'

अन्ना ने पत्र में लिखा है कि उन्हें उम्मीद थी कि दिल्ली में भी महाराष्ट्र जैसी शराब नीति बनेगी, लेकिन आपने ऐसा नहीं किया। लोग सत्ता के लिए पैसे और पैसे के लिए सत्ता के घेरे में फंस गए हैं। यह उस पार्टी के अनुरूप नहीं है जो एक बड़े आंदोलन से पैदा हुई है।

देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़े आंदोलन का शंखनाद कर चुके अन्ना हजारे ने दिल्ली की आप सरकार को जमकर आड़े हाथों लिया। बता दें, 2012-13 के अन्ना आंदोलन की कोख से ही अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी का उदय हुआ है।

शराब की बिक्री व पीने को बढ़ावा मिलेगा
अन्ना ने लिखा कि 'राजनीति में जाकर मुख्यमंत्री बनने के बाद आप आदर्श विचारधारा को भूल गए हैं ऐसा लगता है। दिल्ली में आपकी सरकार ने ऐसी नई शराब नीति बनाई, जिससे शराब की बिक्री और शराब पीने को बढ़ावा मिल सकता है। गली गली में शराब की दुकानें खुलवाई जा सकती हैं। इससे भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिल सकता है। यह जनता के हित में नहीं है।'

अन्ना ने लिखा- यह दुख की बात है
समाजसेवी अन्ना हजारे ने केजरीवाल से कहा कि दिल्ली सरकार की नई शराब नीति को देखकर पता चल रहा है कि, एक ऐतिहासिक आंदोलन का नुकसान कर के जो पार्टी बनी, वह भी बाकी दलों के रास्ते पर ही चलने लगी। यह बहुत दुख की बात है।

समान विचारधारा वाले लोगों का प्रेशर ग्रुप जरूरी
अपने लंबे खत में अन्ना ने लिखा- 'अगर इस प्रकार लोकशिक्षण लोकजागृति का काम होता तो देश में कहीं पर भी शराब की ऐसी गलत नीति नहीं बनती। सरकार कौन सी भी पार्टी की हो, सरकार को जनहित में काम करने पर मजबूर करने के लिए समान विचारधारा वाले लोगों का एक प्रेशर ग्रुप होना जरूरी था। अगर ऐसा होता तो आज देश की स्थिति अलग होती और गरीब लोगों को लाभ मिलता, लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हो पाया।

शराब घोटाले की चल रही जांच
दिल्ली में आप सरकार ने नई आबकारी या शराब नीति को लेकर आरोपों से घिरी हुई है। सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है। भाजपा का आरोप है कि इस नीति के जरिए आप के करीबियों को फायदा पहुंचाया गया। मामले में दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के यहां सीबीआई ने छापा मारा था। उनसे पूछताछ भी की गई। जांच चल रही है। सिसोदिया समेत 15 लोगों को शराब घोटाले में आरोपी बनाया गया है।

Keep up with what Is Happening!

Related Stories

No stories found.
Best hindi news platform for youth. हिंदी ख़बरों की सबसे तेज़ वेब्साईट
www.yoyocial.news